Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » केवट के भाग्य (Fate of Kevat)

केवट के भाग्य (Fate of Kevat)

kevat-ke-bhagya-prasang

kevat-ke-bhagya-prasang

kevat ram sita parsang

kevat ram sita parsang

 

श्रीराम के बार-बार मना करने पर भी अयोध्यावासी वापस नहीं लौट रहे थे। श्रीराम भी उनके दु:ख से दु: खी थे। पूरी रात अभी बाकी थी। तभी श्रीराम ने सुमन्त्र को रथ ले चलने के लिए कहा और सीता तथा लक्ष्मण के साथ अयोध्या वासियों को सोता हुआ छोड़कर वे चल दिए। जब राम, लक्ष्मण, सीता गंगा पार करने को तट पर पहुंचते हैं तो केवट श्रीरामजी को नाव पर चढ़ाने से पूर्व चरण धोने की शर्त रखता है। भगवान को माननी पड़ती है। भगवान श्रीरामजी के चरणों को हाथ में लेकर जब केवट चरण धोने लगता है तो श्रीरामजी कहते हैं कि केवट ऐसे तो मैं गिर जाऊंगा। तब भक्त कहता है कि प्रभु यदि आपको लगता है कि आप गिर जाएंगे तो अपने दोनों हाथों से मेरा सिर पकड़ लीजिए। श्रीरामजी अपने दोनों हाथ केवट के सिर पर रख देते हैं, केवट के सिर पर भगवान के दोनों हाथ और केवट के हाथों में प्रभु के चरण इस स्थिति को देख समस्त देवता केवट के भाग्य की सराहना करते हुए पुष्पवृष्टि करते हैं और जब श्रीराम जी सीताजी व लक्ष्मण सहित गंगा पार पहुंचते हैं, तब वन में रहने के उचित स्थान की तलाश में वाल्मीकिजी के आश्रम पहुंचकर पूछते हैं कि मुझे वन में कहां रहना चाहिए तो वाल्मीकिजी कहते हैं प्रभु संसार में ऐसा कौन-सा स्थान है, जहां पर आप नहीं है।

 

in English

Kevaṭ ke bhaagy
shreeraam ke baar-baar manaa karane par bhee ayodhyaavaasee vaapas naheen lauṭ rahe the. Shreeraam bhee unake duahkh se duahkhee the. Pooree raat abhee baakee thee. Tabhee shreeraam ne sumantr ko rath le chalane ke lie kahaa aur Seetaa tathaa Lakṣmaṇa ke saath Ayodhyaa vaasiyon ko sotaa huaa chhodkar ve chal die. Jab raam, lakṣmaṇa, seetaa gngaa paar karane ko taṭ par pahunchate hain to kevaṭ shreeraamajee ko naav par chaḍhxaane se poorv charaṇa dhone kee shart rakhataa hai. Bhagavaan ko maananee padtee hai. Bhagavaan shreeraamajee ke charaṇaon ko haath men lekar jab kevaṭ charaṇa dhone lagataa hai to shreeraamajee kahate hain ki kevaṭ aise to main gir jaa_oongaa. Tab bhakt kahataa hai ki prabhu yadi aapako lagataa hai ki aap gir jaa_enge to apane donon haathon se meraa sir pakad leejie. Shreeraamajee apane donon haath kevaṭ ke sir par rakh dete hain, kevaṭ ke sir par bhagavaan ke donon haath aur kevaṭ ke haathon men prabhu ke charaṇa is sthiti ko dekh samast devataa kevaṭ ke bhaagy kee saraahanaa karate hue puṣpavriṣṭi karate hain aur jab shreeraam jee seetaajee v lakṣmaṇa sahit gngaa paar pahunchate hain, tab van men rahane ke uchit sthaan kee talaash men vaalmeekijee ke aashram pahunchakar poochhate hain ki mujhe van men kahaan rahanaa chaahie to vaalmeekijee kahate hain prabhu snsaar men aisaa kaun-saa sthaan hai, jahaan par aap naheen hai.

Comments

comments