Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » खिड़की मस्जिद

खिड़की मस्जिद

khirki-masjid

khirki-masjid

Khirki Masjid Story

खिड़की मस्जिद दक्षिणी दिल्ली के खिड़की गाँव में स्थित है। इस मस्जिद का निर्माण फ़िरोज़ शाह तुग़लक़ के प्रधानमंत्री जहान जुनैन शाह ने 1380 में करवाया था। फ़िरोज़ शाह तुगलक ने खिड़की मस्जिद मकबरे और मदरसे का निर्माण करवाया जो खिड़की मस्जिद परिसर में स्थित है। मस्जिद के अंदर बनी खूबसूरत खिड़कियों के कारण इसका नाम खिड़की मस्जिद पड़ा।

खिड़की मस्जिद की विशेषताएँ (Qualities of Khirkee Masjid)

(1) यह मस्जिद दो मंजिला है।
(2) मस्जिद के चारों कोनों पर बुर्ज बने हैं जो इसे किले का रूप देते हैं।
(3) मस्जिद के तीन दरवाजों पर मीनारें बनी हैं।
(4) पुराने समय में पूर्वी द्वार से प्रवेश किया जाता था।
(5) लेकिन अब दक्षिण द्वार पर्यटकों और श्रद्धालुओं के लिए भी खुला रहता है।

खिड़की गाँव की वर्तमान स्थिति (Khirkee Village)

खिड़की गाँव शहरीकृत गाँव है। इसका लम्बा इतिहास है। खिड़की मस्जिद के चारों तरह आबाद होने से आज वह साधन विकास (साकेत जनपद केंद्र व जिला न्यायालय) से एकदम जुड़ गया है। साथ ही इसकी अधिकांश कृषि भूमि पर अब खिड़की एक्सटेंशन नामक कालोनी आबाद है।


 

Khidakee masjid dakshinee dillee ke khidakee gaanv mein sthit hai. is masjid ka nirmaan firoz shaah tugalaq ke pradhaanamantree jahaan junain shaah ne 1380 mein karavaaya tha. firoz shaah tugalak ne khidakee masjid makabare aur madarase ka nirmaan karavaaya jo khidakee masjid parisar mein sthit hai. masjid ke andar banee khoobasoorat khidakiyon ke kaaran isaka naam khidakee masjid pada.

khidakee masjid kee visheshataen (khirkaiai masjid ke gun)

(1) yah masjid do manjila hai.
(2) masjid ke chaaron konon par burj bane hain jo ise kile ka roop dete hain.
(3) masjid ke teen daravaajon par meenaaren banee hain.
(4) puraane samay mein poorvee dvaar se pravesh kiya jaata tha.
(5) lekin ab dakshin dvaar paryatakon aur shraddhaaluon ke lie bhee khula rahata hai.

khidakee gaanv kee vartamaan sthiti (khirkaiai gaanv)

khidakee gaanv shahareekrt gaanv hai. isaka lamba itihaas hai. khidakee masjid ke chaaron tarah aabaad hone se aaj vah saadhan vikaas (saaket janapad kendr va jila nyaayaalay) se ekadam jud gaya hai. saath

Comments

comments