Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » जानिए ईसाई धर्म को (Know Christianity)

जानिए ईसाई धर्म को (Know Christianity)

know-christianity

know-christianity

Christianity

Christianity

ईसाई धर्म (Christianity) दुनिया में सबसे अधिक माने जाना वाला धर्म है। ईसा मसीह के कथनों पर अमल करने वाले इस धर्म का इतिहास रोचक घटनाओं और प्रेरक संदेशों से भरा है। अपने वर्चस्व के लिए इस धर्म ने कई यातनाएं सही और आज दुनिया के सबसे अधिक माने जाने वाले धर्मों में से एक बना है। मानवता को सर्वोच्च मानने वाले ईसाई धर्म की लोकप्रियता का एक अहम कारण इसका लचीलापन है।
ईसाई धर्म का इतिहास (History of Christianity in Hindi)
ईसाई धर्म के प्रवर्तक ईसा मसीह का जन्म 6 ईं. पू. में हुआ था। अपने जीवन काल में ईसा मसीह ने ईसाई धर्म को दुनिया भर में फैलाने का सपना देखा। परमेश्वर और मानवता में उनके विश्वास को देखते हुए लोग उनके दिखाए राह पर चल निकले।
रोमन साम्राज्य की खिलाफत और ईसा मसीह का मसीहा बनना  
ईसाई धर्म में ईसा मसीह को परमेश्वर का पुत्र माना जाता है। ईसा मसीह के जन्म के समय यहूदी लोग रोमन साम्राज्य के अधीन थे और अपनी आजादी के लिए व्याकुल थे। लेकिन जल्द ही यहूदियों के जीवन में ईसा मसीह एक प्रकाश बन कर आएं। गरीबों की सहायता कर वह जल्द ही जनता के बीच लोकप्रिय हो गए।
ईसा मसीह की मृत्यु (Death of Jesus)
लेकिन ईसा मसीह की लोकप्रियता के बाद जल्द ही उनके कुछ विरोधी भी सामने आए। यहूदियों की धर्मसभा ने उनपर पाखंड करने और खुद को भगवान का पुत्र बनाने का आरोप लगाकर मौत की सजा दी। उन्हें क्रॉस पर लटका दिया गया।
अपनी मृत्यु के समय भी ईसा मसीह का मानवता से विश्वास नहीं डगमगाया और उन्होंने अपने अनुयायियों को संदेश दिया कि इन लोगों को (जिन्होंने ईसा मसीह को सजा दी) माफ करना, यह नहीं जानते कि यह क्या कर रहे हैं।
ईसाई धर्म का फैलना
कहा जाता है कि ईसा मसीह मृत्यु के दो दिन बाद  जीवित हो उठे थे। इसके बाद उनके अनुयायियों ने फ़िलीस्तीन, रोम और यूरोप आदि जगहों पर ईसाई धर्म का प्रचार-प्रसार किया।
ईसाई धर्म में भगवान
ईसाई धर्म के लोग ईश्वर को ‘पिता’ और ईसा मसीह को ‘ईश्वर का पुत्र’ और पवित्र आत्माओं को ईश्वर का दूत मानकर इनकी पूजा करते हैं।
ईसाई धर्म के प्रमुख संप्रदाय 
ईसाई धर्म में बहुत से समुदाय हैं जैसे रोमन कैथोलिक, प्रोटैस्टैंट, आर्थोडोक्स, मॉरोनी, एवनजीलक आदि। इनमें से रोमन कैथोलिक संप्रदाय के लोग मानते हैं कि वेटिकन स्थित पोप ईसा मसीह के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी हैं। लेकिन प्रोटैस्टैंट संप्रदाय से जुड़े लोग पोप की सर्वोच्च शक्ति को नहीं मानते, उनका दृष्टिकोण बेहद उदार है। वह नियमों को समय के साथ बदलने पर जोर देते हैं।

भारत  में  ईसाई  धर्म (Christianity​ in India)
कहा जाता है कि भारत में ईसाई धर्म का प्रचार संत टॉमस ने प्रथम शताब्दी में चेन्नई में आकर किया था। इसके बाद बड़े पैमाने पर भारत में ईसाई धर्म ने तब पांव पसारे जब मदर टेरेसा ने भारत आकर अपनी सेवाएं दी।

wish4me to English

eesaee dharm (chhristianity) duniya mein sabase adhik maane jaana vaala dharm hai. eesa maseeh ke kathanon par amal karane vaale is dharm ka itihaas rochak ghatanaon aur prerak sandeshon se bhara hai. apane varchasv ke lie is dharm ne kaee yaatanaen sahee aur aaj duniya ke sabase adhik maane jaane vaale dharmon mein se ek bana hai. maanavata ko sarvochch maanane vaale eesaee dharm kee lokapriyata ka ek aham kaaran isaka lacheelaapan hai.
eesaee dharm ka itihaas (history of chhristianity in hindi)
eesaee dharm ke pravartak eesa maseeh ka janm 6 een. poo. mein hua tha. apane jeevan kaal mein eesa maseeh ne eesaee dharm ko duniya bhar mein phailaane ka sapana dekha. parameshvar aur maanavata mein unake vishvaas ko dekhate hue log unake dikhae raah par chal nikale.
roman saamraajy kee khilaaphat aur eesa maseeh ka maseeha banana
eesaee dharm mein eesa maseeh ko parameshvar ka putr maana jaata hai. eesa maseeh ke janm ke samay yahoodee log roman saamraajy ke adheen the aur apanee aajaadee ke lie vyaakul the. lekin jald hee yahoodiyon ke jeevan mein eesa maseeh ek prakaash ban kar aaen. gareebon kee sahaayata kar vah jald hee janata ke beech lokapriy ho gae.
eesa maseeh kee mrtyu (daiath of jaisus)
lekin eesa maseeh kee lokapriyata ke baad jald hee unake kuchh virodhee bhee saamane aae. yahoodiyon kee dharmasabha ne unapar paakhand karane aur khud ko bhagavaan ka putr banaane ka aarop lagaakar maut kee saja dee. unhen kros par lataka diya gaya.
apanee mrtyu ke samay bhee eesa maseeh ka maanavata se vishvaas nahin dagamagaaya aur unhonne apane anuyaayiyon ko sandesh diya ki in logon ko (jinhonne eesa maseeh ko saja dee) maaph karana, yah nahin jaanate ki yah kya kar rahe hain.
eesaee dharm ka phailana
kaha jaata hai ki eesa maseeh mrtyu ke do din baad jeevit ho uthe the. isake baad unake anuyaayiyon ne fileesteen, rom aur yoorop aadi jagahon par eesaee dharm ka prachaar-prasaar kiya.
eesaee dharm mein bhagavaan
eesaee dharm ke log eeshvar ko pita aur eesa maseeh ko eeshvar ka putr aur pavitr aatmaon ko eeshvar ka doot maanakar inakee pooja karate hain.
eesaee dharm ke pramukh sampradaay
eesaee dharm mein bahut se samudaay hain jaise roman kaitholik, protaistaint, aarthodoks, moronee, evanajeelak aadi. inamen se roman kaitholik sampradaay ke log maanate hain ki vetikan sthit pop eesa maseeh ke aadhyaatmik uttaraadhikaaree hain. lekin protaistaint sampradaay se jude log pop kee sarvochch shakti ko nahin maanate, unaka drshtikon behad udaar hai. vah niyamon ko samay ke saath badalane par jor dete hain.

bhaarat mein eesaee dharm (chhristianity​ in indi)
kaha jaata hai ki bhaarat mein eesaee dharm ka prachaar sant tomas ne pratham shataabdee mein chennee mein aakar kiya tha. isake baad bade paimaane par bhaarat mein eesaee dharm ne tab paanv pasaare jab madar teresa ne bhaarat aakar apanee sevaen dee.

Comments

comments