Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » जानिए सिख धर्म को (Know Sikhism)

जानिए सिख धर्म को (Know Sikhism)

know-sikhism

know-sikhism

Know Sikhism

Know Sikhism

सिख धर्म का उदय गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं के साथ होता है। सिख का अर्थ है शिष्य। जो लोग गुरु नानक जी की शिक्षाओं पर चलते गए, वे सिख हो गए। यह धर्म विश्व का नौवां बड़ा धर्म है। भारत के प्रमुख चार धर्मों में इसका स्थान भी है। सिख धर्म की पहचान पगड़ी और अन्य पोशाकों से भी की जाती है लेकिन ऐसे भी कई सिख होते हैं जो पगड़ी धारण नहीं करते।

नानक साहब ने रखी नींव (Guru Nanak Dev: Founder of Sikhism)

गुरु नानक देव जी ने ही सिख धर्म की नींव रखी थी। इनका जन्म 1469 ईस्वी में लाहौर के तलवंडी (अब ननकाना साहिब) में हुआ। बचपन से ही उनका मन एकांत, चिंतन और सत्संग में लगता था। सांसारिक चीजों में उनका मन लगाने के लिए उनका विवाह कर दिया गया। परन्तु यह सब गुरु नानक जी को परमात्मा के नाम से दूर नहीं कर पाया। उन्होंने घर छोड़कर घूमना शुरू कर दिया। पंजाब, मक्का, मदीना, काबुल, सिंहल, कामरूप, पुरी, दिल्ली, कश्मीर, काशी, हरिद्वार जैसी जगहों पर जाकर उन्होंने लोगों को उपदेश दिए। उनका कहना था कि हिन्दू-मुस्लिम अलग नहीं हैं और सबको एक ही भगवान ने बनाया है।

उन्होंने कहा, एक ओंकार (ईश्वर एक है), सतनाम (उसका नाम ही सच है), करता पुरख (सबको बनाने वाला), अकाल मूरत (निराकार), निरभउ (निर्भय), निरवैर (किसी का दुश्मन नहीं), अजूनी सैभं (जन्म-मरण से दूर) और अपनी सत्ता कायम रखने वाला है। ऐसे परमात्मा को गुरु नानक जी ने अकाल पुरख कहा, जिसकी शरण गुरु के बिना संभव नहीं। उनके सहज ज्ञान के साथ लोग जुड़ते गए। उनके शिष्य बनते गए। गुरु नानक से चली सिख परम्परा में नौ और गुरु हुए। अंतिम और दसवें देहधारी गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी थे।

भक्तिमार्ग से सिपाही बनें सिख (History of Sikhism)

गुरु नानक देव जी के कथनों पर चलते हुए सिख धर्म एक संत समुदाय से शुरु हुआ। लेकिन समय के साथ सिख समुदाय ने अपनी वीरता के भी जलवे दिखाए। अंतिम गुरु गुरु गोबिंद सिंह जी के काल में सिखों की एक बेहतरीन और कुशल लड़ाके की सेना तैयार हो चुकी थी। सिख कौम ने संत और सैनिक दोनों के भावों को खुद में समाया। वक्त के साथ खुद को बदलते रखने की कला के कारण ही आज सिख धर्म विश्व के रह हिस्से में पाया जाता है।

अंतिम सिख गुरु और गुरु ग्रंथ साहिब जी का आना 

सिख धर्म के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण फैसला गुरु गोबिन्द सिंह जी ने किया। उन्होंने सभी गुरुओं की वाणी को एक ग्रंथ में समेटा और उस ग्रंथ को गुरु की गद्दी सौंपी और सिखों से कहा- अब कोई देहधारी गुरु नहीं होगा। सभी सिखों को आदेश है कि वे गुरु ग्रंथ साहिब जी को ही गुरु मानेंगे। तब से सिख धर्म में पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब को ही गुरु माना गया।

wish4me to English

sikh dharm ka uday guru naanak dev jee kee shikshaon ke saath hota hai. sikh ka arth hai shishy. jo log guru naanak jee kee shikshaon par chalate gae, ve sikh ho gae. yah dharm vishv ka nauvaan bada dharm hai. bhaarat ke pramukh chaar dharmon mein isaka sthaan bhee hai. sikh dharm kee pahachaan pagadee aur any poshaakon se bhee kee jaatee hai lekin aise bhee kaee sikh hote hain jo pagadee dhaaran nahin karate.

naanak saahab ne rakhee neenv (guru nanak daiv: foundair of sikhism)

guru naanak dev jee ne hee sikh dharm kee neenv rakhee thee. inaka janm 1469 eesvee mein laahaur ke talavandee (ab nanakaana saahib) mein hua. bachapan se hee unaka man ekaant, chintan aur satsang mein lagata tha. saansaarik cheejon mein unaka man lagaane ke lie unaka vivaah kar diya gaya. parantu yah sab guru naanak jee ko paramaatma ke naam se door nahin kar paaya. unhonne ghar chhodakar ghoomana shuroo kar diya. panjaab, makka, madeena, kaabul, sinhal, kaamaroop, puree, dillee, kashmeer, kaashee, haridvaar jaisee jagahon par jaakar unhonne logon ko upadesh die. unaka kahana tha ki hindoo-muslim alag nahin hain aur sabako ek hee bhagavaan ne banaaya hai.

unhonne kaha, ek onkaar (eeshvar ek hai), satanaam (usaka naam hee sach hai), karata purakh (sabako banaane vaala), akaal moorat (niraakaar), nirabhu (nirbhay), niravair (kisee ka dushman nahin), ajoonee saibhan (janm-maran se door) aur apanee satta kaayam rakhane vaala hai. aise paramaatma ko guru naanak jee ne akaal purakh kaha, jisakee sharan guru ke bina sambhav nahin. unake sahaj gyaan ke saath log judate gae. unake shishy banate gae. guru naanak se chalee sikh parampara mein nau aur guru hue. antim aur dasaven dehadhaaree guru, guru gobind sinh jee the.

bhaktimaarg se sipaahee banen sikh (history of sikhism)

guru naanak dev jee ke kathanon par chalate hue sikh dharm ek sant samudaay se shuru hua. lekin samay ke saath sikh samudaay ne apanee veerata ke bhee jalave dikhae. antim guru guru gobind sinh jee ke kaal mein sikhon kee ek behatareen aur kushal ladaake kee sena taiyaar ho chukee thee. sikh kaum ne sant aur sainik donon ke bhaavon ko khud mein samaaya. vakt ke saath khud ko badalate rakhane kee kala ke kaaran hee aaj sikh dharm vishv ke rah hisse mein paaya jaata hai.

antim sikh guru aur guru granth saahib jee ka aana

sikh dharm ke itihaas ka sabase mahatvapoorn phaisala guru gobind sinh jee ne kiya. unhonne sabhee guruon kee vaanee ko ek granth mein sameta aur us granth ko guru kee gaddee saumpee aur sikhon se kaha- ab koee dehadhaaree guru nahin hoga. sabhee sikhon ko aadesh hai ki ve guru granth saahib jee ko hee guru maanenge. tab se sikh dharm mein pavitr guru granth saahib ko hee guru maana gaya

Comments

comments