Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » जानिए जैन धर्म को (Know the Jainism)

जानिए जैन धर्म को (Know the Jainism)

know-the-jainism

know-the-jainism

Know the Jainism

Know the Jainism

पुराने समय में तप और मेहनत से ज्ञान प्राप्त करने वालों को श्रमण कहा जाता था। जैन धर्म प्राचीन भारतीय श्रमण परम्परा से ही निकला धर्म है। ऐसे भिक्षु या साधु, जो जैन धर्म के पांच महाव्रतों का पालन करते हों, को ‘जिन’ कहा गया। हिंसा, झूठ, चोरी, ब्रह्मचर्य और सांसारिक चीजों से दूर रहना इन महाव्रतों में शामिल हैं। जिन समुदाय के संयुक्त रूप को नाम मिला जैन धर्म का।

कौन हैं जैन

‘जिन’ के अनुयायियों को जैन कहा गया है। यह धर्म अनुयायियों को सिखाता है कि वे सत्य पर टिकें, प्रेम करें, हिंसा से दूर रहें, दया-करुणा का भाव रखें, परोपकारी बनें और भोग-विलास से दूर रहकर हर काम पवित्र और सात्विक ढंग से करें। मान्यता है कि जैन पंथ का मूल उन पुरानी परम्पराओं में रहा होगा, जो इस देश में आर्यों के आने से पहले प्रचलित थीं। यदि आर्यों के आने के बाद से भी देखें तो ऋषभदेव और अरिष्टनेमि को लेकर जैन धर्म की परम्परा वेदों तक पहुंचती है। महाभारत के समय इस पंथ के तीर्थंकर नेमिनाथ थे।

तीर्थंकर की भूमिका

जैन धर्म में 24 तीर्थंकर हुए हैं । तीर्थंकर उन जैन अनुयायियों को कहा जाता है जिन्हें कैवल्य ज्ञान की प्राप्ति हो गई हो। जैन धर्म के तीर्थंकरों ने अपने मन, अपनी वाणी और काया को जीत लिया था।

जैन धर्म के संप्रदाय

जैन धर्म के अंतिम तीर्थंकर महावीर वर्धमान हुए। उन्होंने जैन धर्म को काफी मजबूत किया। इस वक्त जैन धर्म के दो दल हैं। एक श्वेतांबर मुनि (सफेद कपड़े धारण करने वाले) तो दूसरे दिंगबर (बिना कपड़े धारण किए रहने वाले) मुनि।

wish4me to English

puraane samay mein tap aur mehanat se gyaan praapt karane vaalon ko shraman kaha jaata tha. jain dharm praacheen bhaarateey shraman parampara se hee nikala dharm hai. aise bhikshu ya saadhu, jo jain dharm ke paanch mahaavraton ka paalan karate hon, ko ‘jin’ kaha gaya. hinsa, jhooth, choree, brahmachary aur saansaarik cheejon se door rahana in mahaavraton mein shaamil hain. jin samudaay ke sanyukt roop ko naam mila jain dharm ka.

kaun hain jain

‘jin’ ke anuyaayiyon ko jain kaha gaya hai. yah dharm anuyaayiyon ko sikhaata hai ki ve saty par tiken, prem karen, hinsa se door rahen, daya-karuna ka bhaav rakhen, paropakaaree banen aur bhog-vilaas se door rahakar har kaam pavitr aur saatvik dhang se karen. maanyata hai ki jain panth ka mool un puraanee paramparaon mein raha hoga, jo is desh mein aaryon ke aane se pahale prachalit theen. yadi aaryon ke aane ke baad se bhee dekhen to rshabhadev aur arishtanemi ko lekar jain dharm kee parampara vedon tak pahunchatee hai. mahaabhaarat ke samay is panth ke teerthankar neminaath the.

teerthankar kee bhoomika

jain dharm mein 24 teerthankar hue hain . teerthankar un jain anuyaayiyon ko kaha jaata hai jinhen kaivaly gyaan kee praapti ho gaee ho. jain dharm ke teerthankaron ne apane man, apanee vaanee aur kaaya ko jeet liya tha.

jain dharm ke sampradaay

jain dharm ke antim teerthankar mahaaveer vardhamaan hue. unhonne jain dharm ko kaaphee majaboot kiya. is vakt jain dharm ke do dal hain. ek shvetaambar muni (saphed kapade dhaaran karane vaale) to doosare dingabar (bina kapade dhaaran kie rahane vaale) muni

Comments

comments