Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » कृष्णदर्शन – भगवान शिव के अवतार

कृष्णदर्शन – भगवान शिव के अवतार

krshnadarshan-bhagavaan-shiv-ke-avataar

krshnadarshan-bhagavaan-shiv-ke-avataar

krshnadarshan - bhagavaan shiv ke avataar

krshnadarshan – bhagavaan shiv ke avataar

श्राद्धदेव नामक मनु के सबसे छोटे पुत्र का नाम नभग था । भगवान शिव ने उन्हें ज्ञान प्रदान किया था । मनुपुत्र नभग बड़े ही बुद्धिमान थे । जिस समय नभग गुरुकुल में निवास कर रहे थे उसी बीच उनके इक्ष्वाकु आदि भाईयों ने नभग लिए कोई भाग न देकर पिता की सारी संपत्ति आपस में बांट ली और अपना – अपना भाग लेकर राज्य का संचालन करने लगे । कुछ काल के बाद ब्रह्मचारी नभग गुरुकुल से वेदों का अध्ययन करके वहां आएं । उन्होंने देखा कि सब भाई सारी संपत्ति का बंटवारा करके अपना अपना भाग ले चुके हैं । नभग ने अपने भाइयों से कहा कि आप लोगों ने मेरे लिए हिस्सा दिए बिना आपस में पिता की सारी संपत्ति का बंटवारा कर लिया । अत: अब प्रसन्नतापूर्वक मुझे भी हिस्सा दीजिए । मैं अपना भाग प्राप्त करने के लिए यहां आया हूं । नभग के भाइयों ने कहा कि जब संपत्ति का बंटवारा हो रहा था उस समय हम तुम्हारे लिए हिस्सा देना भूल गए । अब हम पिताजी को ही तुम्हारे हिस्से में देते हैं । भाइयों का यह वचन सुनकर नभग को बड़ा विस्मय हुआ । वे पिता के पास गए और उन्हें भाइयों के साथ हुई सारी बातों की जानकारी दी । श्राद्धदेव ने कहा – ‘बेटा ! तुम्हारे भाइयों ने ये बातें तुम्हें ठगने के लिए कही हैं । फिर भी मैं तुम्हारी जीविका का एक उपाय बताता हूं । इस समय गोत्रीय ब्राह्मण एक बहुत बड़ा यज्ञ कर रहे हैं । प्रत्येक छठे दिन के यज्ञ में उनसे भूल हो जाती है । तुम वहां जाओ और उन ब्राह्मणों को विश्वेदेव – संबंधी दो सुक्त बतला दो । यज्ञ समाप्त होने पर जब वे ब्राह्मण स्वर्ग जाने लगेंगे, तब तुम्हें यज्ञ से बचा हुआ सारा धन दे देंगे ।’ पिता के आदेश से सत्यवादी नभग बड़ी प्रसन्नता के साथ उस उत्तम यज्ञ में गए और छठे दिन के यज्ञ कर्म में उन्होंने विश्वेदेव संबंधी दोनों सुक्तों का स्पष्ट रूप से उच्चारण किया । यज्ञकर्म समाप्त होने पर वे ब्राह्मण यज्ञ से अवशेष अपना – अपना धन नभग को देकर स्वर्ग को चले गए । यज्ञशिष्ट धन को जब नभग ग्रहण करने लगे, उस समय सुंदर लीला करने वाले भगवान शिव कृष्णदर्शन – रूप में प्रकट हो गए । उन्होंने नभग से पूछा – ‘तुम इस धन को क्यों ले रहे हो ? यह तो मेरी संपत्ति है ।’ नभग ने कहा – ‘यह यज्ञशेष धन मुझे ऋषियों ने दिया है । तुम रोकने वाले कौन होते हो ?’ कृष्णदर्शन ने कहा – तात ! हम दोनों के इस झगड़े के तुम्हारे पिता ही पंच रहेंगे, वहीं बताएंगे कि यह संपत्ति किसकी है । जाकर उनसे पूछो और जो निर्णय दें, उसे ठीक – ठाक बताओ । नभग ने जब अपने पिता से पूछा तो उन्होंने कहा – पुत्र ! वे साक्षात् भगवान शिव हैं । यों तो संसार की सभी वस्तुएं ही उनकी हैं, किंतु यज्ञशेष धन पर केवल भगवान रुद्र का ही अधिकार है । वे तुमपर विशेष कृपा करने के लिए वहां आएं हैं । तुम उनकी स्तुति करके उन्हें प्रसन्न करो और अपने अपराध के लिए उनसे क्षमा मांगो । नभग पिता की आज्ञा से वहां गए और हाथ जोड़कर बोले – महेश्वर ! यह सारी त्रिलोकी आपकी है । फिर यज्ञ से बचे हुए धन के लिए तो कहना ही क्या है । निश्चय ही इसपर आपका ही अधिकार है । यहीं मेरे पिता का निर्णय है । मैंने यथार्थ न जानने के कारण जो कुछ कहा है, उसके लिए आप मुझे क्षमा करें । भगवान कृष्णदर्शन बोले – नभग ! तुम्हारे पिता के धर्मानुकूल निर्णय एवं तुम्हारी सत्यवादिता से मैं परम प्रसन्न हूं । मैं तुम्हें सनातन ब्रह्मतत्त्व के उपदेश के साथ इस यज्ञ का सारा धन देता हूं । ऐसा कहकर भगवान रुद्र अंतर्धान हो गए ।

wish4me to English

shraaddhadev naamak manu ke sabase chhote putr ka naam nabhag tha . bhagavaan shiv ne unhen gyaan pradaan kiya tha . manuputr nabhag bade hee buddhimaan the . jis samay nabhag gurukul mein nivaas kar rahe the usee beech unake ikshvaaku aadi bhaeeyon ne nabhag lie koee bhaag na dekar pita kee saaree sampatti aapas mein baant lee aur apana – apana bhaag lekar raajy ka sanchaalan karane lage . kuchh kaal ke baad brahmachaaree nabhag gurukul se vedon ka adhyayan karake vahaan aaen . unhonne dekha ki sab bhaee saaree sampatti ka bantavaara karake apana apana bhaag le chuke hain . nabhag ne apane bhaiyon se kaha ki aap logon ne mere lie hissa die bina aapas mein pita kee saaree sampatti ka bantavaara kar liya . at: ab prasannataapoorvak mujhe bhee hissa deejie . main apana bhaag praapt karane ke lie yahaan aaya hoon . nabhag ke bhaiyon ne kaha ki jab sampatti ka bantavaara ho raha tha us samay ham tumhaare lie hissa dena bhool gae . ab ham pitaajee ko hee tumhaare hisse mein dete hain . bhaiyon ka yah vachan sunakar nabhag ko bada vismay hua . ve pita ke paas gae aur unhen bhaiyon ke saath huee saaree baaton kee jaanakaaree dee . shraaddhadev ne kaha – ‘beta ! tumhaare bhaiyon ne ye baaten tumhen thagane ke lie kahee hain . phir bhee main tumhaaree jeevika ka ek upaay bataata hoon . is samay gotreey braahman ek bahut bada yagy kar rahe hain . pratyek chhathe din ke yagy mein unase bhool ho jaatee hai . tum vahaan jao aur un braahmanon ko vishvedev – sambandhee do sukt batala do . yagy samaapt hone par jab ve braahman svarg jaane lagenge, tab tumhen yagy se bacha hua saara dhan de denge .’ pita ke aadesh se satyavaadee nabhag badee prasannata ke saath us uttam yagy mein gae aur chhathe din ke yagy karm mein unhonne vishvedev sambandhee donon sukton ka spasht roop se uchchaaran kiya . yagyakarm samaapt hone par ve braahman yagy se avashesh apana – apana dhan nabhag ko dekar svarg ko chale gae . yagyashisht dhan ko jab nabhag grahan karane lage, us samay sundar leela karane vaale bhagavaan shiv krshnadarshan – roop mein prakat ho gae . unhonne nabhag se poochha – ‘tum is dhan ko kyon le rahe ho ? yah to meree sampatti hai .’ nabhag ne kaha – ‘yah yagyashesh dhan mujhe rshiyon ne diya hai . tum rokane vaale kaun hote ho ?’ krshnadarshan ne kaha – taat ! ham donon ke is jhagade ke tumhaare pita hee panch rahenge, vaheen bataenge ki yah sampatti kisakee hai . jaakar unase poochho aur jo nirnay den, use theek – thaak batao . nabhag ne jab apane pita se poochha to unhonne kaha – putr ! ve saakshaat bhagavaan shiv hain . yon to sansaar kee sabhee vastuen hee unakee hain, kintu yagyashesh dhan par keval bhagavaan rudr ka hee adhikaar hai . ve tumapar vishesh krpa karane ke lie vahaan aaen hain . tum unakee stuti karake unhen prasann karo aur apane aparaadh ke lie unase kshama maango . nabhag pita kee aagya se vahaan gae aur haath jodakar bole – maheshvar ! yah saaree trilokee aapakee hai . phir yagy se bache hue dhan ke lie to kahana hee kya hai . nishchay hee isapar aapaka hee adhikaar hai . yaheen mere pita ka nirnay hai . mainne yathaarth na jaanane ke kaaran jo kuchh kaha hai, usake lie aap mujhe kshama karen . bhagavaan krshnadarshan bole – nabhag ! tumhaare pita ke dharmaanukool nirnay evan tumhaaree satyavaadita se main param prasann hoon . main tumhen sanaatan brahmatattv ke upadesh ke saath is yagy ka saara dhan deta hoon . aisa kahakar bhagavaan rudr antardhaan ho gae

Comments

comments