Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru Parvachan » लक्ष्य पर ध्यान: स्वामी विवेकानन्द

लक्ष्य पर ध्यान: स्वामी विवेकानन्द

lakshye-per-dhyan

lakshye-per-dhyan

lakshye per dhyan story
स्वामी विवेकानन्द अमेरिका में भ्रमण कर रहे थे। एक जगह से गुजरते हुए उन्होंने पुल पर खड़े कुछ लड़कों को नदी में तैर रहे अंडे के छिलकों पर बन्दूक से निशाना लगाते देखा। किसी भी लड़के का एक भी निशाना सही नहीं लग रहा था। तब उन्होंने ने एक लड़के से बन्दूक ली और खुद निशाना लगाने लगे। उन्होंने पहला निशाना लगाया और वो बिलकुल सही लगा। फिर एक के बाद एक उन्होंने कुल 12 निशाने लगाये और सभी बिलकुल सटीक लगे। ये देख लड़के दंग रह गए और उनसे पूछा, भला आप ये कैसे कर लेते हैं ?
स्वामी जी बोले , “तुम जो भी कर रहे हो अपना पूरा दिमाग उसी एक काम में लगाओ। अगर तुम निशाना लगा रहे हो तो तम्हारा पूरा ध्यान सिर्फ अपने लक्ष्य पर होना चाहिए। तब तुम कभी चूकोगे नहीं। अगर तुम अपना पाठ पढ़ रहे हो तो सिर्फ पाठ के बारे में सोचो। मेरे देश में बच्चों को ये करना सिखाया जाता है।”


svaamee vivekaanand amerika mein bhraman kar rahe the. ek jagah se gujarate hue unhonne pul par khade kuchh ladakon ko nadee mein tair rahe ande ke chhilakon par bandook se nishaana lagaate dekha. kisee bhee ladake ka ek bhee nishaana sahee nahin lag raha tha. tab unhonne ne ek ladake se bandook lee aur khud nishaana lagaane lage. unhonne pahala nishaana lagaaya aur vo bilakul sahee laga. phir ek ke baad ek unhonne kul 12 nishaane lagaaye aur sabhee bilakul sateek lage. ye dekh ladake dang rah gae aur unase poochha, bhala aap ye kaise kar lete hain?
svaamee jee bole, “tum jo bhee kar rahe ho apana poora dimaag usee ek kaam mein lagao. agar tum nishaana laga rahe ho to tamhaara poora dhyaan sirph apane lakshy par hona chaahie. tab tum kabhee chookoge nahin. agar tum apana paath padh rahe ho to sirph paath ke baare mein socho. mere desh mein bachchon ko ye karana sikhaaya jaata hai. “

Comments

comments