Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » जानिये तुलसीदास जी के बारे में (Learn about Tulsidas)

जानिये तुलसीदास जी के बारे में (Learn about Tulsidas)

learn-about-tulsidas

learn-about-tulsidas

Learn about Tulsidas

Learn about Tulsidas

श्रावण महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गोस्वामी तुलसीदास की जयंती मनाई जाती है। इस बार उनकी जयंती 10 अगस्त, बुधवार को है। तुलसीदासजी ने ही श्रीरामचरितमानस की रचना की है। अपने जीवनकाल में उन्होंने 12 ग्रंथ लिखे। उन्हें संस्कृत विद्वान होने के साथ ही हिन्दी भाषा के प्रसिद्ध और सर्वश्रेष्ठ कवियों में एक माना जाता है। तुलसीदासजी को महर्षि वाल्मीकि का अवतार भी कहा जाता है। श्रीरामचरितमानस के बाद विनय पत्रिका तुलसीदासकृत एक अन्य महत्वपूर्ण काव्य है।

तुलसीदासजी को दिए थे भगवान ने दर्शन
ऐसा माना जाता है कि तुलसीदासजी ने हनुमान तथा राम-लक्ष्मण के साथ ही भगवान शिव-पार्वती के साक्षात दर्शन प्राप्त किए थे। इस संबंध में एक दोहा भी प्रचलित है-
चित्रकूट के घाट पर, भइ सन्तन की भीर।
तुलसीदास चन्दन घिसें, तिलक देत रघुबीर॥

भगवान श्रीराम की महिमा का वर्णन जिस प्रकार श्रीरामचरितमानस में गोस्वामी तुलसीदास ने किया है, वैसा वर्णन किसी अन्य ग्रंथ में नहीं मिलता। यही कारण है श्रीरामचरितमानस को हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र ग्रंथ माना जाता है। गोस्वामी तुलसीदास को भी हिंदी साहित्य में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है।

1. गोस्वामी तुलसीदासजी का जन्म संवत् 1554 में हुआ था। जन्म लेने के बाद बालक तुलसीदास रोए नहीं बल्कि उनके मुख से राम का शब्द निकला। जन्म से ही उनके मुख में बत्तीस दांत थे। बाल्यवास्था में इनका नाम रामबोला था। काशी में शेषसनातनजी के पास रहकर तुलसीदासजी ने वेद-वेदांगों का अध्ययन किया।
2. संवत् 1583 में तुलसीदासजी का विवाह हुआ। वे अपनी पत्नी से बहुत प्रेम करते थे। एक बार जब उनकी पत्नी अपने मायके गईं तो पीछे-पीछे वे भी वहां पहुंच गए। पत्नी ने जब यह देखा तो उन्होंने तुलसीदासजी से कहा कि जितनी तुम्हारी मुझमें आसक्ति है, उससे आधी भी यदि भगवान में होती तो तुम्हारा कल्याण हो जाता। पत्नी की यह बात तुलसीदासजी को चुभ गई और उन्होंने गृहस्थ आश्रम त्याग दिया व साधुवेश धारण कर लिया।

3. तीर्थाटन करते हुए तुलसीदासजी काशी आ गए। यहां उन्हें एक प्रेत मिला, जिसने उन्हें हनुमानजी का पता बतलाया। हनुमानजी से मिलकर तुलसीदासजी ने उनसे श्रीराम के दर्शन कराने की प्रार्थना की। तब हनुमानजी ने कहा कि तुम्हें चित्रकूट में श्रीराम के दर्शन होंगे। यह सुनकर तुलसीदासजी चित्रकूट आ गए। यहां उन्हें श्रीराम के दर्शन हुए, लेकिन वे भगवान को पहचान नहीं पाए।
4. तब हनुमानजी ने कहा कि सुबह फिर आपको श्रीराम के दर्शन होंगे। संवत 1607 की मौनी अमावस्या को श्रीराम बालक रूप में प्रकट हुए और उन्होंने तलुसीदास ने चंदन मांगा। तभी हनुमानजी ने तोते का रूप धारण कर यह दोहा कहा-
चित्रकूट के घाट पर भइ संतन की भीर।
तुससीदास चंदन घिसें तिलक देत रघुबीर

तुलसीदास समझ गए कि यही श्रीराम हैं। श्रीराम ने स्वयं अपने हाथ से तुलसीदासजी के मस्तक पर चंदन लगाया और अंतर्धान हो गए।

5. एक रात जब तुलसीदासजी सो रहे थे तब उन्हें सपना आया। सपने में भगवान शंकर ने उन्हें आदेश दिया कि तुम अपनी भाषा में काव्य रचना करो। तुरंत ही तुलसीदासजी की नींद टूट गई और वे उठ कर बैठ गए। तभी वहां भगवान शिव और पार्वती प्रकट हुए और उन्होंने कहा- तुम अयोध्या में जाकर रहो और हिंदी में काव्य रचना करो। मेरे आशीर्वाद से तुम्हारी रचना सामवेद के समान फलवती होगी। भगवान शिव की आज्ञा मानकर तुलसीदासजी अयोध्या आ गए।

6. संवत् 1631 को रामनवमी के दिन वैसा ही योग था जैसा त्रेतायुग में रामजन्म के समय था। उस दिन सुबह तुलसीदासजी ने श्रीरामचरितमानस की रचना प्रारंभ की। दो वर्ष, सात महीने व छब्बीस दिन में ग्रंथ की समाप्ति हुई। संवत् 1633 के मार्गशीर्ष शुक्लपक्ष में रामविवाह के दिन इस ग्रंथ के सातों कांड पूर्ण हुए और भारतीय संस्कृति को श्रीरामचरितमानस के रूप में अमूल्य निधि प्राप्त हुई।
7. यह ग्रंथ लेकर तुलसीदासजी काशी गए। रात को तुलसीदासजी ने यह पुस्तक भगवान विश्वनाथ के मंदिर में रख दी। सुबह जब मंदिर के पट खुले तो उस पर लिखा था- सत्यं शिवं सुंदरम्। और नीचे भगवान शंकर के हस्ताक्षर थे। उस समय उपस्थित लोगों ने सत्यं शिवं सुंदरम् की आवाज भी अपने कानों से सुनी।

8. अन्य पंडितों ने जब यह बात सुनी तो उनके मन में तुलसीदासजी के प्रति ईर्ष्या होने लगी। उन्होंने दो चोर श्रीरामचरितमानस को चुराने के लिए भेजे। चोर जब तुलसीदासजी की कुटिया के पास पहुंचे तो उन्होंने देखा कि दो वीर पुरुष धनुष बाण लिए पहरा दे रहे हैं। वे बड़े ही सुंदर और गोरे थे। उनके दर्शन से चोरों की बुद्धि शुद्ध हो गई और वे भगवान भजन में लग गए।

9. एक बार पंडितों ने श्रीरामचरितमानस की परीक्षा लेने की सोची। उन्होंने भगवान काशी विश्वनाथ के मंदिर में सामने सबसे ऊपर वेद, उनके नीचे शास्त्र, शास्त्रों के नीचे पुराण और सबसे नीचे श्रीरामचरितमानस ग्रंथ रख दिया। मंदिर बंद कर दिया गया। सुबह जब मंदिर खोला गया तो सभी ने देखा कि श्रीरामचरितमानस वेदों के ऊपर रखा हुआ है। यह देखकर पंडित लोग बहुत लज्जित हुए। उन्होंने तुलसीदासजी से क्षमा मांगी और श्रीरामचरितमानस के सर्वप्रमुख ग्रंथ माना।

10. इस ग्रंथ में रामलला के जीवन का जितना सुंदर वर्णन किया गया है उतना अन्य किसी ग्रंथ में पढऩे को नहीं मिलता। यही कारण है कि श्रीरामचरितमानस को सनातन धर्म में विशेष स्थान प्राप्त है। रामचरित मानस में कई ऐसी चौपाई भी तुलसीदास ने लिखी है जो विभिन्न परेशानियों के समय मनुष्य को सही रास्ता दिखाती है तथा उनका उचित निराकरण भी करती हैं।

wish4me to English

shraavan maheene ke shukl paksh kee saptamee tithi ko gosvaamee tulaseedaas kee jayantee manaee jaatee hai. is baar unakee jayantee 10 agast, budhavaar ko hai. tulaseedaasajee ne hee shreeraamacharitamaanas kee rachana kee hai. apane jeevanakaal mein unhonne 12 granth likhe. unhen sanskrt vidvaan hone ke saath hee hindee bhaasha ke prasiddh aur sarvashreshth kaviyon mein ek maana jaata hai. tulaseedaasajee ko maharshi vaalmeeki ka avataar bhee kaha jaata hai. shreeraamacharitamaanas ke baad vinay patrika tulaseedaasakrt ek any mahatvapoorn kaavy hai.

tulaseedaasajee ko die the bhagavaan ne darshan
aisa maana jaata hai ki tulaseedaasajee ne hanumaan tatha raam-lakshman ke saath hee bhagavaan shiv-paarvatee ke saakshaat darshan praapt kie the. is sambandh mein ek doha bhee prachalit hai-
chitrakoot ke ghaat par, bhi santan kee bheer.
tulaseedaas chandan ghisen, tilak det raghubeer.

bhagavaan shreeraam kee mahima ka varnan jis prakaar shreeraamacharitamaanas mein gosvaamee tulaseedaas ne kiya hai, vaisa varnan kisee any granth mein nahin milata. yahee kaaran hai shreeraamacharitamaanas ko hindoo dharm mein bahut hee pavitr granth maana jaata hai. gosvaamee tulaseedaas ko bhee hindee saahity mein mahatvapoorn sthaan praapt hai.

1. gosvaamee tulaseedaasajee ka janm sanvat 1554 mein hua tha. janm lene ke baad baalak tulaseedaas roe nahin balki unake mukh se raam ka shabd nikala. janm se hee unake mukh mein battees daant the. baalyavaastha mein inaka naam raamabola tha. kaashee mein sheshasanaatanajee ke paas rahakar tulaseedaasajee ne ved-vedaangon ka adhyayan kiya.
2. sanvat 1583 mein tulaseedaasajee ka vivaah hua. ve apanee patnee se bahut prem karate the. ek baar jab unakee patnee apane maayake gaeen to peechhe-peechhe ve bhee vahaan pahunch gae. patnee ne jab yah dekha to unhonne tulaseedaasajee se kaha ki jitanee tumhaaree mujhamen aasakti hai, usase aadhee bhee yadi bhagavaan mein hotee to tumhaara kalyaan ho jaata. patnee kee yah baat tulaseedaasajee ko chubh gaee aur unhonne grhasth aashram tyaag diya va saadhuvesh dhaaran kar liya.

3. teerthaatan karate hue tulaseedaasajee kaashee aa gae. yahaan unhen ek pret mila, jisane unhen hanumaanajee ka pata batalaaya. hanumaanajee se milakar tulaseedaasajee ne unase shreeraam ke darshan karaane kee praarthana kee. tab hanumaanajee ne kaha ki tumhen chitrakoot mein shreeraam ke darshan honge. yah sunakar tulaseedaasajee chitrakoot aa gae. yahaan unhen shreeraam ke darshan hue, lekin ve bhagavaan ko pahachaan nahin pae.
4. tab hanumaanajee ne kaha ki subah phir aapako shreeraam ke darshan honge. sanvat 1607 kee maunee amaavasya ko shreeraam baalak roop mein prakat hue aur unhonne taluseedaas ne chandan maanga. tabhee hanumaanajee ne tote ka roop dhaaran kar yah doha kaha-
chitrakoot ke ghaat par bhi santan kee bheer.
tusaseedaas chandan ghisen tilak det raghubeer

tulaseedaas samajh gae ki yahee shreeraam hain. shreeraam ne svayan apane haath se tulaseedaasajee ke mastak par chandan lagaaya aur antardhaan ho gae.

5. ek raat jab tulaseedaasajee so rahe the tab unhen sapana aaya. sapane mein bhagavaan shankar ne unhen aadesh diya ki tum apanee bhaasha mein kaavy rachana karo. turant hee tulaseedaasajee kee neend toot gaee aur ve uth kar baith gae. tabhee vahaan bhagavaan shiv aur paarvatee prakat hue aur unhonne kaha- tum ayodhya mein jaakar raho aur hindee mein kaavy rachana karo. mere aasheervaad se tumhaaree rachana saamaved ke samaan phalavatee hogee. bhagavaan shiv kee aagya maanakar tulaseedaasajee ayodhya aa gae.

6. sanvat 1631 ko raamanavamee ke din vaisa hee yog tha jaisa tretaayug mein raamajanm ke samay tha. us din subah tulaseedaasajee ne shreeraamacharitamaanas kee rachana praarambh kee. do varsh, saat maheene va chhabbees din mein granth kee samaapti huee. sanvat 1633 ke maargasheersh shuklapaksh mein raamavivaah ke din is granth ke saaton kaand poorn hue aur bhaarateey sanskrti ko shreeraamacharitamaanas ke roop mein amooly nidhi praapt huee.
7. yah granth lekar tulaseedaasajee kaashee gae. raat ko tulaseedaasajee ne yah pustak bhagavaan vishvanaath ke mandir mein rakh dee. subah jab mandir ke pat khule to us par likha tha- satyan shivan sundaram. aur neeche bhagavaan shankar ke hastaakshar the. us samay upasthit logon ne satyan shivan sundaram kee aavaaj bhee apane kaanon se sunee.

8. any panditon ne jab yah baat sunee to unake man mein tulaseedaasajee ke prati eershya hone lagee. unhonne do chor shreeraamacharitamaanas ko churaane ke lie bheje. chor jab tulaseedaasajee kee kutiya ke paas pahunche to unhonne dekha ki do veer purush dhanush baan lie pahara de rahe hain. ve bade hee sundar aur gore the. unake darshan se choron kee buddhi shuddh ho gaee aur ve bhagavaan bhajan mein lag gae.

9. ek baar panditon ne shreeraamacharitamaanas kee pareeksha lene kee sochee. unhonne bhagavaan kaashee vishvanaath ke mandir mein saamane sabase oopar ved, unake neeche shaastr, shaastron ke neeche puraan aur sabase neeche shreeraamacharitamaanas granth rakh diya. mandir band kar diya gaya. subah jab mandir khola gaya to sabhee ne dekha ki shreeraamacharitamaanas vedon ke oopar rakha hua hai. yah dekhakar pandit log bahut lajjit hue. unhonne tulaseedaasajee se kshama maangee aur shreeraamacharitamaanas ke sarvapramukh granth maana.

10. is granth mein raamalala ke jeevan ka jitana sundar varnan kiya gaya hai utana any kisee granth mein padhane ko nahin milata. yahee kaaran hai ki shreeraamacharitamaanas ko sanaatan dharm mein vishesh sthaan praapt hai. raamacharit maanas mein kaee aisee chaupaee bhee tulaseedaas ne likhee hai jo vibhinn pareshaaniyon ke samay manushy ko sahee raasta dikhaatee hai tatha unaka uchit niraakaran bhee karatee hain.

 

Comments

comments