Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » ज़िन्दगी के पत्थर, कंकड़ और रेत (Life stones, pebbles and sand)

ज़िन्दगी के पत्थर, कंकड़ और रेत (Life stones, pebbles and sand)

life-stones-pebbles-and-sand

life-stones-pebbles-and-sand

Life stones, pebbles and sand

Life stones, pebbles and sand

Philosophy के एक professor ने कुछ चीजों के साथ class में प्रवेश किया. जब class शुरू हुई तो उन्होंने एक बड़ा सा खाली शीशे का जार लिया और उसमे पत्थर के बड़े-बड़े टुकड़े भरने लगे. फिर उन्होंने students से पूछा कि क्या जार भर गया है ? और सभी ने कहा “हाँ”.

तब प्रोफ़ेसर ने छोटे-छोटे कंकडों से भरा एक box लिया और उन्हें जार में भरने लगे. जार को थोडा हिलाने पर ये कंकड़ पत्थरों के बीच settle हो गए. एक बार फिर उन्होंने छात्रों से पूछा कि क्या जार भर गया है?  और सभी ने हाँ में उत्तर दिया.

तभी professor ने एक sand box निकाला और उसमे भरी रेत को जार में डालने लगे. रेत ने बची-खुची जगह भी भर दी. और एक बार फिर उन्होंने पूछा कि क्या जार भर गया है? और सभी ने एक साथ उत्तर दिया , ” हाँ”

फिर professor ने समझाना शुरू किया, ” मैं चाहता हूँ कि आप इस बात को समझें कि ये जार आपकी life को represent करता है. बड़े-बड़े पत्थर आपके जीवन की ज़रूरी चीजें हैं- आपकी family,आपका partner,आपकी health, आपके बच्चे – ऐसी चीजें कि अगर आपकी बाकी सारी चीजें खो भी जाएँ और सिर्फ ये रहे तो भी आपकी ज़िन्दगी पूर्ण रहेगी.

ये कंकड़ कुछ अन्य चीजें हैं जो matter करती हैं- जैसे कि आपकी job, आपका घर, इत्यादि.

और ये रेत बाकी सभी छोटी-मोटी चीजों को दर्शाती है.

अगर आप जार को पहले रेत से भर देंगे तो कंकडों और पत्थरों के लिए कोई जगह नहीं बचेगी. यही आपकी life के साथ होता है. अगर आप अपनी सारा समय और उर्जा छोटी-छोटी चीजों में लगा देंगे तो आपके पास कभी उन चीजों के लिए time नहीं होगा जो आपके लिए important हैं. उन चीजों पर ध्यान दीजिये जो आपकी happiness के लिए ज़रूरी हैं.बच्चों के साथ खेलिए, अपने partner के साथ dance कीजिये. काम पर जाने के लिए, घर साफ़ करने के लिए,party देने के लिए,  हमेशा वक़्त होगा. पर पहले पत्थरों पर ध्यान दीजिये – ऐसी चीजें जो सचमुच matter करती हैं . अपनी priorities set कीजिये. बाकी चीजें बस रेत हैं.”

Wish4me to English

philosophy ke ek profaissor ne kuchh cheejon ke saath chlass mein pravesh kiya. jab chlass shuroo huee to unhonne ek bada sa khaalee sheeshe ka jaar liya aur usame patthar ke bade-bade tukade bharane lage. phir unhonne studaints se poochha ki kya jaar bhar gaya hai ? aur sabhee ne kaha “haan”.

tab profesar ne chhote-chhote kankadon se bhara ek box liya aur unhen jaar mein bharane lage. jaar ko thoda hilaane par ye kankad pattharon ke beech saittlai ho gae. ek baar phir unhonne chhaatron se poochha ki kya jaar bhar gaya hai? aur sabhee ne haan mein uttar diya.

tabhee profaissor ne ek sand box nikaala aur usame bharee ret ko jaar mein daalane lage. ret ne bachee-khuchee jagah bhee bhar dee. aur ek baar phir unhonne poochha ki kya jaar bhar gaya hai? aur sabhee ne ek saath uttar diya , ” haan”

phir profaissor ne samajhaana shuroo kiya, ” main chaahata hoon ki aap is baat ko samajhen ki ye jaar aapakee lifai ko raipraisaint karata hai. bade-bade patthar aapake jeevan kee zarooree cheejen hain- aapakee family,aapaka partnair,aapakee haialth, aapake bachche – aisee cheejen ki agar aapakee baakee saaree cheejen kho bhee jaen aur sirph ye rahe to bhee aapakee zindagee poorn rahegee.

ye kankad kuchh any cheejen hain jo mattair karatee hain- jaise ki aapakee job, aapaka ghar, ityaadi.

aur ye ret baakee sabhee chhotee-motee cheejon ko darshaatee hai.

agar aap jaar ko pahale ret se bhar denge to kankadon aur pattharon ke lie koee jagah nahin bachegee. yahee aapakee lifai ke saath hota hai. agar aap apanee saara samay aur urja chhotee-chhotee cheejon mein laga denge to aapake paas kabhee un cheejon ke lie timai nahin hoga jo aapake lie important hain. un cheejon par dhyaan deejiye jo aapakee happinaiss ke lie zarooree hain.bachchon ke saath khelie, apane partnair ke saath danchai keejiye. kaam par jaane ke lie, ghar saaf karane ke lie,party dene ke lie, hamesha vaqt hoga. par pahale pattharon par dhyaan deejiye – aisee cheejen jo sachamuch mattair karatee hain . apanee prioritiais sait keejiye. baakee cheejen bas ret hain.”

Comments

comments