Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Krishna » भगवान श्रीकृष्ण एक थे या अनेक ? (Lord Krishna was one or many?)

भगवान श्रीकृष्ण एक थे या अनेक ? (Lord Krishna was one or many?)

lord-krishna-was-one-or-many

lord-krishna-was-one-or-many

krishn

krishn

ईसवीं सदी के प्रारंभ से अथवा उससे भी सैकड़ों वर्ष पहले से हमारे देश के अनेक प्रतिभाशाली एवं अनुभवी महर्षियों ने भगवान श्रीकृष्ण के चरित्र का वर्णन किया है, किंतु आधुनिक विद्वानों को छोड़कर किसी को भी यह शंका नहीं हुई कि उनके अच्छे या बुरे, लौकिक अथवा दिव्य जितने भी कर्म प्रसिद्ध हैं वे सारे एक व्यक्तियों के द्वारा हुए थे । यह संभव है कि नरदेहधारी भगवान श्रीकृष्ण के प्रति जो हमारी अतिशय श्रद्धा और भक्ति है उससे अंधे होकर हमने कभी इस बात का विचार भी न किया हो कि गोकुल के गोपाल – कृष्ण दूसरे थे और पार्थ सारथि पाण्डवों के चतुर सखा श्रीकृष्ण दूसरे ही थे । जिस श्रीकृष्ण बालकपन में गोपियों के साथ स्वच्छंदरूप से विहार किया उसी श्रीकृष्ण ने भगवद् गीता का उच्च तत्वज्ञान का उपदेश दिया, यह बात आधुनिक विद्वानों की समझ में नहीं आती ।

हमारे सामने भगवान के तीन विभिन्न रूप उपस्थित होते हैं । पहले यादवपति श्रीकृष्ण पाण्डवों के सखा के रूप में उपस्थित होते हैं और महाभारत का ग्रंथ जिस रूप में आजकल उपलब्ध है उसके अंदर उन्हें भगवान विष्णु का अवतार ही मानते थे । हरिवंश में हमें भगवान का पौराणिक रूप देखने को मिलता है । इस रूप से उन्होंने गवाल बालों के साथ अपना बाल्यकाल व्यतीत किया और कंस को मारकर नाम प्राप्त किया और आगे चलकर यद्यपि उन्होंने राजमुकुट धारण नहीं किया । किंतु वे व्यवहार में यादवों के स्वामी बन गये एवं अपने कुल को जरासंध के आक्रामण से बचाकर द्वारका में जाकर राजा की भांति रहने लगे ।

तीसरी बार भगवान श्रीकृष्ण हमारे सामने विष्णु के अवतार के रूप में उपस्थित होते हैं । भगवद् गीता के श्रीकृष्ण अपने को भगवान विष्णु का अवतार बतलाते हैं । कोई भी बुद्धिमान पुरुष इस बात को स्वीकार नहीं करेगा कि महाभारत के चतुर श्रीकृष्ण अथवा पुराणों के नटखट श्रीकृष्म यही थे । इस अनुमान के आधार पर श्रीकृष्ण संबंधी उपलब्ध ग्रंथों और प्रमाणों की आलोचना कर ये विद्वान इस निर्णय पर पहुंचे हैं कि हमारा यह अनुमान ठीक है । कम से कम इस बात का तो कोई पर्याप्त प्रमाण नहीं मिलता कि यह अनुमान झूठा है – और उनकी यह धारणा है कि जिन लोगों ने अभी तक इन तीनों रूपों को एक माना है वे कदाचित भ्रम में हैं ।

महाभारत में भगवान का सर्वप्रथम उल्लेख आदिपर्व में द्रौपदी – स्वयंवर के प्रसंग में मिलता है, जहां अन्य राजाओं की भांति वे भी स्वयंवर के देखने को पधारे थे । यहां भगवान के पूर्व चरित का कोई वर्णन न करके उनके विषय में यह कहा गया है कि वे एक प्रसिद्ध राजा थे । इसी प्रसंग में पहले – पहल भगवान श्रीकृष्ण का उल्लेख मिलने की बात मैंने इसलिए कही है कि इसके पूर्व दो एक जगह जो भगवान उल्लेख है, उसका महाभारत मुख्य कथानक अर्थात् कौरव पाण्डवों के आख्यान से कोई संबंध नहीं है ।

महाभारत में स्वयंवर के प्रसंग से लेकर अंत तक हमें समय समय पर बराबर श्रीकृष्ण के दर्शन होते हैं, जो स्वाभाविक ही है, क्योंकि भगवान पाण्डवों जीवन सखा और पथ प्रदर्शक थे । इससे यह सिद्ध होता है कि पुराणों में भगवान के जीवन का पूर्ण वृतांत हा और महाभारत में केवल उनका पाण्डवों के सखा और सहायक के रूप में ही वर्णन है । इसलिए महाभारत में स्वभावत: भगवान का पूरा श्रृंखलाबद्ध वृतांत नहीं दिया गया और जोड़ा गया । वास्तव में इन भिन्न भिन्न प्रसंगों ऐसा कोई महान वैषम्य नहीं है, जिसके कारण हम प्रभु को श्रीकृष्ण को एक की जगह अनेक मानें ।

जो श्रीकृष्ण बचपन में अपने सखाओं के साथ एक साधारण ग्वाले की भांति खेले थे, उन्हीं श्रीकृष्ण ने महाभारतरूपी नाटक में सूत्रधार का काम किया और उन्हीं श्रीकृष्ण ने श्रीमद् भगवद्गीता के उच्च तत्त्वज्ञान का उपदेश दिया ।

दूसरी बात जो श्रीकृष्ण की एकता को सिद्ध करती है, वह उनके द्वारकावासी होने का उल्लेख है । यह उल्लेख समस्त महाभारत में इतनी बार आया है कि इस बात पर किसी तरब विश्वास नहीं किया जा सकता कि किसी अर्वाचीन विद्वान ने महाभारत का संस्करण करते समय उसके अंदर पुराणों के आख्यानों का समावेश करने के उद्देश्य से हजारों बार द्वारका का नाम अपनी तरफ से दिया गया । अब लरही श्रीकृष्ण के भगवान विष्णु के अवतार होने की बात । इस विषय में महाभारत और पुराणों का एक मत है । अवश्य ही यह कहना कठिन है कि इस सिद्धांत का इन ग्रंथों में समावेश कब हुआ ।

ऊपर के विवेचना से हम यह कह सकते हैं कि महाभारत और पुराणों में वर्णित श्रीकृष्ण का वृतांत एक दूसरे का सहकारी एवं समर्थक है । अतएव हमें कतिपय आधुनिक समालोचकों की धारणा के अनुसार यह नहीं मानना चाहिए कि श्रीकृष्ण अनेक थे ।

wish4me in English

eesaveen sadee ke praarambh se athava usase bhee saikadon varsh pahale se hamaare desh ke anek pratibhaashaalee evan anubhavee maharshiyon ne bhagavaan shreekrshn ke charitr ka varnan kiya hai, kintu aadhunik vidvaanon ko chhodakar kisee ko bhee yah shanka nahin huee ki unake achchhe ya bure, laukik athava divy jitane bhee karm prasiddh hain ve saare ek vyaktiyon ke dvaara hue the . yah sambhav hai ki naradehadhaaree bhagavaan shreekrshn ke prati jo hamaaree atishay shraddha aur bhakti hai usase andhe hokar hamane kabhee is baat ka vichaar bhee na kiya ho ki gokul ke gopaal – krshn doosare the aur paarth saarathi paandavon ke chatur sakha shreekrshn doosare hee the . jis shreekrshn baalakapan mein gopiyon ke saath svachchhandaroop se vihaar kiya usee shreekrshn ne bhagavad geeta ka uchch tatvagyaan ka upadesh diya, yah baat aadhunik vidvaanon kee samajh mein nahin aatee .

hamaare saamane bhagavaan ke teen vibhinn roop upasthit hote hain . pahale yaadavapati shreekrshn paandavon ke sakha ke roop mein upasthit hote hain aur mahaabhaarat ka granth jis roop mein aajakal upalabdh hai usake andar unhen bhagavaan vishnu ka avataar hee maanate the . harivansh mein hamen bhagavaan ka pauraanik roop dekhane ko milata hai . is roop se unhonne gavaal baalon ke saath apana baalyakaal vyateet kiya aur kans ko maarakar naam praapt kiya aur aage chalakar yadyapi unhonne raajamukut dhaaran nahin kiya . kintu ve vyavahaar mein yaadavon ke svaamee ban gaye evan apane kul ko jaraasandh ke aakraaman se bachaakar dvaaraka mein jaakar raaja kee bhaanti rahane lage .

teesaree baar bhagavaan shreekrshn hamaare saamane vishnu ke avataar ke roop mein upasthit hote hain . bhagavad geeta ke shreekrshn apane ko bhagavaan vishnu ka avataar batalaate hain . koee bhee buddhimaan purush is baat ko sveekaar nahin karega ki mahaabhaarat ke chatur shreekrshn athava puraanon ke natakhat shreekrshm yahee the . is anumaan ke aadhaar par shreekrshn sambandhee upalabdh granthon aur pramaanon kee aalochana kar ye vidvaan is nirnay par pahunche hain ki hamaara yah anumaan theek hai . kam se kam is baat ka to koee paryaapt pramaan nahin milata ki yah anumaan jhootha hai – aur unakee yah dhaarana hai ki jin logon ne abhee tak in teenon roopon ko ek maana hai ve kadaachit bhram mein hain .

mahaabhaarat mein bhagavaan ka sarvapratham ullekh aadiparv mein draupadee – svayanvar ke prasang mein milata hai, jahaan any raajaon kee bhaanti ve bhee svayanvar ke dekhane ko padhaare the . yahaan bhagavaan ke poorv charit ka koee varnan na karake unake vishay mein yah kaha gaya hai ki ve ek prasiddh raaja the . isee prasang mein pahale – pahal bhagavaan shreekrshn ka ullekh milane kee baat mainne isalie kahee hai ki isake poorv do ek jagah jo bhagavaan ullekh hai, usaka mahaabhaarat mukhy kathaanak arthaat kaurav paandavon ke aakhyaan se koee sambandh nahin hai .

mahaabhaarat mein svayanvar ke prasang se lekar ant tak hamen samay samay par baraabar shreekrshn ke darshan hote hain, jo svaabhaavik hee hai, kyonki bhagavaan paandavon jeevan sakha aur path pradarshak the . isase yah siddh hota hai ki puraanon mein bhagavaan ke jeevan ka poorn vrtaant ha aur mahaabhaarat mein keval unaka paandavon ke sakha aur sahaayak ke roop mein hee varnan hai . isalie mahaabhaarat mein svabhaavat: bhagavaan ka poora shrrnkhalaabaddh vrtaant nahin diya gaya aur joda gaya . vaastav mein in bhinn bhinn prasangon aisa koee mahaan vaishamy nahin hai, jisake kaaran ham prabhu ko shreekrshn ko ek kee jagah anek maanen .

jo shreekrshn bachapan mein apane sakhaon ke saath ek saadhaaran gvaale kee bhaanti khele the, unheen shreekrshn ne mahaabhaarataroopee naatak mein sootradhaar ka kaam kiya aur unheen shreekrshn ne shreemad bhagavadgeeta ke uchch tattvagyaan ka upadesh diya .

doosaree baat jo shreekrshn kee ekata ko siddh karatee hai, vah unake dvaarakaavaasee hone ka ullekh hai . yah ullekh samast mahaabhaarat mein itanee baar aaya hai ki is baat par kisee tarab vishvaas nahin kiya ja sakata ki kisee arvaacheen vidvaan ne mahaabhaarat ka sanskaran karate samay usake andar puraanon ke aakhyaanon ka samaavesh karane ke uddeshy se hajaaron baar dvaaraka ka naam apanee taraph se diya gaya . ab larahee shreekrshn ke bhagavaan vishnu ke avataar hone kee baat . is vishay mein mahaabhaarat aur puraanon ka ek mat hai . avashy hee yah kahana kathin hai ki is siddhaant ka in granthon mein samaavesh kab hua .

oopar ke vivechana se ham yah kah sakate hain ki mahaabhaarat aur puraanon mein varnit shreekrshn ka vrtaant ek doosare ka sahakaaree evan samarthak hai . atev hamen katipay aadhunik samaalochakon kee dhaarana ke anusaar yah nahin maanana chaahie ki shreekrshn anek the

Comments

comments