Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Acurpressure » माखन लेने की अनोखी रीति

माखन लेने की अनोखी रीति

maakhan-lene-kee-anokhee-reeti-2

maakhan-lene-kee-anokhee-reeti-2

bigimage1एक दिन माता यशोदा दही मथकर माखन निकाल रहीं थीं। अचानक मां को आनन्द देने के लिए बलराम और श्याम उनके निकट पहुंच गए। कन्हैया ने मां की चोटी पकड़ ली और बलराम ने मोतियों की माला- दोनों मां को अपनी तरफ खींचने का प्रयास करने लगे। बलराम कहते थे, मां तुम पहले मेरी सुनों! और कन्हैया कहते थे कि नहीं, मां तुम्हे पहले मेरी सुननी पड़ेगी। मैया! मुझे भूख लगी है। भूख से मेरा बुरा हाल है। चलो ना जल्दी से मुझे माखन रोटी दे दो।
यशोदा जी ने कहा- बेटा, दूध पी लो या घर में अनेक प्रकार के पकवान बने है जो तुम्हारी इच्छा हो खा लो।
कन्हैया ने कहा- नहीं, मै तो केवल माखन रोटी ही खाऊंगा। मेवा पकवान मुझे अच्छे नहीं लगते। जब तक तुम मुझे माखन नहीं दे दोगी तब तक मै तुम्हारी चोटी खीचता ही रहूंगा।
मां ने कहा- कन्हैया अगर तू माखन खायेगा तो तेरी यह चोटी छोटी रह जाएगी, कभी नहीं बढ़ेगी।
कन्हैया ने कहा- मां, तुम दाऊ भैया को तो कभी मना नहीं करती , वह जब भी मांगते है तुम उन्हे माखन रोटी दे देती हो। मुझे क्यों नहीं दे रहीं हो?
मां ने कहा- कान्हा देखो, पहले मै दाउ को भी माखन रोटी नहीं देती थी, वह भी मेवा पकवान खाता था और दूध पीता था, तभी तो उसकी चोटी लंबी- चौड़ी है। यदि तुम भी दूध पीओगे तो तुम्हारी भी चोटी लंबी हो जाएगी। जाओ मेरे लाल अच्छे बच्चे जिद नहीं करते।
कान्हा ने कहा- मां तुम झूठ बोलती हो, कितनी बार मैने दूध पिया है पर मेरी चोटी अब तक नहीं बढ़ी। आज तुम्हारा बहाना नहीं चल सकता। तुम्हें मुझे माखन रोटी देनी ही पड़ेगी।
मैया ने कहा- कान्हा दाउ अब बड़ा हो गया है। इसने तुमसे अधिक दिनों तक दूध पिया है। इसलिए दाउ की चोटी बढ़ गयी, जब तुम भी उतने ही दिनों तक दूध पी लोगे तब तुम्हारी भी चोटी बढ़ जाएगी।
कन्हैया ने कहा- मैया मै यह सब नहीं सुनूंगा। तुम साफ-साफ बताओ मुझे माखन रोटी देती हो कि नहीं, यदि तुम मुझे माखन रोटी नहीं दोगी तो, जाओं मै तुमसे बात नहीं करूंगा। ना ही तुम्हारी गोदी में आऊंगा। अब दाऊ भैया ही तुम्हारे पुत्र है, मै भला तुम्हारा क्या लगता हूं।
माता यशोदा ने कहा- कान्हा तू तो मेरा प्राण है मै भला तेरे बिना कैसे रह सकती हूं। मेरे नन्हे लाल मै तेरी बलैया लेती हूं। तनिक रूको। मुझे माखन तो निकाल लेने दो, फिर तुम्हे जितना माखन चाहिए ले लेना।

इस प्रकार माता यशोदा की आंखों से प्रेमाश्रु छलक पड़े। यशोदा मैया धन्य हैं। त्रिभुवन का भरण पोषण करने वाले प्रभु माखन के लिए बार-बार उनके आगे हाथ फैलाते है। यशोदा मैया से बड़ा सौभाग्य भला किसका होगा।

To English wish4me

ek din maata yashoda dahee mathakar maakhan nikaal raheen theen. achaanak maan ko aanand dene ke lie balaraam aur shyaam unake nikat pahunch gae. kanhaiya ne maan kee chotee pakad lee aur balaraam ne motiyon kee maala- donon maan ko apanee taraph kheenchane ka prayaas karane lage. balaraam kahate the, maan tum pahale meree sunon! aur kanhaiya kahate the ki nahin, maan tumhe pahale meree sunanee padegee. maiya! mujhe bhookh lagee hai. bhookh se mera bura haal hai. chalo na jaldee se mujhe maakhan rotee de do.
yashoda jee ne kaha- beta, doodh pee lo ya ghar mein anek prakaar ke pakavaan bane hai jo tumhaaree ichchha ho kha lo.
kanhaiya ne kaha- nahin, mai to keval maakhan rotee hee khaoonga. meva pakavaan mujhe achchhe nahin lagate. jab tak tum mujhe maakhan nahin de dogee tab tak mai tumhaaree chotee kheechata hee rahoonga.
maan ne kaha- kanhaiya agar too maakhan khaayega to teree yah chotee chhotee rah jaegee, kabhee nahin badhegee.
kanhaiya ne kaha- maan, tum daoo bhaiya ko to kabhee mana nahin karatee , vah jab bhee maangate hai tum unhe maakhan rotee de detee ho. mujhe kyon nahin de raheen ho?
maan ne kaha- kaanha dekho, pahale mai dau ko bhee maakhan rotee nahin detee thee, vah bhee meva pakavaan khaata tha aur doodh peeta tha, tabhee to usakee chotee lambee- chaudee hai. yadi tum bhee doodh peeoge to tumhaaree bhee chotee lambee ho jaegee. jao mere laal achchhe bachche jid nahin karate.
kaanha ne kaha- maan tum jhooth bolatee ho, kitanee baar maine doodh piya hai par meree chotee ab tak nahin badhee. aaj tumhaara bahaana nahin chal sakata. tumhen mujhe maakhan rotee denee hee padegee.
maiya ne kaha- kaanha dau ab bada ho gaya hai. isane tumase adhik dinon tak doodh piya hai. isalie dau kee chotee badh gayee, jab tum bhee utane hee dinon tak doodh pee loge tab tumhaaree bhee chotee badh jaegee.
kanhaiya ne kaha- maiya mai yah sab nahin sunoonga. tum saaph-saaph batao mujhe maakhan rotee detee ho ki nahin, yadi tum mujhe maakhan rotee nahin dogee to, jaon mai tumase baat nahin karoonga. na hee tumhaaree godee mein aaoonga. ab daoo bhaiya hee tumhaare putr hai, mai bhala tumhaara kya lagata hoon.
maata yashoda ne kaha- kaanha too to mera praan hai mai bhala tere bina kaise rah sakatee hoon. mere nanhe laal mai teree balaiya letee hoon. tanik rooko. mujhe maakhan to nikaal lene do, phir tumhe jitana maakhan chaahie le lena.

is prakaar maata yashoda kee aankhon se premaashru chhalak pade. yashoda maiya dhany hain. tribhuvan ka bharan poshan karane vaale prabhu maakhan ke lie baar-baar unake aage haath phailaate hai. yashoda maiya se bada saubhaagy bhala kisaka hoga.

Comments

comments