Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » माण्डव्य ऋषि का यमराज को श्राप

माण्डव्य ऋषि का यमराज को श्राप

maandavy-rshi-ka-yamaraaj-ko-shraap

maandavy-rshi-ka-yamaraaj-ko-shraap

maandavy rshi ka yamaraaj ko shraap

maandavy rshi ka yamaraaj ko shraap

महाभारत के अनुसार, माण्डव्य नाम के एक ऋषि थे। राजा ने भूलवश उन्हें चोरी का दोषी मानकर सूली पर चढ़ाने की सजा दी। सूली पर कुछ दिनों तक चढ़े रहने के बाद भी जब उनके प्राण नहीं निकले, तो राजा को अपनी गलती का अहसास हुआ और उन्होंने ऋषि माण्डव्य से क्षमा मांगकर उन्हें छोड़ दिया।
तब ऋषि यमराज के पास पहुंचे और उनसे पूछा कि मैंने अपने जीवन में ऐसा कौन-सा अपराध किया था कि मुझे इस प्रकार झूठे आरोप की सजा मिली। तब यमराज ने बताया कि जब आप १२ वर्ष के थे, तब आपने एक फतींगे की पूंछ में सींक चुभाई थी, उसी के फलस्वरूप आपको यह कष्ट सहना पड़ा।
तब ऋषि माण्डव्य ने यमराज से कहा कि 12 वर्ष की उम्र में किसी को भी धर्म-अधर्म का ज्ञान नहीं होता। तुमने छोटे अपराध का बड़ा दण्ड दिया है। इसलिए मैं तुम्हें श्राप देता हूं कि तुम्हें शुद्र योनि में एक दासी पुत्र के रूप में जन्म लेना पड़ेगा। ऋषि माण्डव्य के इसी श्राप के कारण यमराज ने दासी पुत्र विदुर के रूप में जन्म लिया। उचित शिक्षा मिली और नीति शाश्त्र में निपुण हुए। हस्तिनापुर में हुए सभी पाप, पुण्यो, अन्यायों और कर्मो को देखा और पूर्ण न्याय उन्हें महाभारत और गीता से मिला। अपने अंत काल में विदुर धृतराष्ट्र, कुंती, गांधारी के साथ वन में तपस्या में लींन हो गए और शरीर खो दिया, जब युधिष्ठिर उनसे मिलने पहुंचे तो वो उनके शरीर में घुस गए। स्वर्गारोहण के दौरान एक कुत्ते के रूप में वो भी उनके साथ चले और निज धाम पहुंचे।

To Wish4me in English

mahaabhaarat ke anusaar, maandavy naam ke ek rshi the. raaja ne bhoolavash unhen choree ka doshee maanakar soolee par chadhaane kee saja dee. soolee par kuchh dinon tak chadhe rahane ke baad bhee jab unake praan nahin nikale, to raaja ko apanee galatee ka ahasaas hua aur unhonne rshi maandavy se kshama maangakar unhen chhod diya.
tab rshi yamaraaj ke paas pahunche aur unase poochha ki mainne apane jeevan mein aisa kaun-sa aparaadh kiya tha ki mujhe is prakaar jhoothe aarop kee saja milee. tab yamaraaj ne bataaya ki jab aap 12 varsh ke the, tab aapane ek phateenge kee poonchh mein seenk chubhaee thee, usee ke phalasvaroop aapako yah kasht sahana pada.
tab rshi maandavy ne yamaraaj se kaha ki 12 varsh kee umr mein kisee ko bhee dharm-adharm ka gyaan nahin hota. tumane chhote aparaadh ka bada dand diya hai. isalie main tumhen shraap deta hoon ki tumhen shudr yoni mein ek daasee putr ke roop mein janm lena padega. rshi maandavy ke isee shraap ke kaaran yamaraaj ne daasee putr vidur ke roop mein janm liya. uchit shiksha milee aur neeti shaashtr mein nipun hue. hastinaapur mein hue sabhee paap, punyo, anyaayon aur karmo ko dekha aur poorn nyaay unhen mahaabhaarat aur geeta se mila. apane ant kaal mein vidur dhrtaraashtr, kuntee, gaandhaaree ke saath van mein tapasya mein leenn ho gae aur shareer kho diya, jab yudhishthir unase milane pahunche to vo unake shareer mein ghus gae. svargaarohan ke dauraan ek kutte ke roop mein vo bhee unake saath chale aur nij dhaam pahunche.

Comments

comments