Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » माता सुमित्रा

माता सुमित्रा

maata-sumitra

maata-sumitra

shree kaikeyee aur sumitra maata ke charitr se shiksha

shree kaikeyee aur sumitra maata ke charitr se shiksha

महाराजा दशरथ की कई रानियाँ थीं। महारानी कौसल्या पट्टमहिषी थीं। महारानी कैकेयी महाराजा को सर्वाधिक प्रिय थीं और शेष में श्री सुमित्रा जी ही प्रधान थीं। महाराज दशरथ प्रायः कैकेयी के महल में ही रहा करते थे। सुमित्रा जी महारानी कौसल्या के सन्न्किट रहना तथा उनकी सेवा करना अपना धर्म समझती थीं। पुत्रेष्टि –यज्ञ समाप्त होने पर अग्नि के द्वारा चरु का आधा भाग महाराज ने कौसल्या जी को दिया। शेष का आधा कैकेयी को प्राप्त हुआ चतुर्थाश जो शेष था, उसके दो भाग करके महाराज ने एक भाग कौसल्या तथा दूसरा कैकेयी के हाथों पर रखा दिया। दोनों रानियों ने उसे सुमित्रा जी को प्रदान किया। समय पर माता सुमित्रा ने दो पुत्रों तो जन्म दिया। कौसल्या जी के दिये भाग के प्रभाव से लक्ष्मण , श्रीराम के और कैकेयी जी द्वारा दिये गये भाग के प्रभाव से शत्रुध्न जी श्रीभरत जी के अनुगामी हुए। वैसे चारो कुमारो को रात्री में निद्रा माता सुमित्रा की गोद में आती थी। सबकी सुख सुविधा ,लालन-पोषण तथा क्रीड़ा का प्रबन्ध माता सुमित्रा ही करती थी। अनेक बार माता कौसल्या श्रीराम को अपने पास सुला लेतीं। रात्रि में जगने पर वे रोने लगते। माता रात्रि में ही सुमित्रा के भवन में पहुँच कर कहती – सुमित्रा! अपने राम को लो । इन्हें तुम्हारी गोद के बिना निद्रा ही नहीं आती। देखो, इन्होंने रो- रोकर आँखे लाल कर ली हैं। श्री राम सुमित्रा की गोद में जाते ही सो जाते।
पिता से वनवास की आज्ञा पाकर श्रीराम ने माता कौसल्या से तो आज्ञा ली, सुमित्रा के समीप वे स्वयं नहीं गये। वहाँ उन्होंने लक्ष्मण को भेज दिया। माता कौसल्या श्रीराम को रोककर कैकेयी का विरोध नही कर सकती थीं, कितुं सुमित्रा जी के सम्बन्ध में यह बात नहीं थी। माता सुमित्रा का ही वह आदर्श हृदय था कि प्राणाधिक पुत्र को उन्होंने कह दिया कि लक्ष्मण! तुम श्रीराम को दशरथ, सीता को मुझे तथा वन को अयोध्या जानकर सुख पूर्वक श्रीराम के साथ वन जाओ।
दूसरी बार माता सुमित्रा के गौरवमय हृदय का परिचय वहाँ मिलता है, जब लक्ष्मण रणभूमि में आहत होकर मूर्छित पड़े थे। यह समाचार जानकर माता सुमित्रा की दशा विचित्र हो गयी। उन्होंने कहा- लक्ष्मण! मेरा पुत्र ! श्री राम के लिये युद्ध में लड़ता हुआ गिरा। मैं धन्य हो गयी। लक्ष्मण ने मुझे पुत्रवती होने का सच्चा गौरव प्रदान किया। महर्षि वशिष्ठ ने ना रोका होता तो सुमित्रा जी ने अपने छोटे पुत्र शत्रुध्न को भी लंका जाने की आज्ञा दे दी थी-तात जाहु कपि संग और शत्रुघ्न भी जाने के लिये तैयार हो गये थे। इस सेवा की अग्नि में तप कर लक्ष्मण जब लौटे तभी उन्होंने उनको हृदय से लगाया। सुमित्रा जी- जैसा त्याग का अनुपम आदर्श और कहीं मिलना असम्भव हैं।


 

mahaaraaja dasharath kee kaee raaniyaan theen. mahaaraanee kausalya pattamahishee theen. mahaaraanee kaikeyee mahaaraaja ko sarvaadhik priy theen aur shesh mein shree sumitra jee hee pradhaan theen. mahaaraaj dasharath praayah kaikeyee ke mahal mein hee raha karate the. sumitra jee mahaaraanee kausalya ke sannkit rahana tatha unakee seva karana apana dharm samajhatee theen. putreshti –yagy samaapt hone par agni ke dvaara charu ka aadha bhaag mahaaraaj ne kausalya jee ko diya. shesh ka aadha kaikeyee ko praapt hua chaturthaash jo shesh tha, usake do bhaag karake mahaaraaj ne ek bhaag kausalya tatha doosara kaikeyee ke haathon par rakha diya. donon raaniyon ne use sumitra jee ko pradaan kiya. samay par maata sumitra ne do putron to janm diya. kausalya jee ke diye bhaag ke prabhaav se lakshman , shreeraam ke aur kaikeyee jee dvaara diye gaye bhaag ke prabhaav se shatrudhn jee shreebharat jee ke anugaamee hue. vaise chaaro kumaaro ko raatree mein nidra maata sumitra kee god mein aatee thee. sabakee sukh suvidha ,laalan-poshan tatha kreeda ka prabandh maata sumitra hee karatee thee. anek baar maata kausalya shreeraam ko apane paas sula leteen. raatri mein jagane par ve rone lagate. maata raatri mein hee sumitra ke bhavan mein pahunch kar kahatee – sumitra! apane raam ko lo . inhen tumhaaree god ke bina nidra hee nahin aatee. dekho, inhonne ro- rokar aankhe laal kar lee hain. shree raam sumitra kee god mein jaate hee so jaate.
pita se vanavaas kee aagya paakar shreeraam ne maata kausalya se to aagya lee, sumitra ke sameep ve svayan nahin gaye. vahaan unhonne lakshman ko bhej diya. maata kausalya shreeraam ko rokakar kaikeyee ka virodh nahee kar sakatee theen, kitun sumitra jee ke sambandh mein yah baat nahin thee. maata sumitra ka hee vah aadarsh hrday tha ki praanaadhik putr ko unhonne kah diya ki lakshman! tum shreeraam ko dasharath, seeta ko mujhe tatha van ko ayodhya jaanakar sukh poorvak shreeraam ke saath van jao.
doosaree baar maata sumitra ke gauravamay hrday ka parichay vahaan milata hai, jab lakshman ranabhoomi mein aahat hokar moorchhit pade the. yah samaachaar jaanakar maata sumitra kee dasha vichitr ho gayee. unhonne kaha- lakshman! mera putr ! shree raam ke liye yuddh mein ladata hua gira. main dhany ho gayee. lakshman ne mujhe putravatee hone ka sachcha gaurav pradaan kiya. maharshi vashishth ne na roka hota to sumitra jee ne apane chhote putr shatrudhn ko bhee lanka jaane kee aagya de dee thee-taat jaahu kapi sang aur shatrughn bhee jaane ke liye taiyaar ho gaye the. is seva kee agni mein tap kar lakshman jab laute tabhee unhonne unako hrday se lagaaya. sumitra jee- jaisa tyaag ka anupam aadarsh aur kaheen milana asambhav hain.

wish4me

Comments

comments