Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मातृ- पितृ भक्त श्रवणकुमार

मातृ- पितृ भक्त श्रवणकुमार

maatr-pitr-bhakt-shravan-kumaar

maatr-pitr-bhakt-shravan-kumaar

84

श्रवणकुमार जाति से वैश्य थे। इनके माता-पिता दोनों अन्धे हो गये थे। बड़ी सावधानी और श्रद्धा से ये उनकीसेवा करते थे और उनकी प्रत्येक इच्छा पूरी करने का प्रयत्न करते थे। इनके माता-पिता की इच्छा तीर्थयात्रा करने की हुई। उन्होंने एक कांवर बनायी और उसमें दोनों को बैठाकर कंधे पर उठाये हुए ये यात्रा करने लगे। ब्रह्माण के लिये तो भिक्षा मांगकर जीविका-निर्वाह कर लेने की विधि है, किंतु दूसरे वर्ण के लोग यदि दरिद्र हों और तीर्थ -यात्रा कर रहे हों तो बिना मांगे जो कुछ अपने-आप कोई दे दे, उसी से जीवन-निर्वाह करना चाहिये; लेकिन श्रवणकुमार तो वन से कंद-मूल-फल ले आया करते थे और उसी से माता-पिता का तथा अपना भी काम चला लेते थे। दूसरे का दिया हुआ अन्न भी वे नहीं लेते थे। इसी प्रकार यात्रा करते हुए अयोध्या के समीप वन में पहुंचे। वहां रात्रि के समय माता-पिता को प्यास लगी। श्रवणकुमार पानी लेने के लिये अपना तुम्बा लेकर सरयूतट पर गये।

जबतक कोई पूरी सावधानी से धर्म की रक्षा करता है;धर्म उसे समस्त विपत्तियों से बचा लेता है; किंतु जब प्रमादवश धर्म की मर्यादा का ध्यान नहीं रखा जाता, तब कोई न कोई भूल अवश्य होती है और उसका परिणाम भी सामने आता है। धर्मशास्त्र की आज्ञा है कि युद्ध को छोड़कर अन्य कहीं भी हाथी को मारना पाप है। दूसरे यह भी मर्यादा है कि बिना पूरा निश्चय हुए केवलअनुमान कर के कहीं कोई अस्त्र न चलाया जाय। महाराज दशरथ उस समय अकेलेही आखेट कि लिये निकले थे। उन दिनों अयोध्या के समीप के वन नें जंगली हाथी रहते रहे होंगे। श्रवणकुमार ने जब पानी में अपना तुम्बा डुबाया, तब उससे जो शब्द हुआ, उसे सुनकर महाराज ने समझा कि कोई हाथी जल पी रहा है। उन्होंने शब्दवेधी बाण छोड़ दिया। एक तो केवल अनुमान के आधार पर बाण चलाया गया, दूसरे हाथी को समझकर भी बाण नहीं चलाना था; क्योंकि आखेट में हाथी को मारना वर्जित है। बाण जाकर श्रवणकुमार की छाती में लगा और वे चीख मारकर गिर पड़े तथा कराहने लगे।

महाराज वह शब्द सुनकर वहां पहुंचे तो देखा कि एक वल्कलधारी निर्दोष बालक भूमिपर पड़ा है। उसकी जटाएं बिखर गयी है, पात्र का जल गिर गया है और उसका शरीर धूल तथा रक्त से लथपथ हो रहा है। उसने महाराज को देखकर कहा—‘राजन्! मैंने तो आपका कभी कोई अपराध किया नहीं था; आपने मुझे क्यों मारा? मेरे माता-पिता दुर्बल तथा अंधे हैं। उनके लिये मैं यहां जल लेने आया था, वे मेरि प्रतीक्षा करते होंगे। उन्हें क्या पता कि मैं यहां इस प्रकार पड़ा हूं। पता लग जाय तो वे चल नहीं सकते। मुझे अपनी मृत्यु का कोई दुःख नहीं; किंतु मुझे अपने माता-पिता के लिये बहुत दुःख है। आप उन्हें जाकर यह समाचार सुना दें और जल पिलाकर उनकी प्यास शान्त करें।’

महाराज दशरथ शोक से व्याकुल हो रहे थे। श्रवण ने उन्हें अपने माता-पिता का पता तथा वहां पहुंचने का मार्ग बताकर आश्वासन दिया—‘आपको ब्रह्महत्या नहीं लगेगी। मैं ब्राह्मण नहीं, वैश्य हूं। पर मुझे बड़ा कष्ट हो रहा है। आप यह अपना बाण मेरी छाती से निकाल दें।’

बाण निकाल लेने पर व्यथा से तड़पकर एवं कांपकर श्रवण ने शरीर छोड़ दिया। अब महाराज दशरथ पश्चाताप करते हुए जलके पात्र को सरयूजी के जल से भरकर श्रवण के माता-पिता के पास पहुंचे। वहां पहुंचकर दुःख से भरे हुए कण्ठ से किसी प्रकार उन्होंने अपने अपराध का वर्णन किया। वे दोनों अंधे वृद्ध दम्पति पुत्र के मरने की बात सुनकर अत्यन्त व्याकुल हो गये। उन्होंने रोते-रोते महाराज से कहा कि ‘हमें अपने पुत्र के मृत शरीर के पास पहुंचा दिया जाय।’ महाराज दशरथ ने दोनों को कंधेपर उठाकर वहां पहुंचाया। उसी समय महाराज ने देखा कि मुनिकुमार श्रवण माता-पिता की सेवा के फल से दिव्य रुप धारण करके विमान पर बैठकर स्वर्ग को जा रहे हैं। उन्होंने आश्वासन देते हुए अपने माता-पिता से कहा-‘आप दोनों की सेवा में मैंने यह उत्तम गति प्राप्त की है। आप मेरे लिये शोक न करें। आप लोग भी शीध्र ही मेरे पास आ जाइयेगा।’

इसके पश्चात् उन दोनों ने सूखी लकड़ियां एकत्र कराकर उसपर श्रवण का मृत देह रखवाया। सरयूजी में स्नान करके अपने पुत्र को जलञ्जलि दी और फिर उसी चिता में गिरकर शरीर छोड़ दिया। अन्तिम समय में उन्होंने दुःख के वेग में महाराज को शाप दे दिया—‘जैसे पुत्र के वियोग में हम दोनों मर रहे हैं, वैसे ही तुम्हारा शरीर भी पुत्र के वियोग में ही छूटेगा।’

श्रवण के माता-पिता भी अपने पुत्र के पुण्य के प्रभाव से उत्तम लोक को प्राप्त हुए। इस प्रकार श्रवण ने माता-पिता की सेवा करके उस धर्म के प्रभाव से अपना तथा माता-पिता का भी उद्धार कर दिया।

wish4me in english

shravanakumaar jaati se vaishy the. inake maata-pita donon andhe ho gaye the. badee saavadhaanee aur shraddha se ye unakeeseva karate the aur unakee pratyek ichchha pooree karane ka prayatn karate the. inake maata-pita kee ichchha teerthayaatra karane kee huee. unhonne ek kaanvar banaayee aur usamen donon ko baithaakar kandhe par uthaaye hue ye yaatra karane lage. brahmaan ke liye to bhiksha maangakar jeevika-nirvaah kar lene kee vidhi hai, kintu doosare varn ke log yadi daridr hon aur teerth -yaatra kar rahe hon to bina maange jo kuchh apane-aap koee de de, usee se jeevan-nirvaah karana chaahiye; lekin shravanakumaar to van se kand-mool-phal le aaya karate the aur usee se maata-pita ka tatha apana bhee kaam chala lete the. doosare ka diya hua ann bhee ve nahin lete the. isee prakaar yaatra karate hue ayodhya ke sameep van mein pahunche. vahaan raatri ke samay maata-pita ko pyaas lagee. shravanakumaar paanee lene ke liye apana tumba lekar sarayootat par gaye.

jabatak koee pooree saavadhaanee se dharm kee raksha karata hai;dharm use samast vipattiyon se bacha leta hai; kintu jab pramaadavash dharm kee maryaada ka dhyaan nahin rakha jaata, tab koee na koee bhool avashy hotee hai aur usaka parinaam bhee saamane aata hai. dharmashaastr kee aagya hai ki yuddh ko chhodakar any kaheen bhee haathee ko maarana paap hai. doosare yah bhee maryaada hai ki bina poora nishchay hue kevalanumaan kar ke kaheen koee astr na chalaaya jaay. mahaaraaj dasharath us samay akelehee aakhet ki liye nikale the. un dinon ayodhya ke sameep ke van nen jangalee haathee rahate rahe honge. shravanakumaar ne jab paanee mein apana tumba dubaaya, tab usase jo shabd hua, use sunakar mahaaraaj ne samajha ki koee haathee jal pee raha hai. unhonne shabdavedhee baan chhod diya. ek to keval anumaan ke aadhaar par baan chalaaya gaya, doosare haathee ko samajhakar bhee baan nahin chalaana tha; kyonki aakhet mein haathee ko maarana varjit hai. baan jaakar shravanakumaar kee chhaatee mein laga aur ve cheekh maarakar gir pade tatha karaahane lage.

mahaaraaj vah shabd sunakar vahaan pahunche to dekha ki ek valkaladhaaree nirdosh baalak bhoomipar pada hai. usakee jataen bikhar gayee hai, paatr ka jal gir gaya hai aur usaka shareer dhool tatha rakt se lathapath ho raha hai. usane mahaaraaj ko dekhakar kaha—‘raajan! mainne to aapaka kabhee koee aparaadh kiya nahin tha; aapane mujhe kyon maara? mere maata-pita durbal tatha andhe hain. unake liye main yahaan jal lene aaya tha, ve meri prateeksha karate honge. unhen kya pata ki main yahaan is prakaar pada hoon. pata lag jaay to ve chal nahin sakate. mujhe apanee mrtyu ka koee duhkh nahin; kintu mujhe apane maata-pita ke liye bahut duhkh hai. aap unhen jaakar yah samaachaar suna den aur jal pilaakar unakee pyaas shaant karen.’

mahaaraaj dasharath shok se vyaakul ho rahe the. shravan ne unhen apane maata-pita ka pata tatha vahaan pahunchane ka maarg bataakar aashvaasan diya—‘aapako brahmahatya nahin lagegee. main braahman nahin, vaishy hoon. par mujhe bada kasht ho raha hai. aap yah apana baan meree chhaatee se nikaal den.’

baan nikaal lene par vyatha se tadapakar evan kaampakar shravan ne shareer chhod diya. ab mahaaraaj dasharath pashchaataap karate hue jalake paatr ko sarayoojee ke jal se bharakar shravan ke maata-pita ke paas pahunche. vahaan pahunchakar duhkh se bhare hue kanth se kisee prakaar unhonne apane aparaadh ka varnan kiya. ve donon andhe vrddh dampati putr ke marane kee baat sunakar atyant vyaakul ho gaye. unhonne rote-rote mahaaraaj se kaha ki ‘hamen apane putr ke mrt shareer ke paas pahuncha diya jaay.’ mahaaraaj dasharath ne donon ko kandhepar uthaakar vahaan pahunchaaya. usee samay mahaaraaj ne dekha ki munikumaar shravan maata-pita kee seva ke phal se divy rup dhaaran karake vimaan par baithakar svarg ko ja rahe hain. unhonne aashvaasan dete hue apane maata-pita se kaha-‘aap donon kee seva mein mainne yah uttam gati praapt kee hai. aap mere liye shok na karen. aap log bhee sheedhr hee mere paas aa jaiyega.’

isake pashchaat un donon ne sookhee lakadiyaan ekatr karaakar usapar shravan ka mrt deh rakhavaaya. sarayoojee mein snaan karake apane putr ko jalanjali dee aur phir usee chita mein girakar shareer chhod diya. antim samay mein unhonne duhkh ke veg mein mahaaraaj ko shaap de diya—‘jaise putr ke viyog mein ham donon mar rahe hain, vaise hee tumhaara shareer bhee putr ke viyog mein hee chhootega.’

shravan ke maata-pita bhee apane putr ke puny ke prabhaav se uttam lok ko praapt hue. is prakaar shravan ne maata-pita kee seva karake us dharm ke prabhaav se apana tatha maata-pita ka bhee uddhaar kar diya

Comments

comments