Wednesday , 15 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » माधुर्य रस में

माधुर्य रस में

madurey-rs-main

madurey-rs-main

Madurey Rs Main

श्रीकृष्ण में निष्ठा, सेवाभाव और असंकोच के साथ ममता एवं लालन भी रहता है । मधुर रस में पांचों रस हैं, जिस प्रकार आकाशादि भूतों के गुण क्रमश: अन्य भूतों से मिलते हुए पृथ्वी में सब गुण मिल जाते हैं, इसी प्रकार मधुर रस में भी सब रसों का समावेश है ।
रस रूप श्रीकृष्ण की लीलाएं माधुर्य रस में पगी हुई हैं । इन मधुर लीलाओं में रहनेवाले आनंद (रस) का वर्णन करने में जब सजीव मन और वाणी भी असमर्थ हैं, तब निर्जीव लेखनी क्या वर्णन करे ?

‘यतो वाचो निवर्तन्ते अप्राप्य मनसा सह’

यह तो हुआ संक्षेप में रसों के परस्पर संबंध का दिग्दर्शन और सब रसों का माधुर्य रस में समावेश । अब लेख के शीर्षक के अनुसार श्रीकृष्णलीला में माधुर्य क्या है ? इस पर विचार करना है । कोई भी चरित्र हो, जब तक उसमें मधुरता न होगी तब तक उसके श्रवण या मनन करने वालों में भावावेश नहीं हो सकता, और भाव के बिना भक्ति एवं भक्ति के अभाव में प्रेम असंभव है । प्रेमी के प्रेम का स्थायी रूप तभी होता है जब एक रस का अवलंबन मिलता है । जहां माधर्य नहीं वहां रस नहीं, मधुर (मिठास) – रहित नीरस वस्तु में प्रेम तो दूर की बात है । स्वार्थ बिना कामना भी नहीं होती ।

गुण, कामना रहित पल पल में बढ़नेवाला एक रस और अति सूक्ष्म है, अनुभव द्वारा ही कुछ जाना जा सकता है । मधुर रसाश्रय फ्रेम की परिपुष्टि विरह से होती है । मधुर रसमयी रासलीला में श्रीराधिका जी को अकेल छोड़ श्रीकृष्ण अंतर्धान हुए । उस समय की वियोगिनी श्रीराधिका की उक्ति –

हा नाथ ! रमण ! प्रेष्ठ ! क्वासि क्वासि महाभुज ।
दास्यास्ते कृपणाया मे सखे ! दर्शय सन्निधिम् ।।

कैसी मधुर है ?

माधुर्य में शांत, दास्य, सख्य के समावेश का ऐसा उदाहरण कहीं ढूंढे भी न मिलेगा । विरहासक्ति प्रेम की ऊंची दशा है, आसक्ति आकर्षण के बिना हो नहीं सकती । हमारे श्रीकृष्ण तो ‘कर्षयतीति कृष्ण:’ स्वयं ही खींच लेते हैं, अन्यावतारों से श्रीकृष्ण में यही विशेषता है, एवं अन्य चरित्रों से श्रीकृष्णलीला में माधुर्य रस ही प्रधान है । यदि श्रीकृष्णचरित्र में माधुर्य रस न होता तो संभवत: ‘लीलावतार श्रीकृष्ण’ यह प्रसिद्धि भी न होती । माधुर्यसमयी लीला के रसास्वादन करने वालों की अवस्था अनिर्वचनीय है ।

wish4me in English

shreekrshn mein nishtha, sevaabhaav aur asankoch ke saath mamata evan laalan bhee rahata hai . madhur ras mein paanchon ras hain, jis prakaar aakaashaadi bhooton ke gun kramash: any bhooton se milate hue prthvee mein sab gun mil jaate hain, isee prakaar madhur ras mein bhee sab rason ka samaavesh hai .
ras roop shreekrshn kee leelaen maadhury ras mein pagee huee hain . in madhur leelaon mein rahanevaale aanand (ras) ka varnan karane mein jab sajeev man aur vaanee bhee asamarth hain, tab nirjeev lekhanee kya varnan kare ?

‘yato vaacho nivartante apraapy manasa sah’

yah to hua sankshep mein rason ke paraspar sambandh ka digdarshan aur sab rason ka maadhury ras mein samaavesh . ab lekh ke sheershak ke anusaar shreekrshnaleela mein maadhury kya hai ? is par vichaar karana hai . koee bhee charitr ho, jab tak usamen madhurata na hogee tab tak usake shravan ya manan karane vaalon mein bhaavaavesh nahin ho sakata, aur bhaav ke bina bhakti evan bhakti ke abhaav mein prem asambhav hai . premee ke prem ka sthaayee roop tabhee hota hai jab ek ras ka avalamban milata hai . jahaan maadhary nahin vahaan ras nahin, madhur (mithaas) – rahit neeras vastu mein prem to door kee baat hai . svaarth bina kaamana bhee nahin hotee .

gun, kaamana rahit pal pal mein badhanevaala ek ras aur ati sookshm hai, anubhav dvaara hee kuchh jaana ja sakata hai . madhur rasaashray phrem kee paripushti virah se hotee hai . madhur rasamayee raasaleela mein shreeraadhika jee ko akel chhod shreekrshn antardhaan hue . us samay kee viyoginee shreeraadhika kee ukti –

ha naath ! raman ! preshth ! kvaasi kvaasi mahaabhuj .
daasyaaste krpanaaya me sakhe ! darshay sannidhim ..

kaisee madhur hai ?

maadhury mein shaant, daasy, sakhy ke samaavesh ka aisa udaaharan kaheen dhoondhe bhee na milega . virahaasakti prem kee oonchee dasha hai, aasakti aakarshan ke bina ho nahin sakatee . hamaare shreekrshn to ‘karshayateeti krshn:’ svayan hee kheench lete hain, anyaavataaron se shreekrshn mein yahee visheshata hai, evan any charitron se shreekrshnaleela mein maadhury ras hee pradhaan hai . yadi shreekrshnacharitr mein maadhury ras na hota to sambhavat: ‘leelaavataar shreekrshn’ yah prasiddhi bhee na hotee . maadhuryasamayee leela ke rasaasvaadan karane vaalon kee avastha anirvachaneey hai

Comments

comments