Friday , 19 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » महाभारत का कारण

महाभारत का कारण

mahaabhaarat-kaa-kaara%E1%B9%87a

mahaabhaarat-kaa-kaara%E1%B9%87a

Mahaabhaarat kaa kaaraṇa

Mahaabhaarat kaa kaaraṇa

एक समय राजाधिराज युधिष्ठिर अपने भाइयों सहित श्रीकृष्ण के साथ मयदानव द्वारा बनाई सभा में स्वर्ण सिंहासन पर देवराज इन्द्र के समान विराजमान थे। मयदानव निर्मित भवन में दुर्योधन को जल-स्थल का भान नहीं हुआ और दुर्योधन गिर पड़े। इस पर भीम ने हास्य-व्यंग्य किया जिससे की दुर्योधन ने अपमानित महसूस किया। इस प्रसंग पर लोग कहते हैं कि दुर्योधन को गिरते हुए देखकर द्रौपदी ने कहा कि “अंधे के पुत्र अंधे होते है।” ऐसा कहना ठीक नहीं। शास्त्रीय आधार पर भी ऐसा कहीं कोई प्रमाण नहीं मिलता कि द्रौपदी ने ऐसा अपशब्द बोला हो। वहां उस प्रसंग में द्रौपदी थी ही नहीं, तो बोली कैसे ? दूसरी बात द्रौपदी जैसी दया की देवी, ऐसा अपशब्द कैसे बोलती? जो भागवत में कहती है कि मुझे जो दु:ख मिला वैसा दु:ख किसी को भी ना मिले। द्रौपदी के चरित्र के साथ हमें न्याय करना चाहिए। उस प्रसंग में तो भीम थे। भीम हंसे, किंतु ऐसे अपशब्दो का प्रयोग नहीं किया। महाभारत में स्पष्ट है कि-

भूमौ निपतितं दृष्द्वा भीमसेनो महाबल:।
जहास जहसुश्चैव किंकराश्च सुयोधनम।।
फलत: महाभारत जैसा धर्म युद्ध हुआ। महाभारत में भगवान श्रीकृष्ण ने पग-पग पर पाण्डवों की रक्षा की और कौरवों का संहार हुआ।

wish4me in English

ek samay raajaadhiraaj yudhishthir apane bhaiyon sahit shreekrshn ke saath mayadaanav dvaara banaee sabha mein svarn sinhaasan par devaraaj indr ke samaan viraajamaan the. mayadaanav nirmit bhavan mein duryodhan ko jal-sthal ka bhaan nahin hua aur duryodhan gir pade. is par bheem ne haasy-vyangy kiya jisase kee duryodhan ne apamaanit mahasoos kiya. is prasang par log kahate hain ki duryodhan ko girate hue dekhakar draupadee ne kaha ki “andhe ke putr andhe hote hai.” aisa kahana theek nahin. shaastreey aadhaar par bhee aisa kaheen koee pramaan nahin milata ki draupadee ne aisa apashabd bola ho. vahaan us prasang mein draupadee thee hee nahin, to bolee kaise ? doosaree baat draupadee jaisee daya kee devee, aisa apashabd kaise bolatee? jo bhaagavat mein kahatee hai ki mujhe jo du:kh mila vaisa du:kh kisee ko bhee na mile. draupadee ke charitr ke saath hamen nyaay karana chaahie. us prasang mein to bheem the. bheem hanse, kintu aise apashabdo ka prayog nahin kiya. mahaabhaarat mein spasht hai ki-

bhoomau nipatitan drshdva bheemaseno mahaabal:.
jahaas jahasushchaiv kinkaraashch suyodhanam..
phalat: mahaabhaarat jaisa dharm yuddh hua. mahaabhaarat mein bhagavaan shreekrshn ne pag-pag par paandavon kee raksha kee aur kauravon ka sanhaar hua.

Comments

comments