Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग

mahakaleshwar-jyotirlinga

mahakaleshwar-jyotirlinga

mahakaleshwar-jyotirlinga

mahakaleshwar-jyotirlinga

उज्जैन में शिप्रा नदी के निकट स्थित महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग (Mahakaleshwar Jyotirling, Ujjain) देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में सबसे प्रसिद्ध है। पौराणिक मान्यता के अनुसार सच्चे मन से स्वयंभू भगवान महाकालेश्वर की पूजा-अर्चना करने वाले मनुष्य का काल भी कुछ नहीं बिगाड़ पाते।

महाकालेश्वर मंदिर की आरती (Mahakaleshwar Temple Bhasma Aarti)

महाकालेश्वर में प्रतिदिन सुबह होने वाली भस्म आरती के बारे में एक मान्यता यह भी है कि इसको देखे बिना भगवान का दर्शन अधूरा होता है। सोमवती अमावस्या के दिन यहां पूजा करने से समस्त पापों का नाश हो जाता है।

कथा (Mahakaleshwar Jyotirling History in Hindi)

एक किवंदिती के अनुसार उज्जैन में एक समय चंद्रसेन नामक शिवभक्त राजा था। एक पांच वर्षीय गोप बालक ने जब उसे शिव अर्चना करते देखा तब उससे इतना प्रभावित हुआ कि उसने भी अपने घर में पत्थर का एक टुकड़ा स्थापित करके भगवान शिव की अर्चना शुरू कर दी। वो उसमें इतना मग्न हो गया कि खाना-पीना भी भूल गया। गुस्से में उसकी मां ने पत्थर के टुकड़े को फेंक दिया। इस पर बालक रोने लगा और रोते हुए उसने भगवान शंकर को पुकारना शुरू कर दिया। रोते-रोते बालक बेहोश हो गया।

प्रकट हुआ मंदिर: होश आने पर देखता है कि वहां महाकाल का दिव्य मंदिर खड़ा है और उसमें उसके भोला नाथ भगवान शिव का रत्नमय लिंग प्रतिष्ठित हुआ है। उसी समय भगवान हनुमान वहां प्रकट हुए और बताया कि इस बालक की आठवीं पीढ़ी में नंद के घर स्वयं नारायण श्रीकृष्ण रूप में आएंगे। कहते हैं कि स्वयं भगवान आशुतोष द्वारा स्थापित शिवलिंग ही महाकालेश्वर है।

wish4me to English

ujjain mein shipra nadee ke nikat sthit mahaakaaleshvar jyotirling (mahakalaishwar jyotirling, ujjain) desh ke 12 jyotirlingon mein sabase prasiddh hai. pauraanik maanyata ke anusaar sachche man se svayambhoo bhagavaan mahaakaaleshvar kee pooja-archana karane vaale manushy ka kaal bhee kuchh nahin bigaad paate.

mahaakaaleshvar mandir kee aaratee (mahakalaishwar taimplai bhasm aarti)

mahaakaaleshvar mein pratidin subah hone vaalee bhasm aaratee ke baare mein ek maanyata yah bhee hai ki isako dekhe bina bhagavaan ka darshan adhoora hota hai. somavatee amaavasya ke din yahaan pooja karane se samast paapon ka naash ho jaata hai.

katha (mahakalaishwar jyotirling history in hindi)

ek kivanditee ke anusaar ujjain mein ek samay chandrasen naamak shivabhakt raaja tha. ek paanch varsheey gop baalak ne jab use shiv archana karate dekha tab usase itana prabhaavit hua ki usane bhee apane ghar mein patthar ka ek tukada sthaapit karake bhagavaan shiv kee archana shuroo kar dee. vo usamen itana magn ho gaya ki khaana-peena bhee bhool gaya. gusse mein usakee maan ne patthar ke tukade ko phenk diya. is par baalak rone laga aur rote hue usane bhagavaan shankar ko pukaarana shuroo kar diya. rote-rote baalak behosh ho gaya.

prakat hua mandir: hosh aane par dekhata hai ki vahaan mahaakaal ka divy mandir khada hai aur usamen usake bhola naath bhagavaan shiv ka ratnamay ling pratishthit hua hai. usee samay bhagavaan hanumaan vahaan prakat hue aur bataaya ki is baalak kee aathaveen peedhee mein nand ke ghar svayan naaraayan shreekrshn roop mein aaenge. kahate hain ki svayan bhagavaan aashutosh dvaara sthaapit shivaling hee mahaakaaleshvar hai.

Comments

comments