Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » मैं हरि बिन क्यूँ जियूँ री माई

मैं हरि बिन क्यूँ जियूँ री माई

main-hari-bin-kyoon-jiyoon-ree-maee

main-hari-bin-kyoon-jiyoon-ree-maee

hari

hari

मैं हरि बिन क्यूं जिऊं री माई॥

पिव कारण बौरी भई, ज्यूं काठहि घुन खाई॥
मैं हरि बिन क्यूं जिऊं री माई॥

ओखद मूल न संचरै, मोहि लाग्यो बौराई॥
मैं हरि बिन क्यूं जिऊं री माई॥

कमठ दादुर बसत जल में जलहि ते उपजाई।
मैं हरि बिन क्यूं जिऊं री माई॥

मीन जल के बीछुरे तन तलफि करि मरि जाई॥
मैं हरि बिन क्यूं जिऊं री माई॥

पिव ढूंढण बन बन गई, कहुं मुरली धुनि पाई।
मैं हरि बिन क्यूं जिऊं री माई॥

मीरा के प्रभु लाल गिरधर मिलि गये सुखदाई॥
मैं हरि बिन क्यूं जिऊं री माई॥

wish4me in English

main hari bin kyoon jioon ree maee.

piv kaaran bauree bhee, jyoon kaathahi ghun khaee.
main hari bin kyoon jioon ree maee.

okhad mool na sancharai, mohi laagyo bauraee.
main hari bin kyoon jioon ree maee.

kamath daadur basat jal mein jalahi te upajaee.
main hari bin kyoon jioon ree maee.

meen jal ke beechhure tan talaphi kari mari jaee.
main hari bin kyoon jioon ree maee.

piv dhoondhan ban ban gaee, kahun muralee dhuni paee.
main hari bin kyoon jioon ree maee.

meera ke prabhu laal giradhar mili gaye sukhadaee.
main hari bin kyoon jioon ree maee

Comments

comments