Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मन की आवाज

मन की आवाज

man-kee-aavaaj

man-kee-aavaaj


किसी गांव के किनारे एक मंदिर था, मंदिर में एक साधु रहता था। गांव में एक चोर भी रहता था। चोर खाते पीते घर का बेटा था। चोर हो गया तो जिंदगी भी चोर की ही घसीटनी पड़ रही थी। किसी ने उसकी शादी नहीं की।
चोर अपने ही गांव में हाथ मारता था, लोग उसे कबाड़ी चोर कहते थे। क्योंकि वह छोटी छोटी चोरी ही करता था। उसके चोरी करने से लोगों को दुख अधिक होता था हानि कम। चोर को लाभ कुछ नहीं था पर परेशानी दुनिया भर की। चोर ने सोचा मंदिर के चढ़ावों से साधु की थैली भरी पड़ी है। वह संपत्ति भी उसकी मुफ्त की ही है, खून पसीने की तो है नहीं।
अब उसने साधु की कुटिया पर आना जाना शुरू कर दिया। बगुला भगत की श्रद्धा भक्ति से साधु महाराज तो गद्गद् हो उठे। चोर मुंह में राम बगल में छुरी लेकर दिन भर साधु महाराज की सेवा करता। वैसे साधु भी जानता था कि यह चोर खड़ग सिंह तो है नहीं, कबाड़ी चोर है। दिन में इसे हाथ नहीं डालना है, रात में मुझे इसको घास नहीं डालनी है, इसलिए मेरी थैली का बाल बांका होने से रहा।
थैली के आकार को देखकर कबाड़ी चोर की तबीयत हरी होती रहती थी। उस दिन चोर रात होने पर कुटिया से उठाए नहीं उठा। दाव में कबाड़ी चोर और बचाव में साधु महाराज रात भर करवट पर करवट बदलते रहे। जब झाड़ी में मुर्गे ने बांग दी तो साधु महाराज की जान में जान आई।
अगले दिन से साधु महाराज रात को थैली बाहर रख देता और सुबह भीतर। साधु रात भर खर्राटें भरता रहता। चोर रात भर थैली को ढूंढ़ता थक जाता।
घनघोर अंधेरी रात में साधु की आत्मा ने कहा, तू पापी महात्मा है। उस थैली से तेरा क्या लगाव? बेचारे चोर का भला कर।
उसी रात चोर की आत्मा ने भी कहा, दो आंख, दो हाथ, दो पैर, छः संपत्ति भगवान ने तुझे दे रखी हैं। तू उनका दुरूपयोग मत कर। चोरी के चक्कर में पड़कर जिंदगी को गवां रहा है। करने वाला क्या नहीं कर सकता? जब तक नीयत में फितूर रहेगा तब तक भाग्य भी तुझ पर मेहरबान नहीं होगा। एक लंबी जिंदगी इस थैली के सहारे कितने दिन कटेगी।
उस रात साधु ने वह थैली बाहर नहीं रखी।
सुबह साधु महाराज ने देखा थैली तो वहीं पर है पर आज कबाड़ी चोर नहीं था। कबाड़ी चोर होता भी कैसे? उसकी अंतरात्मा जाग गई थी।


kisee gaanv ke kinaare ek mandir tha, mandir mein ek saadhu rahata tha. gaanv mein ek chor bhee rahata tha. chor khaate peete ghar ka beta tha. chor ho gaya to jindagee bhee chor kee hee ghaseetanee pad rahee thee. kisee ne usakee shaadee nahin kee.
chor apane hee gaanv mein haath maarata tha, log use kabaadee chor kahate the. kyonki vah chhotee chhotee choree hee karata tha. usake choree karane se logon ko dukh adhik hota tha haani kam. chor ko laabh kuchh nahin tha par pareshaanee duniya bhar kee. chor ne socha mandir ke chadhaavon se saadhu kee thailee bharee padee hai. vah sampatti bhee usakee mupht kee hee hai, khoon paseene kee to hai nahin.
ab usane saadhu kee kutiya par aana jaana shuroo kar diya. bagula bhagat kee shraddha bhakti se saadhu mahaaraaj to gadgad ho uthe. chor munh mein raam bagal mein chhuree lekar din bhar saadhu mahaaraaj kee seva karata. vaise saadhu bhee jaanata tha ki yah chor khadag sinh to hai nahin, kabaadee chor hai. din mein ise haath nahin daalana hai, raat mein mujhe isako ghaas nahin daalanee hai, isalie meree thailee ka baal baanka hone se raha.
thailee ke aakaar ko dekhakar kabaadee chor kee tabeeyat haree hotee rahatee thee. us din chor raat hone par kutiya se uthae nahin utha. daav mein kabaadee chor aur bachaav mein saadhu mahaaraaj raat bhar karavat par karavat badalate rahe. jab jhaadee mein murge ne baang dee to saadhu mahaaraaj kee jaan mein jaan aaee.
agale din se saadhu mahaaraaj raat ko thailee baahar rakh deta aur subah bheetar. saadhu raat bhar kharraaten bharata rahata. chor raat bhar thailee ko dhoondhata thak jaata.
ghanaghor andheree raat mein saadhu kee aatma ne kaha, too paapee mahaatma hai. us thailee se tera kya lagaav? bechaare chor ka bhala kar.
usee raat chor kee aatma ne bhee kaha, do aankh, do haath, do pair, chhah sampatti bhagavaan ne tujhe de rakhee hain. too unaka duroopayog mat kar. choree ke chakkar mein padakar jindagee ko gavaan raha hai. karane vaala kya nahin kar sakata? jab tak neeyat mein phitoor rahega tab tak bhaagy bhee tujh par meharabaan nahin hoga. ek lambee jindagee is thailee ke sahaare kitane din kategee.
us raat saadhu ne vah thailee baahar nahin rakhee.
subah saadhu mahaaraaj ne dekha thailee to vaheen par hai par aaj kabaadee chor nahin tha. kabaadee chor hota bhee kaise? usakee antaraatma jaag gaee thee.

Comments

comments