Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » मर्थोमा बिशप श्राइन

मर्थोमा बिशप श्राइन

marthoma-bishap-shrain

marthoma-bishap-shrain

marthoma bishap shrain

marthoma bishap shrain

मर्थोमा बिशप श्राइन (Marthoma Pontifical Shrine) ईसाइयों का प्रमुख तीर्थस्थान है जो कि मुज़ीरिस विरासत परियोजना के अंतर्गत आता है। यह चर्च केरल के अज़हीकोड गांव में पेरियार नदी के तट पर कोडुन्गल्लुर से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

ईसाई मान्यता (Historical Belief in Hindi)

यहां की मान्यता है कि सेंट थॉमस जो कि ईसा मसीह यानि यीशु के बारह अनुयायियों में से एक थे, 21 नवम्बर 52 ईस्वी को केरल के गांव कोडुन्गल्लुर जो उस समय मुजीरिस नाम से जाना जाता थे में पहुंचे थे। माना जाता है कि उन्होंने केरल में 7 चर्चों का गठन करवाया जिनमें से सबसे पहला कोडुन्गल्लुर गांव में बनवाया गया था।

प्राचीन इतिहास (History of the Shrine in Hindi)

कोडुन्गल्लुर एक प्राचीन बंदरगाह था जिसने अपने यहां मौजूद चर्च संबंधी महत्त्व और अपनी शौहरत टीपू सुल्तान के द्वारा हमले कराने के बाद खो दी थी और उस समय यहां का विकास भी काफी कम हो गया था। इसके ऐतिहासिक महत्त्व को दोबारा तब स्वीकारा गया जब सेंट थॉमस के भारत आने की 19वीं शताब्दी समारोह के अवसर पर वेटिकन शहर से केराला में मौजूद सेंट थॉमस ईसाइयों के लिए उपहार भिजवाया गया।

यहां सेंट थॉमस के दाहिने हाथ की हड्डी इटली के ओरटोना शहर से लाई गई और 6 दिसम्बर 1953 में इस पवित्र तीर्थस्थान में रखा गया। तब से यह तीर्थस्थान ईसाइयों के लिए एक महान तीर्थस्थल के तौर पर चर्चित है और दुनियाभर के तीर्थयात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करता आ रहा है।

wish4me to English

marthoma bishap shrain (marthoma bishap teerth) eesaiyon ka pramukh teerthasthaan hai jo ki muzeeris viraasat pariyojana ke antargat aata hai. yah charch keral ke azaheekod gaanv mein periyaar nadee ke tat par kodungallur se 6 kilomeetar kee dooree par sthit hai.

eesaee maanyata (hindee mein aitihaasik vishvaas)

yahaan kee maanyata hai ki sent thomas jo ki eesa maseeh yaani yeeshu ke baarah anuyaayiyon mein se ek the, 21 navambar 52 eesvee keral ke gaanv kodungallur jo us samay mujeeris naam se jaana jaata the mein pahunche the ko. maana jaata hai ki unhonne keral mein 7 charchon ka gathan karavaaya jinamen se sabase pahala kodungallur gaanv mein banavaaya gaya tha.

praacheen itihaas (hindee mein teerth ka itihaas)

kodungallur ek praacheen bandaragaah tha jisane apane yahaan maujood charch sambandhee mahattv aur apanee shauharat teepoo sultaan ke dvaara hamale karaane ke baad kho dee thee aur us samay yahaan ka vikaas bhee kaaphee kam ho gaya tha. isake aitihaasik mahattv ko dobaara tab sveekaara gaya jab sent thomas ke bhaarat aane kee 19 veen shataabdee samaaroh ke avasar par vetikan shahar se keraala mein maujood sent thomas eesaiyon ke lie upahaar bhijavaaya gaya.

yahaan sent thomas ke daahine haath kee haddee italee ke oratona shahar se laee gaee aur 6 disambar 1953 mein is pavitr teerthasthaan mein rakha gaya. tab se yah teerthasthaan eesaiyon ke lie ek mahaan teerthasthal ke taur par charchit hai aur duniyaabhar ke teerthayaatriyon ko apanee or aakarshit karata aa raha hai.

Comments

comments