Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » माता लक्ष्मी के आठो स्वरुप और उनके आह्वान मंत्र

माता लक्ष्मी के आठो स्वरुप और उनके आह्वान मंत्र

mata-laxmi-ke-aatho-swaroop-aur-unke-aahawaan-mantr

mata-laxmi-ke-aatho-swaroop-aur-unke-aahawaan-mantr

Lakxmi mata

जीवन में सभी प्रकार की सुख समृद्धि प्राप्त करने के लिए माता लक्ष्मी की कृपा हासिल करना आवश्यक है। कमलवासिनी मां लक्ष्मी के आठ स्वरुप हैं। जिनकी पूजा से समस्त सुखों की प्राप्ति होती है। भगवती विष्णुप्रिया को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रों का प्रतिदिन 108 बार कमलगट्टे की माला से जप करें। माता लक्ष्मी के आठो स्वरुप और उनके आह्वान मंत्र निम्नांकित हैं।
1. धन-लक्ष्मी- ऊँ आद्य लक्ष्म्यै नमः(धन प्राप्ति के लिए)
2. यश-लक्ष्मी- ऊँ विद्या लक्ष्म्यै नमः(सम्मान और ऐश्वर्य के लिए)
3. आयु-लक्ष्मी- ऊँ सौभाग्य लक्ष्म्यै नमः(दीर्घायु और आरोग्य के लिए)
4. वाहन-लक्ष्मी- ऊँ वाहन लक्ष्म्यै नमः(वाहन प्राप्त करने के लिए)
5. स्थिर लक्ष्मी- ऊँ अन्न लक्ष्म्यै नमः(उत्तम भोजन और स्थायी संपत्ति के लिए)
6. सत्य लक्ष्मी- ऊँ सत्य लक्ष्म्यै नमः (मनोनुकूल पत्नी के लिए)
7. संतान-लक्ष्मी- ऊँ भोग लक्ष्म्यै नमः (संतान प्राप्ति के लिए)
8. गृह-लक्ष्मी- ऊँ योग लक्ष्म्यै नमः(घर प्राप्त करने के लिए)

 

in English [translate]

Jeevan men sabhee prakaar kee sukh samriddhi praapt karane ke lie maataa lakṣmee kee kripaa haasil karanaa aavashyak hai. Kamalavaasinee maan lakṣmee ke aaṭh svarup hain. Jinakee poojaa se samast sukhon kee praapti hotee hai. Bhagavatee viṣṇaupriyaa ko prasann karane ke lie unake mntron kaa pratidin 108 baar kamalagaṭṭe kee maalaa se jap karen. Maataa lakṣmee ke aaṭho svarup aur unake aahvaan mntr nimnaankit hain. 1. Dhan-lakṣmee- oon aady lakṣmyai namah(dhan praapti ke lie)
2. Yash-lakṣmee- oon vidyaa lakṣmyai namah(sammaan aur aishvary ke lie)
3. Aayu-lakṣmee- oon saubhaagy lakṣmyai namah(deerghaayu aur aarogy ke lie)
4. Vaahan-lakṣmee- oon vaahan lakṣmyai namah(vaahan praapt karane ke lie)
5. Sthir lakṣmee- oon ann lakṣmyai namah(uttam bhojan aur sthaayee snpatti ke lie)
6. Saty lakṣmee- oon saty lakṣmyai namah (manonukool patnee ke lie)
7. Sntaan-lakṣmee- oon bhog lakṣmyai namah (sntaan praapti ke lie)
8. Grih-lakṣmee- oon yog lakṣmyai namah(ghar praapt karane ke lie)

 

Lakxmi mata1

Comments

comments