Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Goddess » माता सीता के स्वयंवर की कथा

माता सीता के स्वयंवर की कथा

mata-sita-ke-svemver-ki-katha

mata-sita-ke-svemver-ki-katha

 

Mata Sita Ke svemver Ki katha

सीता के स्वयंवर की कथा वाल्मीकि रामायण और रामचरित मानस के बालकांड सहित सभी रामकथाओं में मिलती है। वाल्मीकि रामायण में जनक द्वारा सीता के लिए वीर्य शुल्क का संबोधन मिलता है। जिसका अर्थ है राजा जनक ने यह निश्चय किया था कि जो व्यक्ति अपने पराक्रम के प्रदर्शन रूपी शुल्क को देने में समर्थ होगा, वही सीता से विवाह कर सकेगा। किशोरी सीता के लिए योग्य वर प्राप्त करना कठिन हो गयाथा, क्योंकि सीता ने मानव-योनि से जन्म नहीं लिया था। अंत में राजा जनक ने सीता का स्वयंवर रचा। एक बार दक्ष यक्ष के अवसर पर वरुण देव ने राजा जनक को एक धनुष और बाणों से आपूरित दो तरकश दिये थे। वह धनुष अनेक लोग मिलकर भी हिला नहीं पाते थे। जनक ने घोषणा की कि जो मनुष्य धनुष को उठाकर उसकी प्रत्यंचा चढ़ा देगा, उससे वे सीता का विवाह कर देंगे। महाराज जनक ने उपस्थित ऋषिमुनियों के आशीर्वाद से स्वयंवर के लिये शिवधनुष उठाने के नियम की घोषणा की। सभा में उपस्थित सभी राजकुमार, राजा व महाराजा धनुष उठाने में विफल रहे। यह देखकर विश्वामित्र ने राम से प्रतियोगिता में हिस्सा लेने को कहा। गुरु की आज्ञा मानते हुए श्रीराम ने अत्यंत सहजता से वह धनुष उठाकर चढ़ाया और मध्य से तोड़ डाला। इस प्रकार स्वयंवर को जीत श्रीराम ने माता सीता से विवाह किया था। इस विवाह से धरती, पाताल और स्वर्ग लोक में खुशियों की लहर दौड़ पड़ी। राजा दशरथ और जनक ने अपनी वंशावली का पूर्ण परिचय देकर सीता और उर्मिला का विवाह राम और लक्ष्मण से तथा विश्वामित्र के प्रस्ताव से कुशध्वज की दो सुंदरी कन्याओं मांडवी-श्रुतकीर्ति का विवाह भरत तथा शत्रुघ्न के साथ निश्चित कर दिया।


 

seeta ke svayanvar kee katha vaalmeeki raamaayan aur raamacharit maanas ke baalakaand sahit sabhee raamakathaon mein milatee hai. vaalmeeki raamaayan mein janak dvaara seeta ke lie veery shulk ka sambodhan milata hai. jisaka arth hai raaja janak ne yah nishchay kiya tha ki jo vyakti apane paraakram ke pradarshan roopee shulk ko dene mein samarth hoga, vahee seeta se vivaah kar sakega. kishoree seeta ke lie yogy var praapt karana kathin ho gayaatha, kyonki seeta ne maanav-yoni se janm nahin liya tha. ant mein raaja janak ne seeta ka svayanvar racha. ek baar daksh yaksh ke avasar par varun dev ne raaja janak ko ek dhanush aur baanon se aapoorit do tarakash diye the. vah dhanush anek log milakar bhee hila nahin paate the. janak ne ghoshana kee ki jo manushy dhanush ko uthaakar usakee pratyancha chadha dega, usase ve seeta ka vivaah kar denge. mahaaraaj janak ne upasthit rshimuniyon ke aasheervaad se svayanvar ke liye shivadhanush uthaane ke niyam kee ghoshana kee. sabha mein upasthit sabhee raajakumaar, raaja va mahaaraaja dhanush uthaane mein viphal rahe. yah dekhakar vishvaamitr ne raam se pratiyogita mein hissa lene ko kaha. guru kee aagya maanate hue shreeraam ne atyant sahajata se vah dhanush uthaakar chadhaaya aur madhy se tod daala. is prakaar svayanvar ko jeet shreeraam ne maata seeta se vivaah kiya tha. is vivaah se dharatee, paataal aur svarg lok mein khushiyon kee lahar daud padee. raaja dasharath aur janak ne apanee vanshaavalee ka poorn parichay dekar seeta aur urmila ka vivaah raam aur lakshman se tatha

Comments

comments