Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » मेरे नाम का गुब्बारा !

मेरे नाम का गुब्बारा !

mere-nam-ka-gubara

mere-nam-ka-gubara

mere nam ka gubara

mere nam ka gubara

एक बार पचास लोगों का ग्रुप किसी सेमीनार में हिस्सा ले रहा था।

सेमीनार शुरू हुए अभी कुछ ही मिनट बीते थे कि स्पीकर अचानक ही रुका और सभी पार्टिसिपेंट्स को गुब्बारे देते हुए बोला , ” आप सभी को गुब्बारे पर इस मार्कर से अपना नाम लिखना है। ”

सभी ने ऐसा ही किया।

अब गुब्बारों को एक दुसरे कमरे में रख दिया गया।

स्पीकर ने अब सभी को एक साथ कमरे में जाकर पांच मिनट के अंदर अपना नाम वाला गुब्बारा ढूंढने के लिए कहा।

सारे पार्टिसिपेंट्स तेजी से रूम में घुसे और पागलों की तरह अपना नाम वाला गुब्बारा ढूंढने लगे। पर इस अफरा-तफरी में किसी को भी अपने नाम वाला गुब्बारा नहीं मिल पा रहा था…

पांच मिनट बाद सभी को बाहर बुला लिया गया।

स्पीकर बोला , ” अरे! क्या हुआ , आप सभी खाली हाथ क्यों हैं ? क्या किसी को अपने नाम वाला गुब्बारा नहीं मिला ?”

” नहीं ! हमने बहुत ढूंढा पर हमेशा किसी और के नाम का ही गुब्बारा हाथ आया…”, एक पार्टिसिपेंट कुछ मायूस होते हुए बोला।

“कोई बात नहीं , आप लोग एक बार फिर कमरे में जाइये , पर इस बार जिसे जो भी गुब्बारा मिले उसे अपने हाथ में ले और उस व्यक्ति का नाम पुकारे जिसका नाम उसपर लिखा हुआ है। “, स्पीकर ने निर्दश दिया।

एक बार फिर सभी पार्टिसिपेंट्स कमरे में गए, पर इस बार सब शांत थे , और कमरे में किसी तरह की अफरा-तफरी नहीं मची हुई थी। सभी ने एक दुसरे को उनके नाम के गुब्बारे दिए और तीन मिनट में ही बाहर निकले आये।

स्पीकर ने गम्भीर होते हुए कहा , ” बिलकुल यही चीज हमारे जीवन में भी हो रही है। हर कोई  अपने लिए ही जी रहा है , उसे इससे कोई मतलब नहीं कि वह किस तरह औरों की मदद कर सकता है , वह तो  बस  पागलों की तरह अपनी ही खुशियां ढूंढ रहा है  , पर बहुत ढूंढने के बाद भी उसे कुछ नहीं मिलता , दोस्तों हमारी ख़ुशी दूसरों की ख़ुशी में छिपी हुई है। जब तुम औरों को उनकी खुशियां देना सीख जाओगे तो अपने आप ही तुम्हे तुम्हारी खुशियां मिल जाएँगी।और यही मानव-जीवन का उद्देश्य है।”

wish4me to English

Ek baar pachaas logon kaa grup kisee semeenaar men hissaa le rahaa thaa. Semeenaar shuroo hue abhee kuchh hee minaṭ beete the ki speekar achaanak hee rukaa aur sabhee paarṭisipenṭs ko gubbaare dete hue bolaa , ” aap sabhee ko gubbaare par is maarkar se apanaa naam likhanaa hai. ”

sabhee ne aisaa hee kiyaa. Ab gubbaaron ko ek dusare kamare men rakh diyaa gayaa. Speekar ne ab sabhee ko ek saath kamare men jaakar paanch minaṭ ke andar apanaa naam vaalaa gubbaaraa ḍhoonḍhane ke lie kahaa. Saare paarṭisipenṭs tejee se room men ghuse aur paagalon kee tarah apanaa naam vaalaa gubbaaraa ḍhoonḍhane lage. Par is afaraa-tafaree men kisee ko bhee apane naam vaalaa gubbaaraa naheen mil paa rahaa thaa…

paanch minaṭ baad sabhee ko baahar bulaa liyaa gayaa. Speekar bolaa , ” are! Kyaa huaa , aap sabhee khaalee haath kyon hain ? Kyaa kisee ko apane naam vaalaa gubbaaraa naheen milaa ?”

” naheen ! Hamane bahut ḍhoonḍhaa par hameshaa kisee aur ke naam kaa hee gubbaaraa haath aayaa…”, ek paarṭisipenṭ kuchh maayoos hote hue bolaa.

“koii baat naheen , aap log ek baar fir kamare men jaa_iye , par is baar jise jo bhee gubbaaraa mile use apane haath men le aur us vyakti kaa naam pukaare jisakaa naam usapar likhaa huaa hai. “, speekar ne nirdash diyaa. Ek baar fir sabhee paarṭisipenṭs kamare men ga_e, par is baar sab shaant the , aur kamare men kisee tarah kee afaraa-tafaree naheen machee huii thee. Sabhee ne ek dusare ko unake naam ke gubbaare die aur teen minaṭ men hee baahar nikale aaye. Speekar ne gambheer hote hue kahaa , ” bilakul yahee cheej hamaare jeevan men bhee ho rahee hai. Har koii apane lie hee jee rahaa hai , use isase koii matalab naheen ki vah kis tarah auron kee madad kar sakataa hai , vah to bas paagalon kee tarah apanee hee khushiyaan ḍhoonḍh rahaa hai , par bahut ḍhoonḍhane ke baad bhee use kuchh naheen milataa , doston hamaaree khushee doosaron kee khushee men chhipee huii hai. Jab tum auron ko unakee khushiyaan denaa seekh jaa_oge to apane aap hee tumhe tumhaaree khushiyaan mil jaa_engee. Aur yahee maanav-jeevan kaa uddeshy hai.”

Comments

comments