Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मेरी ख्वाइश (My wishes)

मेरी ख्वाइश (My wishes)

my-wishes

my-wishes

My wishesMy wishes

My wishes

वह प्राइमरी स्कूल की टीचर थी | सुबह उसने बच्चो का टेस्ट लिया था और उनकी कॉपिया जाचने के लिए घर ले आई थी | बच्चो की कॉपिया देखते देखते उसके आंसू बहने लगे | उसका पति वही लेटे TV देख रहा था | उसने रोने का कारण पूछा ।

टीचर बोली , “सुबह मैंने बच्चो को ‘मेरी सबसे बड़ी ख्वाइश’ विषय पर कुछ पंक्तिया लिखने को कहा था ; एक बच्चे ने इच्छा जाहिर करी है की भगवन उसे टेलीविजन बना दे |

यह सुनकर पतिदेव हंसने लगे |

टीचर बोली , “आगे तो सुनो बच्चे ने लिखा है यदि मै TV बन जाऊंगा, तो घर में मेरी एक खास जगह होगी और सारा परिवार मेरे इर्द-गिर्द रहेगा | जब मै बोलूँगा, तो सारे लोग मुझे ध्यान से सुनेंगे | मुझे रोका टोका नहीं जायेंगा और नहीं उल्टे सवाल होंगे | जब मै TV बनूंगा, तो पापा ऑफिस से आने के बाद थके होने के बावजूद मेरे साथ बैठेंगे | मम्मी को जब तनाव होगा, तो वे मुझे डाटेंगी नहीं, बल्कि मेरे साथ रहना चाहेंगी | मेरे बड़े भाई-बहनों के बीच मेरे पास रहने के लिए झगडा होगा | यहाँ तक की जब TV बंद रहेंगा, तब भी उसकी अच्छी तरह देखभाल होंगी | और हा, TV के रूप में मै सबको ख़ुशी भी दे सकूँगा | “

यह सब सुनने के बाद पति भी थोड़ा गंभीर होते हुए बोला , ‘हे भगवान ! बेचारा बच्चा …. उसके माँ-बाप तो उस पर जरा भी ध्यान नहीं देते !’

 टीचर पत्नी ने आंसूं भरी आँखों से उसकी तरफ देखा और बोली, “जानते हो, यह बच्चा कौन है? ………………………हमारा अपना बच्चा…….. हमारा छोटू |”

सोचिये, यह छोटू कही आपका बच्चा तो नहीं ।

मित्रों , आज की भाग-दौड़ भरी ज़िन्दगी में हमें वैसे ही एक दूसरे के लिए कम वक़्त मिलता है , और अगर हम वो भी सिर्फ टीवी देखने , मोबाइल पर गेम खेलने और फेसबुक से चिपके रहने में गँवा देंगे तो हम कभी अपने रिश्तों की अहमियत और उससे मिलने वाले प्यार को नहीं समझ पायेंगे।

चलिए प्रयास करें की हमारी वजह से किसी छोटू को टीवी बनने के बारे में ना सोचना पड़े!

wish4me to Englsih

vah praimaree skool kee teechar thee | subah usane bachcho ka test liya tha aur unakee kopiya jaachane ke lie ghar le aaee thee | bachcho kee kopiya dekhate dekhate usake aansoo bahane lage | usaka pati vahee lete tv dekh raha tha | usane rone ka kaaran poochha .

teechar bolee , “subah mainne bachcho ko ‘meree sabase badee khvaish’ vishay par kuchh panktiya likhane ko kaha tha ; ek bachche ne ichchha jaahir karee hai kee bhagavan use teleevijan bana de |

yah sunakar patidev hansane lage |

teechar bolee , “aage to suno bachche ne likha hai yadi mai tv ban jaoonga, to ghar mein meree ek khaas jagah hogee aur saara parivaar mere ird-gird rahega | jab mai boloonga, to saare log mujhe dhyaan se sunenge | mujhe roka toka nahin jaayenga aur nahin ulte savaal honge | jab mai tv banoonga, to paapa ophis se aane ke baad thake hone ke baavajood mere saath baithenge | mammee ko jab tanaav hoga, to ve mujhe daatengee nahin, balki mere saath rahana chaahengee | mere bade bhaee-bahanon ke beech mere paas rahane ke lie jhagada hoga | yahaan tak kee jab tv band rahenga, tab bhee usakee achchhee tarah dekhabhaal hongee | aur ha, tv ke roop mein mai sabako khushee bhee de sakoonga | “

yah sab sunane ke baad pati bhee thoda gambheer hote hue bola , ‘he bhagavaan ! bechaara bachcha …. usake maan-baap to us par jara bhee dhyaan nahin dete !’

teechar patnee ne aansoon bharee aankhon se usakee taraph dekha aur bolee, “jaanate ho, yah bachcha kaun hai? ………………………hamaara apana bachcha…….. hamaara chhotoo |”
sochiye, yah chhotoo kahee aapaka bachcha to nahin .

mitron , aaj kee bhaag-daud bharee zindagee mein hamen vaise hee ek doosare ke lie kam vaqt milata hai , aur agar ham vo bhee sirph teevee dekhane , mobail par gem khelane aur phesabuk se chipake rahane mein ganva denge to ham kabhee apane rishton kee ahamiyat aur usase milane vaale pyaar ko nahin samajh paayenge.

chalie prayaas karen kee hamaaree vajah se kisee chhotoo ko teevee banane ke baare mein na sochana pade

Comments

comments