Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » नागलोक तक जाता है ये कुआं! यही है कारकोटक नाग तीर्थ

नागलोक तक जाता है ये कुआं! यही है कारकोटक नाग तीर्थ

naagalok-tak-jaata-hai-ye-kuaan-yahee-hai-kaarakotak-naag-teerth

naagalok-tak-jaata-hai-ye-kuaan-yahee-hai-kaarakotak-naag-teerth

naagalok tak jaata hai ye kuaan! yahee hai kaarakotak naag teerth

naagalok tak jaata hai ye kuaan! yahee hai kaarakotak naag teerth

काशी के नवापुरा क्षेत्र में एक ऐसा कुआं है जिसके बारे में मान्‍यता है कि इसकी अथाह गहराई नागलोक तक जाती है। कारकोटक नाग तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध इस कुएं की गहराई कितनी है इस बात की जानकारी किसी को भी नहीं। धर्मशास्‍त्रों के अनुसार इस कूप के दर्शन मात्र से ही नागदंश के भय से मुक्‍ति मिल जाती है।
महर्षि पाणिनी के महाभाष्‍य की यहीं हुई रचना
करकोटक नाग तीर्थ के नाम से विख्‍यात इसी पवित्र स्‍थान पर शेषावतार (नागवंश) के महर्षि पतंजलि ने व्याकरणाचार्य पाणिनी के महाभाष्य की रचना की थी। मान्यता यह भी है की इस कूप का रास्ता सीधे नाग लोक को जाता है। इस कूप की सबसे बड़ी महत्ता ये हैं की इस कूप में स्नान व पूजा मात्र से ही सारे पापों का नाश हो जाता है। कूप में स्नान मात्र से ही नाग दोष से मुक्ति मिल जाती है, ऐसी मान्‍यता है। पूरे विश्व में काल सर्प दोष की सिर्फ तीन जगह ही पूजा होती हैं उसमे से ये कुंड प्रधान कुंड हैं।

छोटे गुरू और बड़े गुरू के पीछे की कहानी
काशी के ज्योतिषाचार्य पवन त्रिपाठी बताते हैं, ”वैसे तो नागपंचमी के दिन छोटे गुरू और बड़े गुरू के लिए जो शब्द प्रयोग किया जाता है उससे तात्पर्य यह है कि हम बड़े व छोटे दोनों ही नागों का सम्मान करते हैं और दोनों की ही विधिविधानपूर्वक पूजन अर्चन करते हैं। क्योकि, महादेव के श्रृंगार के रूप में उनके गले में सजे बड़े नागदेव हैं तो वहीं उनके पैरों के समीप छोटे-छोटे नाग भी हैं और वो भी हमारी आस्था से गहरे जुड़े हुए हैं।”
व्याकरण की दृष्टि से अगर देखे तो पतंजलि ऋषि को बड़े गुरू और पाणिनी ऋषि को छोटे गुरू की संज्ञा दी जाती है। यह गुरू शब्द का प्रयोग एकमात्र काशी की ही परंपरा से जुड़ी हुई है क्योकि इन दोनों ही ऋषियों ने व्याकरण को विस्तारित रूप देने का काम किया है।

wish4me to English

kaashee ke navaapura kshetr mein ek aisa kuaan hai jisake baare mein maan‍yata hai ki isakee athaah gaharaee naagalok tak jaatee hai. kaarakotak naag teerth ke naam se prasiddh is kuen kee gaharaee kitanee hai is baat kee jaanakaaree kisee ko bhee nahin. dharmashaas‍tron ke anusaar is koop ke darshan maatr se hee naagadansh ke bhay se muk‍ti mil jaatee hai.
maharshi paaninee ke mahaabhaash‍ya kee yaheen huee rachana
karakotak naag teerth ke naam se vikh‍yaat isee pavitr s‍thaan par sheshaavataar (naagavansh) ke maharshi patanjali ne vyaakaranaachaary paaninee ke mahaabhaashy kee rachana kee thee. maanyata yah bhee hai kee is koop ka raasta seedhe naag lok ko jaata hai. is koop kee sabase badee mahatta ye hain kee is koop mein snaan va pooja maatr se hee saare paapon ka naash ho jaata hai. koop mein snaan maatr se hee naag dosh se mukti mil jaatee hai, aisee maan‍yata hai. poore vishv mein kaal sarp dosh kee sirph teen jagah hee pooja hotee hain usame se ye kund pradhaan kund hain.

chhote guroo aur bade guroo ke peechhe kee kahaanee
kaashee ke jyotishaachaary pavan tripaathee bataate hain, ”vaise to naagapanchamee ke din chhote guroo aur bade guroo ke lie jo shabd prayog kiya jaata hai usase taatpary yah hai ki ham bade va chhote donon hee naagon ka sammaan karate hain aur donon kee hee vidhividhaanapoorvak poojan archan karate hain. kyoki, mahaadev ke shrrngaar ke roop mein unake gale mein saje bade naagadev hain to vaheen unake pairon ke sameep chhote-chhote naag bhee hain aur vo bhee hamaaree aastha se gahare jude hue hain.”
vyaakaran kee drshti se agar dekhe to patanjali rshi ko bade guroo aur paaninee rshi ko chhote guroo kee sangya dee jaatee hai. yah guroo shabd ka prayog ekamaatr kaashee kee hee parampara se judee huee hai kyoki in donon hee rshiyon ne vyaakaran ko vistaarit roop dene ka kaam kiya hai

 

Comments

comments