Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » नैना देवी का मंदिर

नैना देवी का मंदिर

nana-devi-ka-mandir

nana-devi-ka-mandir

Ma Nana Devi Ka Mandir Story

नैना देवी का मंदिर हिमाचल प्रदेश के पहाड़ों में स्थित है। यह मंदिर हिन्दू धर्म के लोगों का पवित्र धार्मिक स्थान है। इन्हें देवी के 51 शक्ति पीठों (Naina Devi Shaktipeeth) में से एक माना जाता है। यहां देवी सती के नैन यानि आंखें गिरी थीं। माता नैना देवी अपने इस भव्य मंदिर में पिंडी रूप में स्थापित हैं।

नैना देवी से जुड़ी एक कथा (Story of Naina Devi Temple in Hindi)
एक पौराणिक कथा के अनुसार पिता दक्ष के यज्ञ में पति का अपमान होने पर, माता पार्वती ने स्वयं को उसी यज्ञ में भस्म कर लिया। इसके बाद शिव जी अपना आपा खो बैठे तथा माता पार्वती के देह को लेकर इधर-उधर भटकने लगें।

सभी देवताओं ने मिलकर, भगवान विष्णु से इस समस्या का समाधान करने को कहा। भगवान विष्णु जी ने देवी पार्वती के देह के 51 टुकड़े कर दिए। इसके बाद जहां-जहां देवी पार्वती के शरीर का हिस्सा गिरा वहां- वहां देवी के शक्ति पीठ स्थापित होते चले गए। नैना देवी का नाम भी देवी के 51 शक्ति पीठों में शामिल किया गया है। कथा के अनुसार यहां देवी पार्वती के दोनों आंखे गिरी थी।
नैना देवी की मान्यता (Importance of Naina Devi Temple)
मान्यता है कि जो भी भक्त देवी का सच्चे मन से पूजन करता है, देवी उसके सभी दुखों का अंत करती हैं तथा उसे उसके कार्यों में सफलता दिलाती हैं। नवरात्र के दिनों में नैना देवी की पूजा करने वालों पर न की कृपया दृष्टि बनी रहती है, तथा उसके जीवन के सभी कष्ट समाप्त हो जाते हैं।

 


 

naina devee ka mandir himaachal pradesh ke pahaadon mein sthit hai. yah mandir hindoo dharm ke logon ka pavitr dhaarmik sthaan hai. inhen devee ke 51 shakti peethon (naina devee shaktipeeth) mein se ek maana jaata hai. yahaan devee satee ke nain yaani aankhen giree theen. maata naina devee apane is bhavy mandir mein pindee roop mein sthaapit hain.

naina devee se judee ek katha (hindee mein naina devee mandir kee kahaanee)
ek pauraanik katha ke anusaar pita daksh ke yagy mein pati ka apamaan hone par, maata paarvatee ne svayan ko usee yagy mein bhasm kar liya. isake baad shiv jee apana aapa kho baithe tatha maata paarvatee ke deh ko lekar idhar-udhar bhatakane lagen.

sabhee devataon ne milakar, bhagavaan vishnu se is samasya ka samaadhaan karane ko kaha. bhagavaan vishnu jee ne devee paarvatee ke deh ke 51 tukade kar die. isake baad jahaan-jahaan devee paarvatee ke shareer ka hissa gira vahaan- vahaan devee ke shakti peeth sthaapit hote chale gae. naina devee ka naam bhee devee ke 51 shakti peethon mein shaamil kiya gaya hai. katha ke anusaar yahaan devee paarvatee ke donon aankhe giree thee.
naina devee kee maanyata (naina devee mandir ka mahatv)
maanyata hai ki jo bhee bhakt devee ka sachche man se poojan karata hai, devee usake sabhee dukhon ka ant karatee hain tatha use usake kaaryon mein saphalata dilaatee hain. navaraatr ke dinon mein naina devee kee pooja karane vaalon par na kee krpaya drshti banee rahatee hai, tatha usake jeevan ke sabhee kasht samaapt ho jaate hain.

Comments

comments