Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » निर्जला एकादशी व्रत

निर्जला एकादशी व्रत

nirjala-akadshi-vart

nirjala-akadshi-vart

raaja rantidev

हिंदू धर्म में एकादशी के व्रत को महत्वपूर्ण माना गया है । प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी तिथियां होती हैं। जब मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहते हैं इस व्रत में पानी पीना वर्जित है इसलिये इसे निर्जला एकादशी कहते हैं। व्रतों में निर्जला एकादशी का व्रत सबसे ज्यादा कठिन माना जाता है। इस दिन बिना अन्न-जल ग्रहण किए व्रत करने का विधान है।

पौराणिक मान्यता

निर्जला एकादशी के पीछे महाभारत से जुड़ी एक कहानी प्रचलित है। कहा जाता है एक बार महर्षि व्यास पांडवों के यहां पधारे। भीम ने महर्षि व्यास से कहा, भगवान! युधिष्ठर, अर्जुन, नकुल, सहदेव, माता कुन्ती और द्रौपदी सभी एकादशी का व्रत करते है और मुझसे भी व्रत रखने को कहते है परन्तु मैं बिना खाए रह नहीं सकता हूं इसलिए मुझे कोई ऐसा व्रत बताइए जिसे करने में मुझे विशेष असुविधा न हो और सबका फल भी मुझे मिल जाये। महर्षि व्यास जानते थे कि भीम ज्यादा देर तक भूखे नहीं रह सकते इसलिए महर्षि व्यास ने भीम से कहा तुम ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी का व्रत रखा करो। इस व्रत से अन्य तेईस एकादशियों के पुण्य का लाभ भी मिलेगा। तुम जीवन पर्यन्त इस व्रत का पालन करो। भीम ने बड़े साहस के साथ निर्जला एकादशी व्रत किया। इसलिए इसे भीमसेन एकादशी भी कहते हैं।

एकादशी पूजन विधि

निर्जला एकादशी का व्रत करने के लिये दशमी तिथि से ही व्रत के नियमों का पालन आरंभ हो जाता है। इस एकादशी में “ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र का उच्चारण करना चाहिए। इस दिन गौ दान करने का भी विशेष महत्त्व होता है। इस दिन व्रत करने के अतिरिक्त जप- तप, गंगा स्नान आदि कार्य करना शुभ रहता है। इस व्रत में सबसे पहले श्री विष्णुजी की पूजा की जाती है तथा व्रत कथा को सुना जाता है।

wish4me in English

hindoo dharm mein ekaadashee ke vrat ko mahatvapoorn maana gaya hai . pratyek varsh chaubees ekaadashee tithiyaan hotee hain. jab malamaas aata hai tab inakee sankhya badhakar 26 ho jaatee hai. jyeshth maas kee shukl paksh kee ekaadashee ko nirjala ekaadashee kahate hain is vrat mein paanee peena varjit hai isaliye ise nirjala ekaadashee kahate hain. vraton mein nirjala ekaadashee ka vrat sabase jyaada kathin maana jaata hai. is din bina ann-jal grahan kie vrat karane ka vidhaan hai.

pauraanik maanyata

nirjala ekaadashee ke peechhe mahaabhaarat se judee ek kahaanee prachalit hai. kaha jaata hai ek baar maharshi vyaas paandavon ke yahaan padhaare. bheem ne maharshi vyaas se kaha, bhagavaan! yudhishthar, arjun, nakul, sahadev, maata kuntee aur draupadee sabhee ekaadashee ka vrat karate hai aur mujhase bhee vrat rakhane ko kahate hai parantu main bina khae rah nahin sakata hoon isalie mujhe koee aisa vrat bataie jise karane mein mujhe vishesh asuvidha na ho aur sabaka phal bhee mujhe mil jaaye. maharshi vyaas jaanate the ki bheem jyaada der tak bhookhe nahin rah sakate isalie maharshi vyaas ne bheem se kaha tum jyeshth shukl ekaadashee ka vrat rakha karo. is vrat se any teees ekaadashiyon ke puny ka laabh bhee milega. tum jeevan paryant is vrat ka paalan karo. bheem ne bade saahas ke saath nirjala ekaadashee vrat kiya. isalie ise bheemasen ekaadashee bhee kahate hain.

ekaadashee poojan vidhi

nirjala ekaadashee ka vrat karane ke liye dashamee tithi se hee vrat ke niyamon ka paalan aarambh ho jaata hai. is ekaadashee mein “oon namo bhagavate vaasudevaay” mantr ka uchchaaran karana chaahie. is din gau daan karane ka bhee vishesh mahattv hota hai. is din vrat karane ke atirikt jap- tap, ganga snaan aadi kaary karana shubh rahata hai. is vrat mein sabase pahale shree vishnujee kee pooja kee jaatee hai tatha vrat katha ko suna jaata hai

Comments

comments