Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » नृसिंहावतार

नृसिंहावतार

nrsinhaavataar

nrsinhaavataar

nrsinhaavataar

nrsinhaavataar

हिरण्याक्ष के वध से उसका भाई हिरण्यकशिपु बहुत दु:खी हुआ। वह भगवान का घोर विरोधी बन गया। उसने अजेय बनने की भावना से कठोर तप किया। उसे देवता, मनुष्य या पशु आदि से ना मरने का वरदान मिला। वरदान पाकर वह अजेय हो गया।
हिरण्यकशिपु का शासन इतना कठोर था कि देव- दानव सभी उसके चरणों की वंदना करते रहते थे। भगवान की पूजा करने वालों को वह कठोर दण्ड देता था। उसके शासन से सब लोक और लोकपाल घबराने लगे। जब उन्हे कोई सहारा ना मिला तब वे भगवान की प्रार्थना करने लगे। देवताओं की स्तुति से प्रसन्न होकर नारायण नें हिरण्यकशिपु के वध का आश्वासन दिया।
दैत्यराज का अत्याचार दिनों-दिन बढ़ता चला गया। यहां तक कि वो अपने ही पुत्र प्रहलाद को भगवान का नाम लेने के कारण तरह तरह का कष्ट देने लगा।
प्रहलाद बचपन से ही भगवान नारायण का परम भक्त था और असुर बालको को धर्म का उपदेश देता था। असुर-बालकों को उपदेश की बात सुनकर हिरण्यकशिपु बहुत क्रोधित हुआ। उसने प्रहलाद को दरबार में बुलाया। प्रहलाद बड़ी नम्रता से दैत्यराज के सामने खड़ा हो गया। उसे देखकर दैत्यराज ने डाँटते हुए कहा- ‘मूर्ख! तू बड़ा उद्दंड हो गया है। तूने किसके बल पर मेरी आज्ञा के विरुद्ध काम किया है?’ इस पर प्रहलाद ने कहा- ‘पिताजी! ब्रह्मा से लेकर तिनके तक सब छोटे-बड़े, चर-अचर जीवों को भगवान ने ही अपने वश में कर रखा है। वह परमेश्वर ही अपनी शक्तियों द्वारा इस विश्व की रचना, रक्षा और संहार करते हैं। आप अपना यह भाव छोड़ अपने मन को सबके प्रति उदार बनाइए।’
प्रहलाद की बात को सुनकर हिरण्यकशिपु का शरीर क्रोध के मारे थर-थर काँपने लगा। उसने प्रहलाद से कहा- ‘मंदबुद्धि! यदि तेरा भगवान हर जगह है तो बता इस खंभे में क्यों नहीं दिखता?’ यह कहकर क्रोध से तमतमाया हुआ वह स्वयं तलवार लेकर सिंहासन से कूद पड़ा। उसने बड़े जोर से उस खंभे को एक घूँसा मारा। उसी समय उस खंभे के भीतर से नृसिंह भगवान प्रकट हुए। उनका आधा शरीर सिंह का और आधा मनुष्य के रूप में था। क्षणमात्र में ही नृसिंह भगवान ने हिरण्यकशिपु की जीवन-लीला समाप्त कर अपने प्रिय भक्त प्रहलाद की रक्षा की।

wish4me in English

hiranyaaksh ke vadh se usaka bhaee hiranyakashipu bahut du:khee hua. vah bhagavaan ka ghor virodhee ban gaya. usane ajey banane kee bhaavana se kathor tap kiya. use devata, manushy ya pashu aadi se na marane ka varadaan mila. varadaan paakar vah ajey ho gaya.
hiranyakashipu ka shaasan itana kathor tha ki dev- daanav sabhee usake charanon kee vandana karate rahate the. bhagavaan kee pooja karane vaalon ko vah kathor dand deta tha. usake shaasan se sab lok aur lokapaal ghabaraane lage. jab unhe koee sahaara na mila tab ve bhagavaan kee praarthana karane lage. devataon kee stuti se prasann hokar naaraayan nen hiranyakashipu ke vadh ka aashvaasan diya.
daityaraaj ka atyaachaar dinon-din badhata chala gaya. yahaan tak ki vo apane hee putr prahalaad ko bhagavaan ka naam lene ke kaaran tarah tarah ka kasht dene laga.
prahalaad bachapan se hee bhagavaan naaraayan ka param bhakt tha aur asur baalako ko dharm ka upadesh deta tha. asur-baalakon ko upadesh kee baat sunakar hiranyakashipu bahut krodhit hua. usane prahalaad ko darabaar mein bulaaya. prahalaad badee namrata se daityaraaj ke saamane khada ho gaya. use dekhakar daityaraaj ne daantate hue kaha- moorkh! too bada uddand ho gaya hai. toone kisake bal par meree aagya ke viruddh kaam kiya hai? is par prahalaad ne kaha- pitaajee! brahma se lekar tinake tak sab chhote-bade, char-achar jeevon ko bhagavaan ne hee apane vash mein kar rakha hai. vah parameshvar hee apanee shaktiyon dvaara is vishv kee rachana, raksha aur sanhaar karate hain. aap apana yah bhaav chhod apane man ko sabake prati udaar banaie.
prahalaad kee baat ko sunakar hiranyakashipu ka shareer krodh ke maare thar-thar kaanpane laga. usane prahalaad se kaha- mandabuddhi! yadi tera bhagavaan har jagah hai to bata is khambhe mein kyon nahin dikhata? yah kahakar krodh se tamatamaaya hua vah svayan talavaar lekar sinhaasan se kood pada. usane bade jor se us khambhe ko ek ghoonsa maara. usee samay us khambhe ke bheetar se nrsinh bhagavaan prakat hue. unaka aadha shareer sinh ka aur aadha manushy ke roop mein tha. kshanamaatr mein hee nrsinh bhagavaan ne hiranyakashipu kee jeevan-leela samaapt kar apane priy bhakt prahalaad kee raksha kee

Comments

comments