Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग

ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग

omkareshwar-jyotirling

omkareshwar-jyotirling

 

Omkareshwar Jyotirling Story

देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक ओंकारेश्वर तीर्थ (Shri Omkareshwar Jyotirling) अलौकिक है। यह तीर्थ नर्मदा नदी के किनारे विद्यमान है। नर्मदा नदी के दो धाराओं के बंटने से एक टापू का निर्माण हुआ था जिसका नाम मान्धाता पर्वत पड़ा। आज इसे शिवपुरी भी कहा जाता है। इसी पर्वत पर भगवान ओंकारेश्वर और परमेश्वर विराजमान हैं। ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग के निकट ही एक परमेश्वर (जिसे लोग अमलेश्वर ज्योतिर्लिंग भी कहते हैं) है। इन दोनों ज्योतिर्लिंगों की गिनती एक ही ज्योतिर्लिंग के रूप में की जाती है।

ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग का महत्व (Importance of Shri Omkareshwar Jyotirling)

कहते हैं जो मनुष्य इस तीर्थ में पहुंच कर अन्नदान, तप, पूजा आदि करता है अथवा अपना प्राणोत्सर्ग यानि मृत्यु को प्राप्त होता है उसे भगवान शिव के लोक में स्थान प्राप्त होता है। कहते हैं श्रीओम्कारेश्वर लिंग का निर्माण मनुष्य द्वारा न किया हुआ होकर प्रकृति द्वारा हुआ है।

कथा (History of Shri Omkareshwar Jyotirling)

शिव पुराण के अनुसार विंध्याचल पर्वत की भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान शिव यहां शिवलिंग के रूप में विराजमान हुए थे। पूर्वकाल में यहां केवल एक ही शिवलिंग था जो बाद में दो हिस्सों में विभक्त हो गया। एक हिस्सा ओंकार के नाम से और दूसरा परमेश्वर या अमलेश्वर के नाम से प्रसिद्ध हुआ।


desh ke 12 jyotirlingon mein se ek onkaareshvar teerth (shri omkaraishwar jyotirling) alaukik hai. yah teerth narmada nadee ke kinaare vidyamaan hai. narmada nadee ke do dhaaraon ke bantane se ek taapoo ka nirmaan hua tha jisaka naam maandhaata parvat pada. aaj ise shivapuree bhee kaha jaata hai. isee parvat par bhagavaan onkaareshvar aur parameshvar viraajamaan hain. omkaareshvar jyotirling ke nikat hee ek parameshvar (jise log amaleshvar jyotirling bhee kahate hain) hai. in donon jyotirlingon kee ginatee ek hee jyotirling ke roop mein kee jaatee hai.

omkaareshvar jyotirling ka mahatv (importanchai of shri omkaraishwar jyotirling)

kahate hain jo manushy is teerth mein pahunch kar annadaan, tap, pooja aadi karata hai athava apana praanotsarg yaani mrtyu ko praapt hota hai use bhagavaan shiv ke lok mein sthaan praapt hota hai. kahate hain shreeomkaareshvar ling ka nirmaan manushy dvaara na kiya hua hokar prakrti dvaara hua hai.

katha (history of shri omkaraishwar jyotirling)

shiv puraan ke anusaar vindhyaachal parvat kee bhakti se prasann hokar bhagavaan shiv yahaan shivaling ke roop mein viraajamaan hue the. poorvakaal mein yahaan keval ek hee shivaling tha jo baad mein do hisson mein vibhakt ho gaya. ek hissa onkaar ke naam se aur doosara parameshvar ya amaleshvar ke naam se prasiddh hua.

Comments

comments