Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » पछतावा

पछतावा

pachhtava

pachhtava

pachhtava

pachhtava

एक मेहनती और ईमानदार नौजवान बहुत पैसे कमाना चाहता था क्योंकि वह गरीब था और बदहाली में जी रहा था। उसका सपना था कि वह मेहनत करके खूब पैसे कमाये और एक दिन अपने पैसे से एक कार खरीदे। जब भी वह कोई कार देखता तो उसे अपनी कार खरीदने का मन करता।

कुछ साल बाद उसकी अच्छी नौकरी लग गयी। उसकी शादी भी हो गयी और कुछ ही वर्षों में वह एक बेटे का पिता भी बन गया। सब कुछ ठीक चल रहा था मगर फिर भी उसे एक दुख सताता था कि उसके पास उसकी अपनी कार नहीं थी। धीरे – धीरे उसने पैसे जोड़ कर एक कार खरीद ली। कार खरीदने का उसका सपना पूरा हो चुका था और इससे वह बहुत खुश था। वह कार की बहुत अच्छी तरह देखभाल करता था और उससे शान से घूमता था।

एक दिन रविवार को वह कार को रगड़ – रगड़ कर धो रहा था। यहां तक कि गाड़ी के टायरों को भी चमका रहा था। उसका 5 वर्षीय बेटा भी उसके साथ था। बेटा भी पिता के आगे पीछे घूम – घूम कर कार को साफ होते देख रहा था। कार धोते धोते अचानक उस आदमी ने देखा कि उसका बेटा कार के बोनट पर किसी चीज़ से खुरच – खुरच कर कुछ लिख रहा है। यह देखते ही उसे बहुत गुस्सा आया। वह अपने बेटे को पीटने लगा। उसने उसे इतनी जो़र से पीटा कि बेटे के हाथ की एक उंगली ही टूट गयी। दरअसल वह आदमी अपनी कार को बहुत चाहता था और वह बेटे की इस शरारत को बर्दाश्त नहीं कर सका । बाद में जब उसका गुस्सा कुछ कम हुआ तो उसने सोंचा कि जा कर देखूं कि कार में कितनी खरोंच लगी है। कार के पास जा कर देखने पर उसके होश उड़ गये। उसे खुद पर बहुत गुस्सा आ रहा था। वह फूट – फूट कर रोने लगा। कार पर उसके बेटे ने खुरच कर लिखा था Papa, I love you.

यह कहानी हमें यह सिखाती है कि किसी के बारे में कोई गलत राय रखने से पहले या गलत फैसला लेने से पहले हमें ये ज़रूर सोंचना चाहिये कि उस व्यक्ति ने वह काम किस नियत से किया है।

Wish4me to English

Ek mehanatee aur iimaanadaar naujavaan bahut paise kamaanaa chaahataa thaa kyonki vah gareeb thaa aur badahaalee men jee rahaa thaa. Usakaa sapanaa thaa ki vah mehanat karake khoob paise kamaaye aur ek din apane paise se ek kaar khareede. Jab bhee vah koii kaar dekhataa to use apanee kaar khareedane kaa man karataa. Kuchh saal baad usakee achchhee naukaree lag gayee. Usakee shaadee bhee ho gayee aur kuchh hee varṣon men vah ek beṭe kaa pitaa bhee ban gayaa. Sab kuchh ṭheek chal rahaa thaa magar fir bhee use ek dukh sataataa thaa ki usake paas usakee apanee kaar naheen thee. Dheere – dheere usane paise jod kar ek kaar khareed lee. Kaar khareedane kaa usakaa sapanaa pooraa ho chukaa thaa aur isase vah bahut khush thaa. Vah kaar kee bahut achchhee tarah dekhabhaal karataa thaa aur usase shaan se ghoomataa thaa. Ek din ravivaar ko vah kaar ko ragad – ragad kar dho rahaa thaa. Yahaan tak ki gaadee ke ṭaayaron ko bhee chamakaa rahaa thaa. Usakaa 5 varṣeey beṭaa bhee usake saath thaa. Beṭaa bhee pitaa ke aage peechhe ghoom – ghoom kar kaar ko saaf hote dekh rahaa thaa. Kaar dhote dhote achaanak us aadamee ne dekhaa ki usakaa beṭaa kaar ke bonaṭ par kisee cheez se khurach – khurach kar kuchh likh rahaa hai. Yah dekhate hee use bahut gussaa aayaa. Vah apane beṭe ko peeṭane lagaa. Usane use itanee joxr se peeṭaa ki beṭe ke haath kee ek ungalee hee ṭooṭ gayee. Dara_asal vah aadamee apanee kaar ko bahut chaahataa thaa aur vah beṭe kee is sharaarat ko bardaasht naheen kar sakaa . Baad men jab usakaa gussaa kuchh kam huaa to usane sonchaa ki jaa kar dekhoon ki kaar men kitanee kharonch lagee hai. Kaar ke paas jaa kar dekhane par usake hosh ud gaye. Use khud par bahut gussaa aa rahaa thaa. Vah fooṭ – fooṭ kar rone lagaa. Kaar par usake beṭe ne khurach kar likhaa thaa papa, i love you. Yah kahaanee hamen yah sikhaatee hai ki kisee ke baare men koii galat raay rakhane se pahale yaa galat faisalaa lene se pahale hamen ye zaroor sonchanaa chaahiye ki us vyakti ne vah kaam kis niyat se kiyaa hai.

Comments

comments