Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Story for Children] » पागल हाथी और राजा की कहानी

पागल हाथी और राजा की कहानी

pagal-haathi-story-elephant

pagal-haathi-story-elephant

elephants and king storyelephants and king story

मोती राजा साहब की खास सवारी का हाथी। यों तो वह बहुत सीधा और समझदार था, पर कभी-कभी उसका मिजाज गर्म हो जाता था और वह आपे में न रहता था। उस हालत में उसे किसी बात की सुधि न रहती थी, महावत का दबाव भी न मानता था। एक बार इसी पागलपन में उसने अपने महावत को मार डाला। राजा साहब ने वह खबर सुनी तो उन्हें बहुत क्रोध आया। मोती की पदवी छिन गयी। राजा साहब की सवारी से निकाल दिया गया। कुलियों की तरह उसे लकड़ियां ढोनी पड़तीं, पत्थर लादने पड़ते और शाम को वह पीपल के नीचे मोटी जंजीरों से बांध दिया जाता। रातिब बंद हो गया। उसके सामने सूखी टहनियां डाल दी जाती थीं और उन्हीं को चबाकर वह भूख की आग बुझाता। जब वह अपनी इस दशा को अपनी पहली दशा से मिलाता तो वह बहुत चंचल हो जाता। वह सोचता, कहां मैं राजा का सबसे प्यारा हाथी था और कहां आज मामूली मजदूर हूं। यह सोचकर जोर-जोर से चिंघाड़ता और उछलता। आखिर एक दिन उसे इतना जोश आया कि उसने लोहे की जंजीरें तोड़ डालीं और जंगल की तरफ भागा।

थोड़ी ही दूर पर एक नदी थी। मोती पहले उस नदी में जाकर खूब नहाया। तब वहां से जंगल की ओर चला। इधर राजा साहब के आदमी उसे पकड़ने के लिए दौड़े, मगर मारे डर के कोई उसके पास जा न सका। जंगल का जानवर जंगल ही में चला गया।

जंगल में पहुंचकर अपने साथियों को ढूंढ़ने लगा। वह कुछ दूर और आगे बढ़ा तो हाथियों ने जब उसके गले में रस्सी और पांव में टूटी जंजीर देखी तो उससे मुंह फेर लिया। उसकी बात तक न पूछी। उनका शायद मतलब था कि तुम गुलाम तो थे ही, अब नमकहराम गुलाम हो, तुम्हारी जगह इस जंगल में नहीं है। जब तक वे आंखों से ओझल न हो गये, मोती वहीं खड़ा ताकता रहा। फिर न जाने क्या सोचकर वहां से भागता हुआ महल की ओर चला।

वह रास्ते ही में था कि उसने देखा कि राजा साहब शिकारियों के साथ घोड़े पर चले आ रहे हैं। वह फौरन एक बड़ी चट्टान की आड़ में छिप गया। धूप तेज थी, राजा साहब जरा दम लेने को घोड़े से उतरे। अचानक मोती आड़ से निकल पड़ा और गरजता हुआ राजा साहब की ओर दौड़ा। राजा साहब घबराकर भागे और एक छोटी झोंपड़ी में घुस गये। जरा देर बाद मोती भी पहुंचा। उसने राजा साहब को अंदर घुसते देख लिया था। पहले तो उसने अपनी सूंड़ से ऊपर का छप्पर गिरा दिया, फिर उसे पैरों से रौंदकर चूर-चूर कर डाला।

भीतर राजा साहब का मारे डर के बुरा हाल था। जान बचने की कोई आशा न थी।

आखिर कुछ न सूझी तो वह जान पर खेलकर पीछे दीवार पर चढ़ गये, और दूसरी तरफ कूद कर भाग निकले। मोती द्वार पर खड़ा छप्पर रौंद रहा था और सोच रहा था कि दीवार कैसे गिराऊं? आखिर उसने धक्का देकर दीवार गिरा दी। मिट्टी की दीवार पागल हाथी का धक्का क्या सहती? मगर जब राजा साहब भीतर न मिले तो उसने बाकी दीवारें भी गिरा दीं और जंगल की तरफ चला गया।

घर लौटकर राजा साहब ने ढिंढोरा पिटवा दिया कि जो आदमी मोती को जीता पकड़कर लायेगा, उसे एक हजार रुपया इनाम दिया जायेगा। कई आदमी इनाम के लालच में उसे पकड़ने के लिए जंगल गये। मगर उनमें से एक भी न लौटा। मोती के महावत के एक लड़का था। उसका नाम था मुरली। अभी वह कुल आठ-नौ बरस का था, इसलिए राजा साहब दया करके उसे और उसकी मां को खाने-पहनने के लिए कुछ खर्च दिया करते थे। मुरली था तो बालक पर हिम्मत का धनी था, कमर बांधकर मोती को पकड़ लाने के लिए तैयार हो गया। मगर मां ने बहुतेरा समझाया, और लोगों ने भी मना किया, मगर उसने किसी की एक न सुनी और जंगल की ओर चल दिया। जंगल में गौर से इधर-उधर देखने लगा। आखिर उसने देखा कि मोती सिर झुकाये उसी पेड़ की ओर चला आ रहा है। उसकी चाल से ऐसा मालूम होता था कि उसका मिजाज ठंडा हो गया है। ज्यों ही मोती उस पेड़ के नीचे आया, उसने पेड़ के ऊपर से पुचकारा, “मोती!”

मोती इस आवाज को पहचानता था। वहीं रुक गया और सिर उठाकर ऊपर की ओर देखने लगा। मुरली को देखकर पहचान गया। यह वही मुरली था, जिसे वह अपनी सूंड़ से उठाकर अपने मस्तक पर बिठा लेता था! “मैंने ही इसके बाप को मार डाला है,” यह सोचकर उसे बालक पर दया आयी। खुश होकर सूंड़ हिलाने लगा। मुरली उसके मन के भाव को पहचान गया। वह पेड़ से नीचे उतरा और उसकी सूंड़ को थपकियां देने लगा। फिर उसे बैठने का इशारा किया। मोती बैठा नहीं, मुरली को अपनी सूंड़ से उठाकर पहले ही की तरह अपने मस्तक पर बिठा लिया और राजमहल की ओर चला। मुरली जब मोती को लिए हुए राजमहल के द्वार पर पहुंचा तो सबने दांतों उंगली दबाई। फिर भी किसी की हिम्मत न होती थी कि मोती के पास जाये। मुरली ने चिल्लाकर कहा, “डरो मत, मोती बिल्कुल सीधा हो गया है, अब वह किसी से न बोलेगा।” राजा साहब भी डरते-डरते मोती के सामने आये। उन्हें कितना अचंभा हुआ कि वही पागल मोती अब गाय की तरह सीधा हो गया है। उन्होंने मुरली को एक हजार रुपया इनाम तो दिया ही, उसे अपना खास महावत बना लिया, और मोती फिर राजा साहब का सबसे प्यारा हाथी बन गया
Wish4me.com

Translate in English

Moti raajaa saahab kee khaas savaaree kaa haathee. Yon to vah bahut seedhaa aur samajhadaar thaa, par kabhee-kabhee usakaa mijaaj garm ho jaataa thaa aur vah aape men n rahataa thaa. Us haalat men use kisee baat kee sudhi n rahatee thee, mahaavat kaa dabaav bhee n maanataa thaa. Ek baar isee paagalapan men usane apane mahaavat ko maar ḍaalaa. Raajaa saahab ne vah khabar sunee to unhen bahut krodh aayaa. Motee kee padavee chhin gayee. Raajaa saahab kee savaaree se nikaal diyaa gayaa. Kuliyon kee tarah use lakadiyaan ḍhonee padteen, patthar laadane padte aur shaam ko vah peepal ke neeche moṭee jnjeeron se baandh diyaa jaataa. Raatib bnd ho gayaa. Usake saamane sookhee ṭahaniyaan ḍaal dee jaatee theen aur unheen ko chabaakar vah bhookh kee aag bujhaataa. Jab vah apanee is dashaa ko apanee pahalee dashaa se milaataa to vah bahut chnchal ho jaataa.

Vah sochataa, kahaan main raajaa kaa sabase pyaaraa haathee thaa aur kahaan aaj maamoolee majadoor hoon. Yah sochakar jor-jor se chinghaadtaa aur uchhalataa. Aakhir ek din use itanaa josh aayaa ki usane lohe kee jnjeeren tod ḍaaleen aur jngal kee taraf bhaagaa. Thodee hee door par ek nadee thee. Motee pahale us nadee men jaakar khoob nahaayaa. Tab vahaan se jngal kee or chalaa. Idhar raajaa saahab ke aadamee use pakadne ke lie daude, magar maare ḍaar ke koii usake paas jaa n sakaa. Jngal kaa jaanavar jngal hee men chalaa gayaa. Jngal men pahunchakar apane saathiyon ko ḍhoonḍhxne lagaa. Vah kuchh door aur aage baḍhxaa to haathiyon ne jab usake gale men rassee aur paanv men ṭooṭee jnjeer dekhee to usase munh fer liyaa. Usakee baat tak n poochhee.

Unakaa shaayad matalab thaa ki tum gulaam to the hee, ab namakaharaam gulaam ho, tumhaaree jagah is jngal men naheen hai. Jab tak ve aankhon se ojhal n ho gaye, motee vaheen khadaa taakataa rahaa. Fir n jaane kyaa sochakar vahaan se bhaagataa huaa mahal kee or chalaa. Vah raaste hee men thaa ki usane dekhaa ki raajaa saahab shikaariyon ke saath ghode par chale aa rahe hain. Vah fauran ek badee chaṭṭaan kee aad men chhip gayaa. Dhoop tej thee, raajaa saahab jaraa dam lene ko ghode se utare. Achaanak motee aad se nikal padaa aur garajataa huaa raajaa saahab kee or daudaa. Raajaa saahab ghabaraakar bhaage aur ek chhoṭee jhonpadee men ghus gaye. Jaraa der baad motee bhee pahunchaa. Usane raajaa saahab ko andar ghusate dekh liyaa thaa. Pahale to usane apanee soond se oopar kaa chhappar giraa diyaa, fir use pairon se raundakar choor-choor kar ḍaalaa. Bheetar raajaa saahab kaa maare ḍaar ke buraa haal thaa. Jaan bachane kee koii aashaa n thee. Aakhir kuchh n soojhee to vah jaan par khelakar peechhe deevaar par chaḍhx gaye, aur doosaree taraf kood kar bhaag nikale. Motee dvaar par khadaa chhappar raund rahaa thaa aur soch rahaa thaa ki deevaar kaise giraa_oon? Aakhir usane dhakkaa dekar deevaar giraa dee. Miṭṭee kee deevaar paagal haathee kaa dhakkaa kyaa sahatee? Magar jab raajaa saahab bheetar n mile to usane baakee deevaaren bhee giraa deen aur jngal kee taraf chalaa gayaa.

Ghar lauṭakar raajaa saahab ne ḍhinḍhoraa piṭavaa diyaa ki jo aadamee motee ko jeetaa pakadkar laayegaa, use ek hajaar rupayaa inaam diyaa jaayegaa. Ka_ii aadamee inaam ke laalach men use pakadne ke lie jngal gaye. Magar unamen se ek bhee n lauṭaa. Motee ke mahaavat ke ek ladkaa thaa. Usakaa naam thaa muralee. Abhee vah kul aaṭh-nau baras kaa thaa, isalie raajaa saahab dayaa karake use aur usakee maan ko khaane-pahanane ke lie kuchh kharch diyaa karate the. Muralee thaa to baalak par himmat kaa dhanee thaa, kamar baandhakar motee ko pakad laane ke lie taiyaar ho gayaa. Magar maan ne bahuteraa samajhaayaa, aur logon ne bhee manaa kiyaa, magar usane kisee kee ek n sunee aur jngal kee or chal diyaa. Jngal men gaur se idhar-udhar dekhane lagaa. Aakhir usane dekhaa ki motee sir jhukaaye usee ped kee or chalaa aa rahaa hai. Usakee chaal se aisaa maaloom hotaa thaa ki usakaa mijaaj ṭhnḍaa ho gayaa hai. Jyon hee motee us ped ke neeche aayaa, usane ped ke oopar se puchakaaraa, “motee!”
motee is aavaaj ko pahachaanataa thaa. Vaheen ruk gayaa aur sir uṭhaakar oopar kee or dekhane lagaa. Muralee ko dekhakar pahachaan gayaa. Yah vahee muralee thaa, jise vah apanee soond se uṭhaakar apane mastak par biṭhaa letaa thaa! “mainne hee isake baap ko maar ḍaalaa hai,” yah sochakar use baalak par dayaa aayee. Khush hokar soond hilaane lagaa.

Muralee usake man ke bhaav ko pahachaan gayaa. Vah ped se neeche utaraa aur usakee soond ko thapakiyaan dene lagaa. Fir use baiṭhane kaa ishaaraa kiyaa. Motee baiṭhaa naheen, muralee ko apanee soond se uṭhaakar pahale hee kee tarah apane mastak par biṭhaa liyaa aur raajamahal kee or chalaa. Muralee jab motee ko lie hue raajamahal ke dvaar par pahunchaa to sabane daanton ungalee dabaa_ii. Fir bhee kisee kee himmat n hotee thee ki motee ke paas jaaye. Muralee ne chillaakar kahaa, “ḍaaro mat, motee bilkul seedhaa ho gayaa hai, ab vah kisee se n bolegaa.” raajaa saahab bhee ḍaarate-ḍaarate motee ke saamane aaye. Unhen kitanaa achnbhaa huaa ki vahee paagal motee ab gaay kee tarah seedhaa ho gayaa hai. Unhonne muralee ko ek hajaar rupayaa inaam to diyaa hee, use apanaa khaas mahaavat banaa liyaa, aur motee fir raajaa saahab kaa sabase pyaaraa haathee ban gayaa

 

 

Comments

comments