Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Goddess » परशुरामअवतार

परशुरामअवतार

parshuram-avtar

parshuram-avtar

Parshuram Avtar

प्राचीन काल की बात है। पृथ्वी पर हैहयवंशीय क्षत्रिय राजाओं का अत्याचार बढ़ गया था। चारों ओर हाहाकार मचा हुआ था। गौ, ब्राह्मण और साधु असुरक्षित हो गए थे। ऐसे समय में भगवान स्वयं परशुराम के रुप में जमदग्नि ऋषि की पत्नी रेणुका के गर्भ से अवतरित हुए।
उन दिनों हैहयवंश का राजा सहस्त्रबाहु अर्जुन था। वह बहुत ही अत्याचारी और क्रूर शासक था। एक बार वह जमदग्नि ऋषि के आश्रम पर आया। उसने आश्रम के पेड़-पौधों को उजाड़ दिया। जाते समय ऋषि का गाय भी लेकर चला गया। जब परशुराम जी को उसकी दुष्टता का समाचार मिला तब उन्होंने सहस्त्रबाहु अर्जुन को मार डाला। सहस्त्रबाहु के मर जाने पर उसके दस हजार लड़के डरकर भाग गये।
सहस्त्रबाहु अर्जुन के जो लड़के परशुरामजी से हारकर भाग गये थे, उन्हे अपने पिता के वध की याद निरन्तर बनी रहती थी। कहीं एक क्षण के लिए भी उन्हें चैन नहीं मिलता था।
एक दिन की बात है। परशुराम अपने भाइयों के साथ आश्रम के बाहर गये हुए थे। अनुकूल अवसर पाकर सहस्त्रबाहु के लड़के वहां आ पहुचें। उस समय महर्षि जमदग्नि को अकेला पाकर उन पापियों नें उन्हें मार डाला। सती रेणुका सिर पीट पीटकर जोर-जोर से रोने लगी।
परशुराम जी ने दूर से ही माता का करुण- क्रन्दन सुन लिया। वे बड़ी शीघ्रता से आश्रम पर आए। वहां आकर देखा कि पिताजी मार डाले गये हैं। उस समय परशुराम जी को बहुत दु:ख हुआ। वे क्रोध और शोक के वेग से अत्यंत मोहित हो गये। उन्होंने पिता का शरीर तो भाइयो सौप दिया और स्वयं हाथ में फरसा लेकर क्षत्रियों का संहार करने का निश्चय किया।
भगवान ने देखा कि वर्तमान क्षत्रिय अत्याचारी हो गए है। इसलिए उन्होंने पिता के वध को निमित्त बनाकर 21 बार पृथ्वी को क्षत्रियहीन कर दिया। भगवान ने इस प्रकार भृगुकुल में अवतार ग्रहण करके पृथ्वी का भार बने राजाओं का बहुत बार वध किया।
तत्पश्चात भगवान परशुराम ने अपने पिता को जीवित कर दिया। जीवित होकर वे सप्तर्षियों के मण्डल में सातवें ऋषि हो गए। अंत में भगवान यज्ञ में सारी पृथ्वी दान कर महेन्द्र पर्वत पर चले गये।


 

praacheen kaal kee baat hai. prthvee par haihayavansheey kshatriy raajaon ka atyaachaar badh gaya tha. chaaron or haahaakaar macha hua tha. gau, braahman aur saadhu asurakshit ho gae the. aise samay mein bhagavaan svayan parashuraam ke rup mein jamadagni rshi kee patnee renuka ke garbh se avatarit hue.
un dinon haihayavansh ka raaja sahastrabaahu arjun tha. vah bahut hee atyaachaaree aur kroor shaasak tha. ek baar vah jamadagni rshi ke aashram par aaya. usane aashram ke ped-paudhon ko ujaad diya. jaate samay rshi ka gaay bhee lekar chala gaya. jab parashuraam jee ko usakee dushtata ka samaachaar mila tab unhonne sahastrabaahu arjun ko maar daala. sahastrabaahu ke mar jaane par usake das hajaar ladake darakar bhaag gaye.
sahastrabaahu arjun ke jo ladake parashuraamajee se haarakar bhaag gaye the, unhe apane pita ke vadh kee yaad nirantar banee rahatee thee. kaheen ek kshan ke lie bhee unhen chain nahin milata tha.
ek din kee baat hai. parashuraam apane bhaiyon ke saath aashram ke baahar gaye hue the. anukool avasar paakar sahastrabaahu ke ladake vahaan aa pahuchen. us samay maharshi jamadagni ko akela paakar un paapiyon nen unhen maar daala. satee renuka sir peet peetakar jor-jor se rone lagee.
parashuraam jee ne door se hee maata ka karun- krandan sun liya. ve badee sheeghrata se aashram par aae. vahaan aakar dekha ki pitaajee maar daale gaye hain. us samay parashuraam jee ko bahut du: kh hua. ve krodh aur shok ke veg se atyant mohit ho gaye. unhonne pita ka shareer to bhaiyo saup diya aur svayan haath mein pharasa lekar kshatriyon ka sanhaar karane ka nishchay kiya.
bhagavaan ne dekha ki vartamaan kshatriy atyaachaaree ho gae hai. isalie unhonne pita ke vadh ko nimitt banaakar 21 baar prthvee ko kshatriyaheen kar diya. bhagavaan ne is prakaar bhrgukul mein avataar grahan karake prthvee ka bhaar bane raajaon ka bahut baar vadh kiya.
tatpashchaat bhagavaan parashuraam ne apane pita ko jeevit kar diya. jeevit hokar ve saptarshiyon ke

Comments

comments