Wednesday , 15 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » समय रहते लोगों की कीमत को समझ लेना चाहिए(People must understand the value of time)

समय रहते लोगों की कीमत को समझ लेना चाहिए(People must understand the value of time)

people-must-understand-the-value-of-time

people-must-understand-the-value-of-time

People must understand the value of time

People must understand the value of time

एक औरत थी,जो अंधी थी,

जिसके कारण उसके बेटे को स्कूल में बच्चे चिढाते थे,

कि अंधी का बेटा आ गया, हर बात पर उसे ये शब्द सुनने को मिलता था कि “अन्धी का बेटा” .

इसलिए वो अपनी माँ से चिडता था . उसे कही भी अपने साथ लेकर जाने में हिचकता था उसे नापसंद करता था.

उसकी माँ ने उसे पढ़ाया और उसे इस लायक बना दिया की वो अपने पैरो पर खड़ा हो सके.

लेकिन जब वो बड़ा आदमी बन गया तो अपनी माँ को छोड़ अलग रहने लगा .

एक दिन एक बूढी औरत उसके घर आई और गार्ड से बोली-मुझे तुम्हारे साहब से मिलना है.

जब गार्ड ने अपने मालिक से बोल तो मालिक ने कहा कि बोल दो मै अभी घर पर नही हूँ.

गार्ड ने जब बुढिया से बोला कि वो अभी नही है तो वो वहा से चली गयी .

थोड़ी देर बाद जब लड़का अपनी कार से ऑफिस के लिए जा रहा होता है तो देखता है कि सामने बहुत भीड़ लगी है

और जानने के लिए कि वहा क्यों भीड़ लगी है वह वहा गया तो देखा उसकी माँ वहा मरी पड़ी थी

उसने देखा की उसकी मुट्ठी में कुछ है उसने जब मुट्ठी खोली तो देखा की एक लेटर जिसमे यह लिखा था

कि बेटा जब तू छोटा था तो खेलते वक़्त तेरी आँख में सरिया धंस गयी थी और तू अँधा हो गया था

तो मैंने तुम्हे अपनी आँखे दे दी थी.

इतना पढ़ कर लड़का जोर-जोर से रोने लगा मगर अब कुछ कर ले उसकी माँ उसके पास नही आ सकती थी |

. इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि हमें समय रहते लोगों की कीमत को समझ लेना चाहिए और किसी के बारे में बिना अच्छी तरह से जाने उसके बारे में कोई भी निर्णय नहीं लेना चाहिए|

[To English Wish4me]

Ek aurat thee,jo andhee thee,

jisake kaaraṇa usake beṭe ko skool men bachche chiḍhaate the,

ki andhee kaa beṭaa aa gayaa, har baat par use ye shabd sunane ko milataa thaa ki “andhee kaa beṭaa” . Isalie vo apanee maan se chiḍaataa thaa . Use kahee bhee apane saath lekar jaane men hichakataa thaa use naapasnd karataa thaa. Usakee maan ne use paḍhxaayaa aur use is laayak banaa diyaa kee vo apane pairo par khadaa ho sake. Lekin jab vo badaa aadamee ban gayaa to apanee maan ko chhod alag rahane lagaa . Ek din ek booḍhee aurat usake ghar aaii aur gaarḍa se bolee-mujhe tumhaare saahab se milanaa hai. Jab gaarḍa ne apane maalik se bol to maalik ne kahaa ki bol do mai abhee ghar par nahee hoon. Gaarḍa ne jab buḍhiyaa se bolaa ki vo abhee nahee hai to vo vahaa se chalee gayee . Thodee der baad jab ladkaa apanee kaar se ŏfis ke lie jaa rahaa hotaa hai to dekhataa hai ki saamane bahut bheed lagee hai

aur jaanane ke lie ki vahaa kyon bheed lagee hai vah vahaa gayaa to dekhaa usakee maan vahaa maree padee thee

usane dekhaa kee usakee muṭṭhee men kuchh hai usane jab muṭṭhee kholee to dekhaa kee ek leṭar jisame yah likhaa thaa

ki beṭaa jab too chhoṭaa thaa to khelate vaqat teree aankh men sariyaa dhns gayee thee aur too andhaa ho gayaa thaa

to mainne tumhe apanee aankhe de dee thee. Itanaa paḍhx kar ladkaa jor-jor se rone lagaa magar ab kuchh kar le usakee maan usake paas nahee aa sakatee thee .

. Is kahaanee se yah shikṣaa milatee hai ki hamen samay rahate logon kee keemat ko samajh lenaa chaahie aur kisee ke baare men binaa achchhee tarah se jaane usake baare men koii bhee nirṇaay naheen lenaa chaahie.

Comments

comments