Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » प्रथम पूज्य श्रीगणेश जी

प्रथम पूज्य श्रीगणेश जी

pratham-poojy-shreeganesh-jee

pratham-poojy-shreeganesh-jee

80

यज्ञ, पूजन, हवनादि के समय पहले किस देवता की पूजा की जाय?’ इस प्रश्न पर देवताओं में मतभेद हो गया। सभी चाहते थे कि यह सम्मान मुझे मिले। जब आपस में कोई निपटारा न हो सका, तब सब मिलकर ब्रह्माजी के पास गये, क्योंकि सबके पिता-पितामह तो ब्रह्मा जी ही हैं और सत्पुरुष बड़े-बूढों की बात अवश्य मान लिया करते हैं। ब्रह्मा जी ने देवताओं की बात सुनकर निर्णय सुना दिया-‘जो पृथ्वी की प्रदक्षिणा करके सबसे पहले मेरे पास पहुंचे, वही सर्वश्रेष्ठ है और उसी की सबसे पहले पूजा हुआ करेगी।’

देवताओं में दौड़ा-दौड़ मच गयी। कोई हाथी पर सवार हुआ, कोई घोड़े पर तो कोइ रथ पर। पशु तथा पक्षियों पर भी देवता बैठ गये। जिसका जो वाहन है, वह अपने उस वाहन को पूरे वेग से दौड़ाने लगा। सभी इस प्रयत्न में लग गये कि पहले मैं ही पृथ्वी की प्रदक्षिणा कर लूं। अकेले गणेश जी खड़े सोचते रहे। एक तो उनका भारी-भरकम शरीर उस पर उनका वाहन चूहा। वे सोच रहे थे-मेरा चूहे पर बैठकर दौड़ना व्यर्थ है। चूहा इतने पशु-पक्षियों से दौड़ में आगे नहीं जा सकता। लेकिन सोचते-सोचते उन्हें एक बात सूझ गयी। वे चूहे पर कूदकर बैठ गये और सीधे कैलाश की ओर भागे। किसी को गणेश जी कि ओर देखने का अवकाश नहीं था।

कैलाश पहुंचकर गणेश जी ने सीधे माता पार्वती का हाथ पकड़ा और कहा-‘मां! तू झटपट चलकर पिताजी के पास जरा देर को बैठ तो जा।’

पार्वती जी ने अपने पुत्र की अकुलाहट देखकर हंसते हुए पूछा-‘तू इतनी शीघ्रता में क्यों है? क्या बात है?’

गणेश जी बोले-‘तू चलकर बैठ जा। पिता जी तो ध्यान करने बैठे हैं। वे तो उठेंगे नहीं।’
माता पार्वती क्या करतीं, पुत्र का आग्रह रखने के लिये वे भगवान् शंकर के समीप बायीं ओर जाकर बैठ गयीं। गणेश जी ने भूमिपर लेटकर माता-पिता को प्रणाम किया और फिर अपने चूहे पर बैठकर दोनों की सात प्रदक्षिणा की। फिर माता-पिता को प्रणाम करके वे ब्रह्मलोक की ओर दौड़ चले।
जब देवता ब्रह्माजी के पास पहंुचे, तब उन्होंने देखा कि ब्रह्माजी के पास गणेश जी पहले से बैठे हैं। देवताओं ने समझा कि ये अपनी विजय होते न देखकर यहां से कहीं गये ही नहीं, किंतु ब्रह्मा जी ने जब बताया कि सबसे पहले गणेश जी की पूजा होगी, तब सबको बड़ा आश्चर्य हुआ। एक देवता ने कहा-‘आपने तो कहा था कि जो पृथ्वी की प्रदक्षिणा करके पहले आयेगा, वही प्रथम पूज्य होगा।’
ब्रह्मा जी बोले-‘बात तो ठीक है पर गणेश जी तो पृथ्वी की तथा समस्त ब्रह्माणडों की एक-दो नहीं, पूरी सात प्रदक्षिणा करके सबसे पहले आ गये हैं।’

देवता एक-दूसरे का मुख देखने लगे-‘यह कैसी बात? यह कैसे सम्भव है?’
ब्रह्मा जी ने उन्हें समझाया-‘माता साक्षात् पृथ्वी का स्वरुप है और पिता तो भगवान् नारायण की मूर्ति ही हैं। भगवान् नारायण के शरीर में ही समस्त ब्रह्माण्ड रहते हैं।’
देवता अब क्या कहते? उन्होंने गणेश जी को प्रणाम किया। पिता-माता में श्रद्धा रखने के कारण गणेश जी प्रथम पूज्य हो गये।

wish4me in English

yagy, poojan, havanaadi ke samay pahale kis devata kee pooja kee jaay?’ is prashn par devataon mein matabhed ho gaya. sabhee chaahate the ki yah sammaan mujhe mile. jab aapas mein koee nipataara na ho saka, tab sab milakar brahmaajee ke paas gaye, kyonki sabake pita-pitaamah to brahma jee hee hain aur satpurush bade-boodhon kee baat avashy maan liya karate hain. brahma jee ne devataon kee baat sunakar nirnay suna diya-‘jo prthvee kee pradakshina karake sabase pahale mere paas pahunche, vahee sarvashreshth hai aur usee kee sabase pahale pooja hua karegee.’

devataon mein dauda-daud mach gayee. koee haathee par savaar hua, koee ghode par to koi rath par. pashu tatha pakshiyon par bhee devata baith gaye. jisaka jo vaahan hai, vah apane us vaahan ko poore veg se daudaane laga. sabhee is prayatn mein lag gaye ki pahale main hee prthvee kee pradakshina kar loon. akele ganesh jee khade sochate rahe. ek to unaka bhaaree-bharakam shareer us par unaka vaahan chooha. ve soch rahe the-mera choohe par baithakar daudana vyarth hai. chooha itane pashu-pakshiyon se daud mein aage nahin ja sakata. lekin sochate-sochate unhen ek baat soojh gayee. ve choohe par koodakar baith gaye aur seedhe kailaash kee or bhaage. kisee ko ganesh jee ki or dekhane ka avakaash nahin tha.

kailaash pahunchakar ganesh jee ne seedhe maata paarvatee ka haath pakada aur kaha-‘maan! too jhatapat chalakar pitaajee ke paas jara der ko baith to ja.’

paarvatee jee ne apane putr kee akulaahat dekhakar hansate hue poochha-‘too itanee sheeghrata mein kyon hai? kya baat hai?’

ganesh jee bole-‘too chalakar baith ja. pita jee to dhyaan karane baithe hain. ve to uthenge nahin.’
maata paarvatee kya karateen, putr ka aagrah rakhane ke liye ve bhagavaan shankar ke sameep baayeen or jaakar baith gayeen. ganesh jee ne bhoomipar letakar maata-pita ko pranaam kiya aur phir apane choohe par baithakar donon kee saat pradakshina kee. phir maata-pita ko pranaam karake ve brahmalok kee or daud chale.
jab devata brahmaajee ke paas pahanuche, tab unhonne dekha ki brahmaajee ke paas ganesh jee pahale se baithe hain. devataon ne samajha ki ye apanee vijay hote na dekhakar yahaan se kaheen gaye hee nahin, kintu brahma jee ne jab bataaya ki sabase pahale ganesh jee kee pooja hogee, tab sabako bada aashchary hua. ek devata ne kaha-‘aapane to kaha tha ki jo prthvee kee pradakshina karake pahale aayega, vahee pratham poojy hoga.’
brahma jee bole-‘baat to theek hai par ganesh jee to prthvee kee tatha samast brahmaanadon kee ek-do nahin, pooree saat pradakshina karake sabase pahale aa gaye hain.’

devata ek-doosare ka mukh dekhane lage-‘yah kaisee baat? yah kaise sambhav hai?’
brahma jee ne unhen samajhaaya-‘maata saakshaat prthvee ka svarup hai aur pita to bhagavaan naaraayan kee moorti hee hain. bhagavaan naaraayan ke shareer mein hee samast brahmaand rahate hain.’
devata ab kya kahate? unhonne ganesh jee ko pranaam kiya. pita-maata mein shraddha rakhane ke kaaran ganesh jee pratham poojy ho gaye

Comments

comments