Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » राम भी आकर यहाँ दुःख सह गये

राम भी आकर यहाँ दुःख सह गये

ram-bhi-aa-kar-yaha-dukh-sahe-gaye

ram-bhi-aa-kar-yaha-dukh-sahe-gaye

Ram Bhi Aa Kar Yaha Dukh Sahe Gaye  Story
राम भी आकर यहाँ दुःख सह गये
तुलसी अपनी रामायण में कह गये

राम मर्यादा सिखाने आये थे
धर्म के पथ पर चलाने आये थे
राम भी आकर यहाँ दुःख सह गये

प्रेम हो तोह भारत जैसे भाई का
राज चरणों में रहा रघुराई का
जुलम केकई के भारत भी सह गये

उर्मिला साक्षात् सती की शान  है
जिसकी आरती से जगत हैरान है
लखन आकर खुद चकित हे रह गये

जिंदगी दसरथ की बीती श्राप में
प्राण त्याग दिए राम वियोग में
हम यहाँ पर तन सजाते रह गये


raam bhee aakar yahaan duhkh sah gaye
tulasee apanee raamaayan mein kah gaye

raam maryaada sikhaane aaye the
dharm ke path par chalaane aaye the
raam bhee aakar yahaan duhkh sah gaye

prem ho toh bhaarat jaise bhaee ka
raaj charanon mein raha raghuraee ka
julam kekee ke bhaarat bhee sah gaye

urmila saakshaat satee kee shaan hai
jisakee aaratee se jagat hairaan hai
lakhan aakar khud chakit he rah gaye

jindagee dasarath kee beetee shraap mein
praan tyaag die raam viyog mein
ham yahaan par tan sajaate rah gaye

Comments

comments