Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » रामनाथ स्वामी मंदिर

रामनाथ स्वामी मंदिर

ram-nath-swami-mandir

ram-nath-swami-mandir

Ram Nath Swami Mandir Story
रामनाथ स्वामी का प्रसिद्ध मंदिर रामेश्वरम में स्थित है। यह हिन्दुओं का प्रमुख तीर्थ स्थल है। यह मंदिर शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है और ग्यारहवें स्थान पर आता है। यह मंदिर भगवान को समर्पित है। इस मंदिर में स्थित शिवलिंग के संबंध में कई कथाएं लोगों के बीच प्रचलित है।

रामनाथ स्वामी मंदिर से जुड़ी एक कथा (Story of Ramanathaswamy Temple)

एक पौराणिक कथा के अनुसार रावण का वध कर लंका पर विजय प्राप्त करने के बाद भगवान राम कुछ समय के लिए रामेश्वरम में रुके। रामेश्वरम में श्री राम और माता सीता ने शिव जी का आराधना की। माना जाता है कि राम जी ने हनुमान जी को शिवलिंग लाने को कहा परंतु देर होने के कारण उन्होंने सीता जी द्वारा बनाए गए बालू के शिवलिंग की ही पूजा कर ली। इस शिवलिंग को रामनाथ लिंगम के नाम से जाना जाता है।

परंतु जब हनुमान जी शिवलिंग



 

रामनाथ स्वामी मंदिर में रामनाथ लिंगम और विश्वनाथ लिंगम से जुड़ी कई अन्य कथाएं भी प्रचलित हैं। एक अन्य मान्यता के अनुसार इस मंदिर का निर्माण पांडवों ने करवाया था।

रामनाथ स्वामी मंदिर का महत्व (Importance of Ramanathaswamy Temple)

रामनाथ स्वामी मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां स्थित अग्नि तीर्थम में जो भी श्रद्धालु स्नान करता है उसके सारे पाप धुल जाते हैं। इस तीर्थम से निकलने वाले पानी को चमत्कारिक गुणों से युक्त माना जाता है। कहा जाता है कि इस पानी में नहाने के बाद सभी रोग−कष्ट दूर हो जाते हैं। इसके अलावा इस मंदिर के परिसर में 22 कुंड है जिसमें श्रद्धालु पूजा से पहले स्नान करते हैं। हालांकि ऐसा करना अनिवार्य नहीं है।


raamanaath svaamee ka prasiddh mandir raameshvaram mein sthit hai. yah hinduon ka pramukh teerth sthal hai. yah mandir shiv ke baarah jyotirlingon mein se ek hai aur gyaarahaven sthaan par aata hai. yah mandir bhagavaan ko samarpit hai. is mandir mein sthit shivaling ke sambandh mein kaee kathaen logon ke beech prachalit hai.

raamanaath svaamee mandir se judee ek katha (raamanaathasvaamee mandir kee kahaanee)

ek pauraanik katha ke anusaar raavan ka vadh kar lanka par vijay praapt karane ke baad bhagavaan raam kuchh samay ke lie raameshvaram mein ruke. raameshvaram mein shree raam aur maata seeta ne shiv jee ka aaraadhana kee. maana jaata hai ki raam jee ne hanumaan jee ko shivaling laane ko kaha parantu der hone ke kaaran unhonne seeta jee dvaara banae gae baaloo ke shivaling kee hee pooja kar lee. is shivaling ko raamanaath lingam ke naam se jaana jaata hai.

parantu jab hanumaan jee shivaling lekar aae to vah yah dekhakar bahut niraash hue. tab raam jee ne hanumaan jee ka man rakhane ke lie us shivaling ko bhee yahaan sthaapit kiya. jo shivaling hanumaan jee lekar aae the use vishvanaath, kaasheelingam aur hanumaanalingam bhee kaha jaata hai. is shivaling kee pooja ke bina raamanaath svaamee kee pooja adhooree maanee jaatee hai.

raamanaath svaamee mandir mein raamanaath lingam aur vishvanaath lingam se judee kaee any kathaen bhee prachalit hain. ek any maanyata ke anusaar is mandir ka nirmaan paandavon ne karavaaya tha.

raamanaath svaamee mandir ka mahatv (raamanaathasvaamee mandir ke mahatv)

raamanaath svaamee mandir ke baare mein maanyata hai ki yahaan sthit agni teertham mein jo bhee shraddhaalu snaan karata hai usake saare paap dhul jaate hain. is teertham se nikalane vaale paanee ko chamatkaarik gunon se yukt maana jaata hai. kaha jaata hai ki is paanee mein nahaane ke baad sabhee rog-kasht door ho jaate hain. isake alaava is mandir ke parisar mein 22 kund hai jisamen shraddhaalu

 

Comments

comments