Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

rameshwaram-jyotirling

rameshwaram-jyotirling

rameshvaram

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग दक्षिण भारत के समुद्र तट पर स्थित है। कहते हैं मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने स्वयं अपने हाथों से श्री रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग (Shri Rameshwaram Jyotirling) की स्थापना की थी।

रामेश्वरम की कथा

(Story of Shri Rameshwaram Jyotirling in Hindi)

शिव पुराण के अनुसार जब श्रीराम ने रावण के वध हेतु लंका पर चढ़ाई की थी तो विजयश्री की प्राप्ति हेतु उन्होंने समुद्र के किनारे शिवलिंग बनाकर उनकी पूजा की थी। तब भगवान शंकर ने प्रसन्न होकर श्रीराम को विजयश्री का आशीर्वाद दिया था। श्री राम द्वारा प्रार्थना किए जाने पर लोककल्याण की भावना से ज्योतिर्लिंग के रूप में सदा के लिए वहां निवास करना भगवान शंकर ने स्वीकार कर लिया। एक अन्य मान्यता के अनुसार रामेश्वरम में विधिपूर्वक भगवान शिव की आराधना करने से मनुष्य ब्रह्महत्या जैसे पाप से भी मुक्त हो जाता है।

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग का महत्व

(Importance of Shri Rameshwaram Jyotirling)

कहते हैं जो मनुष्य परम पवित्र गंगाजल से भक्तिपूर्वक रामेश्वर शिव का अभिषेक करता है अथवा उन्हें स्नान कराता है वह जीवन- मरण के चक्र से मुक्त हो जाता है और मोक्ष को प्राप्त कर लेता है।


raameshvaram jyotirling dakshin bhaarat ke samudr tat par sthit hai. kahate hain maryaada purushottam bhagavaan shreeraam ne svayan apane haathon se shree raameshvaram jyotirling (shri ramaishwaram jyotirling) kee sthaapana kee thee.

raameshvaram kee katha (story of shri ramaishwaram jyotirling in hindi)

shiv puraan ke anusaar jab shreeraam ne raavan ke vadh hetu lanka par chadhaee kee thee to vijayashree kee praapti hetu unhonne samudr ke kinaare shivaling banaakar unakee pooja kee thee. tab bhagavaan shankar ne prasann hokar shreeraam ko vijayashree ka aasheervaad diya tha. shree raam dvaara praarthana kie jaane par lokakalyaan kee bhaavana se jyotirling ke roop mein sada ke lie vahaan nivaas karana bhagavaan shankar ne sveekaar kar liya. ek any maanyata ke anusaar raameshvaram mein vidhipoorvak bhagavaan shiv kee aaraadhana karane se manushy brahmahatya jaise paap se bhee mukt ho jaata hai.

raameshvaram jyotirling ka mahatv (importanchai of shri ramaishwaram jyotirling)

kahate hain jo manushy param pavitr gangaajal se bhaktipoorvak raameshvar shiv ka abhishek karata hai athava unhen snaan karaata hai vah jeevan- maran ke chakr se mukt ho jaata hai aur moksh ko praapt kar leta hai.

Comments

comments