Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » रौशनी की किरण (Ray of light)

रौशनी की किरण (Ray of light)

ray-of-light

ray-of-light

Ray of light

Ray of light

रोहित आठवीं कक्षा का छात्र था। वह बहुत आज्ञाकारी था, और हमेशा औरों की मदद के लिए तैयार रहता था। वह शहर के एक साधारण मोहल्ले में रहता था , जहाँ बिजली के खम्भे तो लगे थे पर उनपे लगी लाइट सालों से खराब थी और बार-बार कंप्लेंट करने पर भी कोई उन्हें ठीक नहीं करता था।

रोहित अक्सर सड़क पर आने-जाने वाले लोगों को अँधेरे के कारण परेशान होते देखता , उसके दिल में आता कि वो कैसे इस समस्या को दूर करे। इसके लिए वो जब अपने माता-पिता या पड़ोसियों से कहता तो सब इसे सरकार और प्रशाशन की लापरवाही कह कर टाल देते।

ऐसे ही कुछ महीने और बीत गए फिर एक दिन रोहित कहीं से एक लम्बा सा बांस और बिजली का तार लेकर और अपने कुछ दोस्तों की मदद से उसे अपने घर के सामने गाड़कर उसपे एक बल्ब लगाने लगा। आस-पड़ोस के लोगों ने देखा तो पुछा , ” अरे तुम ये क्या कर रहे हो ?”

“मैं अपने घर के सामने एक बल्ब जलाने का प्रयास कर रहा हूँ ?” , रोहित बोला।

“अरे इससे क्या होगा , अगर तुम एक बल्ब लगा भी लोगे तो पुरे मोहल्ले में प्रकाश थोड़े ही फ़ैल जाएगा, आने जाने वालों को तब भी तो परेशानी उठानी ही पड़ेगी !” , पड़ोसियों ने सवाल उठाया।

 रोहित बोला , ” आपकी बात सही है , पर ऐसा कर के मैं कम से कम अपने घर के सामने से जाने वाले लोगों को परेशानी से तो बचा ही पाउँगा। ” और ऐसा कहते हुए उसने एक बल्ब वहां टांग दिया।

रात को जब बल्ब जला तो बात पूरे मोहल्ले में फ़ैल गयी। किसी ने रोहित के इस कदम की खिल्ली उड़ाई तो किसी ने उसकी प्रशंशा की। एक-दो दिन बीते तो लोगों ने देखा की कुछ और घरों के सामने लोगों ने बल्ब टांग दिए हैं। फिर क्या था महीना बीतते-बीतते पूरा मोहल्ला प्रकाश से जगमग हो उठा। एक छोटे से लड़के के एक कदम ने इतना बड़ा बदलाव ला दिया था कि धीरे-धीरे पूरे शहर में ये बात फ़ैल गयी , अखबारों ने भी इस खबर को प्रमुखता से छापा और अंततः प्रशाशन को भी अपनी गलती का अहसास हुआ और मोहल्ले में स्ट्रीट-लाइट्स को ठीक करा दिया गया।

Friends, कई बार हम बस इसलिए किसी अच्छे काम को करने में संकोच कर जाते हैं क्योंकि हमें उससे होने वाला बदलाव बहुत छोटा प्रतीत होता है। पर हकीकत में हमारा एक छोटा सा कदम एक बड़ी क्रांति का रूप लेने की ताकत रखता है। हमें वो काम करने से नहीं चूकना चाहिए जो हम कर सकते हैं। इस कहानी में भी अगर रोहित के उस स्टेप की वजह से पूरे मोहल्ले में रौशनी नहीं भी हो पाती तो भी उसका वो कदम उतना ही महान होता जितना की रौशनी हो जाने पर है। रोहित की तरह हमें भी बदलाव होने का इंतज़ार नहीं करना चाहिए बल्कि, जैसा की गांधी जी ने कहा है , हमें खुद वो बदलाव बनना चाहिए जो हम दुनिया में देखना चाहते हैं, तभी हम अँधेरे में रौशनी की किरण फैला सकते हैं।

wish4me to English

rohit aathaveen kaksha ka chhaatr tha. vah bahut aagyaakaaree tha, aur hamesha auron kee madad ke lie taiyaar rahata tha. vah shahar ke ek saadhaaran mohalle mein rahata tha , jahaan bijalee ke khambhe to lage the par unape lagee lait saalon se kharaab thee aur baar-baar kamplent karane par bhee koee unhen theek nahin karata tha.

rohit aksar sadak par aane-jaane vaale logon ko andhere ke kaaran pareshaan hote dekhata , usake dil mein aata ki vo kaise is samasya ko door kare. isake lie vo jab apane maata-pita ya padosiyon se kahata to sab ise sarakaar aur prashaashan kee laaparavaahee kah kar taal dete.

aise hee kuchh maheene aur beet gae phir ek din rohit kaheen se ek lamba sa baans aur bijalee ka taar lekar aur apane kuchh doston kee madad se use apane ghar ke saamane gaadakar usape ek balb lagaane laga. aas-pados ke logon ne dekha to puchha , ” are tum ye kya kar rahe ho ?”

“main apane ghar ke saamane ek balb jalaane ka prayaas kar raha hoon ?” , rohit bola.

“are isase kya hoga , agar tum ek balb laga bhee loge to pure mohalle mein prakaash thode hee fail jaega, aane jaane vaalon ko tab bhee to pareshaanee uthaanee hee padegee !” , padosiyon ne savaal uthaaya.

rohit bola , ” aapakee baat sahee hai , par aisa kar ke main kam se kam apane ghar ke saamane se jaane vaale logon ko pareshaanee se to bacha hee paunga. ” aur aisa kahate hue usane ek balb vahaan taang diya.
raat ko jab balb jala to baat poore mohalle mein fail gayee. kisee ne rohit ke is kadam kee khillee udaee to kisee ne usakee prashansha kee. ek-do din beete to logon ne dekha kee kuchh aur gharon ke saamane logon ne balb taang die hain. phir kya tha maheena beetate-beetate poora mohalla prakaash se jagamag ho utha. ek chhote se ladake ke ek kadam ne itana bada badalaav la diya tha ki dheere-dheere poore shahar mein ye baat fail gayee , akhabaaron ne bhee is khabar ko pramukhata se chhaapa aur antatah prashaashan ko bhee apanee galatee ka ahasaas hua aur mohalle mein street-laits ko theek kara diya gaya.

friainds, kaee baar ham bas isalie kisee achchhe kaam ko karane mein sankoch kar jaate hain kyonki hamen usase hone vaala badalaav bahut chhota prateet hota hai. par hakeekat mein hamaara ek chhota sa kadam ek badee kraanti ka roop lene kee taakat rakhata hai. hamen vo kaam karane se nahin chookana chaahie jo ham kar sakate hain. is kahaanee mein bhee agar rohit ke us step kee vajah se poore mohalle mein raushanee nahin bhee ho paatee to bhee usaka vo kadam utana hee mahaan hota jitana kee raushanee ho jaane par hai. rohit kee tarah hamen bhee badalaav hone ka intazaar nahin karana chaahie balki, jaisa kee gaandhee jee ne kaha hai , hamen khud vo badalaav banana chaahie jo ham duniya mein dekhana chaahate hain, tabhee ham andhere mein raushanee kee kiran phaila sakate hain

Comments

comments