Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » पुनर्जन्म (Reincarnation)

पुनर्जन्म (Reincarnation)

reincarnation

reincarnation

ReIncarnation

ReIncarnation

पिछले जन्म में आप क्या थे? क्या वाकई आप जानना चाहते हैं? क्या आप पुनर्जन्म के सिद्धांत को मानते हैं? पिछला या पुनर्जन्म होता है या नहीं? यह सवाल प्रत्येक व्यक्ति के मन में होगा। हो सकता है कि कुछ लोग मानकर ही बैठ गए हैं कि हां होता है और कुछ लोग यह मानते हैं कि नहीं होता है।

दोनों ही तरह के लोग यह कभी जानने का प्रयास नहीं करेंगे कि पुनर्जन्म होता है या नहीं, क्योंकि धर्म ने आपको रेडीमेड उत्तर दे दिए हैं। बचपन से ही मुसलमान को बता दिया जाना है कि पुनर्जन्म नहीं होता है और हिन्दू को बता दिया जाता है कि होता है। अब बस खोज बंद। धर्म ने सब खोज लिया, तुम नाहक ही क्यों परेशान होते हो?

यहूदी, ईसाईयत, इस्लाम जो पुनर्जन्‍म के सिद्धांत को नहीं मानते। उक्त तीनों धर्मों के समानांतर- हिंदू, जैन और बौद्ध यह तीनों धर्म मानते हैं कि पुनर्जन्म एक सच्चाई है। अरब में किसी बच्चे को अपने पिछले जन्म की याद नहीं आती, लेकिन भारत में ऐसे ढेरों किस्से हैं कि फलां-फलां बच्चे को पिछले जन्म का याद आ गया। ऐसा क्यों?

हिंदू धर्म पुनर्जन्म में विश्वास रखता है। इसका अर्थ है कि आत्मा जन्म एवं मृत्यु के निरंतर पुनरावर्तन की शिक्षात्मक प्रक्रिया से गुजरती हुई अपने पुराने शरीर को छोड़कर नया शरीर धारण करती है। उसकी यह भी मान्यता है कि प्रत्येक आत्मा मोक्ष प्राप्त करती है, जैसा गीता में कहा गया है।

हमारा यह शरीर पंच तत्वों से मिलकर बना है- आकाश, वायु, अग्नि, जल, धरती। यह जिस क्रम में लिखे गए हैं उसी क्रम में इनकी प्राथमिकता है। आकाश अनुमानित तत्व है अर्थात् जिसको आप प्रूव नहीं कर सकते कि यह ‘आकाश’ है। आकाश किसे कहते हैं? आज तक किसी ने आकाश नहीं देखा, उसी तरह जिस तरह की वायु नहीं देखी, लेकिन वायु महसूस होती है इसलिए अनुमानित तत्व नहीं है। आकाश को अनुमानित तत्व कहना गलत है।

खैर। शरीर जब नष्ट होता है तो उसके भीतर का आकाश, आकाश में लीन हो जाता है, वायु भी वायु में समा जाती है। अग्नि में अग्नि और जल में जल समा जाता है। अंत में बच जाती है राख, जो धरती का हिस्सा है। इसके बा‍द में कुछ है जो बच जाता है उसे कहते हैं आत्मा।

लेकिन इसके बाद भी बहुत कुछ बचता है। एक छठवें तत्व की हम बात करें- हमने कई बार सुना होगा- मन और मस्तिष्क। निश्‍चित ही मस्तिष्क को मन नहीं कहते तब फिर मन क्या है? क्या वह भी शरीर के नष्‍ट होने पर नष्ट हो जाता है? शरीर तो भौतिक जगत का हिस्सा है, लेकिन मन अभौतिक है। यह मन ही आत्मा के साथ आकाशरूप में विद्यमान रहता है।

एक सातवां तत्व भी होता है जो बच जाता है, उसे कहते हैं- बुद्धि। बुद्धि हमारा बोध है। हमने जो भी देखा और भोगा वह बोध ही आकाशरूप में विद्यमान रहता है। इसके बाद एक और अंतिम तत्व होता है जिसे कहते हैं- अहंकार। यह घमंड वाला अहंकार।

स्वयं के होने के बोध को ही अंतिम अहंकार कहते हैं। अहंकार से ही सृष्टि की उत्पत्ति हुई है। गीता में आठ तत्वों की चर्चा की गई है। उक्त आठ तत्वों को विस्तार से जानना है तो वेदों का अंतिम भाग उपनिषद पढ़े, जिसे वेदांत भी कहा जाता है। लगभग 1008 उपनिषद हैं।

योग ने मन, बुद्धि और अहंकार को नाम दिया ‘चित्त’। यह चित्त ही चेतना (आत्मा) का मास्टर चिप है। यह मास्टर पेन ड्राइव है, जिसमें लाखों जन्म का डाटा इकट्ठा होता रहता है। आप इसे कुछ भी अच्छा-सा नाम दे सकते हैं।

चित्त की वृत्तियों का निरोध तो किया जा सकता है, किंतु चित्त को समाप्त करना मुश्‍किल है और जो इसे समाप्त कर देता है उसे मोक्ष मिल जाता है।

wish4me to English

pichhale janm mein aap kya the? kya vaakee aap jaanana chaahate hain? kya aap punarjanm ke siddhaant ko maanate hain? pichhala ya punarjanm hota hai ya nahin? yah savaal pratyek vyakti ke man mein hoga. ho sakata hai ki kuchh log maanakar hee baith gae hain ki haan hota hai aur kuchh log yah maanate hain ki nahin hota hai.

donon hee tarah ke log yah kabhee jaanane ka prayaas nahin karenge ki punarjanm hota hai ya nahin, kyonki dharm ne aapako redeemed uttar de die hain. bachapan se hee musalamaan ko bata diya jaana hai ki punarjanm nahin hota hai aur hindoo ko bata diya jaata hai ki hota hai. ab bas khoj band. dharm ne sab khoj liya, tum naahak hee kyon pareshaan hote ho?

yahoodee, eesaeeyat, islaam jo punarjan‍ma ke siddhaant ko nahin maanate. ukt teenon dharmon ke samaanaantar- hindoo, jain aur bauddh yah teenon dharm maanate hain ki punarjanm ek sachchaee hai. arab mein kisee bachche ko apane pichhale janm kee yaad nahin aatee, lekin bhaarat mein aise dheron kisse hain ki phalaan-phalaan bachche ko pichhale janm ka yaad aa gaya. aisa kyon?

hindoo dharm punarjanm mein vishvaas rakhata hai. isaka arth hai ki aatma janm evan mrtyu ke nirantar punaraavartan kee shikshaatmak prakriya se gujaratee huee apane puraane shareer ko chhodakar naya shareer dhaaran karatee hai. usakee yah bhee maanyata hai ki pratyek aatma moksh praapt karatee hai, jaisa geeta mein kaha gaya hai.

hamaara yah shareer panch tatvon se milakar bana hai- aakaash, vaayu, agni, jal, dharatee. yah jis kram mein likhe gae hain usee kram mein inakee praathamikata hai. aakaash anumaanit tatv hai arthaat jisako aap proov nahin kar sakate ki yah aakaash hai. aakaash kise kahate hain? aaj tak kisee ne aakaash nahin dekha, usee tarah jis tarah kee vaayu nahin dekhee, lekin vaayu mahasoos hotee hai isalie anumaanit tatv nahin hai. aakaash ko anumaanit tatv kahana galat hai.

khair. shareer jab nasht hota hai to usake bheetar ka aakaash, aakaash mein leen ho jaata hai, vaayu bhee vaayu mein sama jaatee hai. agni mein agni aur jal mein jal sama jaata hai. ant mein bach jaatee hai raakh, jo dharatee ka hissa hai. isake ba‍da mein kuchh hai jo bach jaata hai use kahate hain aatma.

lekin isake baad bhee bahut kuchh bachata hai. ek chhathaven tatv kee ham baat karen- hamane kaee baar suna hoga- man aur mastishk. nish‍chit hee mastishk ko man nahin kahate tab phir man kya hai? kya vah bhee shareer ke nash‍ta hone par nasht ho jaata hai? shareer to bhautik jagat ka hissa hai, lekin man abhautik hai. yah man hee aatma ke saath aakaasharoop mein vidyamaan rahata hai.

ek saatavaan tatv bhee hota hai jo bach jaata hai, use kahate hain- buddhi. buddhi hamaara bodh hai. hamane jo bhee dekha aur bhoga vah bodh hee aakaasharoop mein vidyamaan rahata hai. isake baad ek aur antim tatv hota hai jise kahate hain- ahankaar. yah ghamand vaala ahankaar.

svayan ke hone ke bodh ko hee antim ahankaar kahate hain. ahankaar se hee srshti kee utpatti huee hai. geeta mein aath tatvon kee charcha kee gaee hai. ukt aath tatvon ko vistaar se jaanana hai to vedon ka antim bhaag upanishad padhe, jise vedaant bhee kaha jaata hai. lagabhag 1008 upanishad hain.

yog ne man, buddhi aur ahankaar ko naam diya chitt. yah chitt hee chetana (aatma) ka maastar chip hai. yah maastar pen draiv hai, jisamen laakhon janm ka daata ikattha hota rahata hai. aap ise kuchh bhee achchha-sa naam de sakate hain.

chitt kee vrttiyon ka nirodh to kiya ja sakata hai, kintu chitt ko samaapt karana mush‍kil hai aur jo ise samaapt kar deta hai use moksh mil jaata hai

Comments

comments