Monday , 18 September 2017
Latest Happenings
Home » books » रिश्ते है अनमोल

रिश्ते है अनमोल

relationship-is-priceless

relationship-is-priceless

Relationship is priceless

मेरी पत्नी ने कुछ दिनों पहले घर की छत पर कुछ गमले रखवा दिए और एक
छोटा सा गार्डन बना लिया।

पिछले दिनों मैं छत पर गया तो ये देख कर हैरान रह गया कि कई गमलों में
फूल खिल गए हैं,
नींबू के पौधे में दो नींबू भी लटके हुए हैं और दो चार हरी
मिर्च भी लटकी हुई नज़र आई।

मैंने देखा कि पिछले हफ्ते उसने बांस का जो पौधा गमले में लगाया था,
उस गमले को घसीट कर दूसरे गमले के पास कर रही थी।

मैंने कहा तुम इस भारी गमले को क्यों घसीट रही हो?

पत्नी ने मुझसे कहा कि यहां ये बांस का पौधा सूख रहा है, इसे खिसका कर इस पौधे के पास कर देते हैं।

मैं हंस पड़ा और कहा अरे पौधा सूख रहा है तो खाद डालो, पानी डालो।

इसे खिसका कर किसी और पौधे
के पास कर देने से क्या होगा?”

पत्नी ने मुस्कुराते हुए कहा ये पौधा यहां अकेला है इसलिए मुर्झा रहा है।

इसे इस पौधे के पास कर देंगे तो ये फिर लहलहा उठेगा।

पौधे अकेले में सूख जाते हैं, लेकिन उन्हें अगर किसी और पौधे का साथ मिल जाए तो जी उठते हैं।”

यह बहुत अजीब सी बात थी। एक-एक कर कई तस्वीरें आखों के आगे बनती
चली गईं।

मां की मौत के बाद पिताजी कैसे एक ही रात में बूढ़े, बहुत बूढ़े हो गए थे।

हालांकि मां के जाने के बाद सोलह साल तक वो रहे, लेकिन सूखते हुए पौधे की तरह।

मां के रहते हुए जिस पिताजी को मैंने कभी उदास नहीं देखा था, वो मां के जाने के बाद
खामोश से हो गए थे।

मुझे पत्नी के विश्वास पर पूरा विश्वास हो रहा था।

लग रहा था कि सचमुच पौधे अकेले में सूख जाते होंगे।

बचपन में मैं एक बार बाज़ार से एक छोटी सी रंगीन मछली खरीद कर लाया था और
उसे शीशे के जार में पानी भर कर रख दिया था।

मछली सारा दिन गुमसुम रही।
मैंने उसके लिए खाना भी डाला, लेकिन वो चुपचाप इधर-उधर पानी में अनमना सा घूमती रही।

सारा खाना जार की तलहटी में जाकर बैठ
गया, मछली ने कुछ नहीं खाया। दो दिनों तक वो ऐसे ही रही, और एक सुबह मैंने देखा कि वो पानी की सतह पर उल्टी पड़ी थी।

आज मुझे घर में पाली वो छोटी सी मछली याद आ रही थी।

बचपन में किसी ने मुझे ये नहीं बताया था, अगर मालूम होता तो कम से
कम दो, तीन या ढ़ेर सारी मछलियां खरीद लाता और मेरी वो प्यारी
मछली यूं तन्हा न मर जाती।

बचपन में मेरी माँ से सुना था कि लोग मकान बनवाते थे और रौशनी के लिए कमरे में दीपकरखने के लिए दीवार में इसलिए दो मोखे बनवाते थे क्योंकि माँ का
कहना था कि बेचारा अकेला मोखा गुमसुम और उदास हो जाता है।

मुझे लगता है कि संसार में किसी को अकेलापन पसंद नहीं।

आदमी हो या पौधा, हर किसी को
किसी न किसी के साथ की ज़रुरत होती है।

आप अपने आसपास झांकिए, अगर कहीं कोई अकेला दिखे तो उसे अपना
साथ दीजिए, उसे मुरझाने से बचाइए।

अगर आप अकेले हों, तो आप भी
किसी का साथ लीजिए, आप खुद को भी मुरझाने से रोकिए।

अकेलापन संसार में सबसे बड़ी सजा है। गमले के पौधे को तो हाथ से खींच
कर एक दूसरे पौधे के पास किया जा सकता है, लेकिन आदमी को करीब लाने के
लिए जरुरत
होती है रिश्तों को समझने की, सहेजने की और समेटने की।

अगर मन के किसी कोने में आपको लगे कि ज़िंदगी का रस सूख रहा है,
जीवन मुरझा रहा है तो उस पर रिश्तों के प्यार का रस डालिए।

खुश रहिए और मुस्कुराइए। कोई यूं ही किसी और की गलती से आपसे दूर हो
गया हो तो उसे अपने करीब लाने की कोशिश कीजिए और हो जाइए
हरा-भरा।

Translate Into Hindi to English

A few days ago my wife gave some pots on the roof of the house and one
Made a small garden.
Last week I went to the terrace, then I was surprised to find that in many cases
The flowers are blooming,
In the lemon plant two lemons are also hanging and two green
Chillies also appeared hanging
I saw that last week he planted a bamboo plant,
He was dragging the pot with another pot.
I said why are you dragging this heavy pot?
The wife told me that this bamboo plant is drying here, and it slips it to the plant.
I laughed and said that the plant is drying, then fertilize, pour water.
Slip it into another plant
What will happen if I do tax? ”
The wife smiled saying that this plant is alone here because it is crying.
If you pass it to this plant then it will rise again.
The plants are drying alone, but if they get together with another plant, then they will rise. ”
It was a very strange thing. Multiple photos
Gone
After the death of his father, how did the father become old, very old in the same night?
Although they stayed for sixteen years after leaving their mother, but like a dry plant
The father whom I had never seen sad while I was a mother, after the mother was born
Had become silent
I was full faith in my wife’s faith.
It seemed that the plants would really dry up alone.
In my childhood I had bought a small colorful fish from the market once and
He had filled the water in a glass of jars.
Fish is missing all day
I also put food for him, but he kept quietly flowing around here in the water.
All food and drinks sit in the bottom of the jar
Gone, the fish did not eat anything. He remained like that for two days, and one morning I saw that he had vomited on the water surface.
Today, I was missing that little fish that I was missing in the house.
Someone in my childhood did not tell me this, if I knew it would be less
Buy less two, three or more fish and my dear
The fish do not die.
In my childhood, my mother had heard that people used to build houses and used to make two wokas in the wall because of the light for the light, because of mother’s
It was to say that the poorly wretched Moksha becomes misery and sad.
I think nobody in the world likes loneliness.
Man or plant, everyone
Needed with someone else.
If you look around alone, you should be around yourself.
Give it, save it from fretting
If you are alone, you too
Take somebody together, stop you from blinking yourself too.
Loneliness is the biggest punishment in the world. Pull the pot of hand with your hand
Taxes can be done near each other plant, but to bring the man closer
Need for
Is there to understand relationships, save and co-ordinate relationships?
If you feel that the juice of life is drying in some corner of the mind,
If life is wither, then add love to the relationships of love.
Be happy and smile Someone is far away from someone else’s mistake
If you have gone, try to bring it closer and get it
green.

Comments

comments