Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » सांता क्रूज कैथेड्रल

सांता क्रूज कैथेड्रल

saanta-krooj-kaithedral

saanta-krooj-kaithedral

saanta krooj kaithedral

saanta krooj kaithedral

सांता क्रूज बैसिलिका, केरल के फोर्ट कोच्चि में के.बी याकूब रोड पर स्थित एक रोमन कैथोलिक कैथेड्रल है जो केरल के बेहतरीन और प्रभावशाली चर्चों में से एक है। सेंट फ्रांसिस चर्च के पास स्थित करीब यह प्रधान गिरजाघर कोचीन के सूबे में अंतर्गत मुख्य चर्च है। यह कैथेड्रल भारत में सबसे पुराने चर्चों में से एक है और साथ ही यह देश में मौजूद आठ बैसिलिकाओं में से भी एक है।
सांताक्रूज कैथेड्रल का निर्माण (Construction of Santa Cruz Cathedral)
इस गिरजाघर का निर्माण पहली बार पुर्तगाली वायसराय, फ्रांसिस्को डी अल्मीडा द्वारा करवाया गया था जब वह सन 1505 में कोच्चि पहुंचे थे। उन्होने कोच्चि के राजा से उस समय पत्थर और मोर्टार का उपयोग कर एक चर्च भवन का निर्माण करने के लिए अनुमति ली थी। सांताक्रूज चर्च की नींव का पत्थर 3 मई 1505 को रखा गया था जिस दिन होली क्रॉस के आविष्कार की दावत का दिन भी था इसलिए इस चर्च का नाम सांताक्रूज रखा गया।

सांता क्रूज कैथेड्रल का इतिहास (History of Santa Cruz Cathedral in Hindi)
सन 1558 में सांताक्रूज चर्च को “कैथेड्रल” का नाम दिया गया, सन 1663 में जब डच ने कोच्चि के ऊपर विजय प्राप्त की थी तब उन्होंने सभी कैथोलिक इमारतों को नष्ट कर दिया था लेकिन केवल सेंट फ्रांसिस चर्च और कैथेड्रल बच गया था। सन 1795 में ब्रिटिशर्स ने इस कैथेड्रल को तुड़वा दिया था। तकरीबन सौ साल बाद फिर बिशप डी जोआओ गोम्स फरेरा जो कोचीन पहुंचे थे ने इस कैथेड्रल को दोबारा खड़ा करने की पहल की और इस का निर्माण शुरू करवाया। पॉप जॉन पॉल द्वितीय ने 1984 में इसे बेसोलिका का दर्जा दिया।

wish4me to English

saanta krooj baisilika, keral ke phort kochchi mein ke.bee yaakoob rod par sthit ek roman kaitholik kaithedral hai jo keral ke behatareen aur prabhaavashaalee charchon mein se ek hai. sent phraansis charch ke paas sthit kareeb yah pradhaan girajaaghar kocheen ke soobe mein antargat mukhy charch hai. yah kaithedral bhaarat mein sabase puraane charchon mein se ek hai aur saath hee yah desh mein maujood aath baisilikaon mein se bhee ek hai.
saantaakrooj kaithedral ka nirmaan (chonstruchtion of sant chruz chathaidral)
is girajaaghar ka nirmaan pahalee baar purtagaalee vaayasaraay, phraansisko dee almeeda dvaara karavaaya gaya tha jab vah san 1505 mein kochchi pahunche the. unhone kochchi ke raaja se us samay patthar aur mortaar ka upayog kar ek charch bhavan ka nirmaan karane ke lie anumati lee thee. saantaakrooj charch kee neenv ka patthar 3 maee 1505 ko rakha gaya tha jis din holee kros ke aavishkaar kee daavat ka din bhee tha isalie is charch ka naam saantaakrooj rakha gaya.

saanta krooj kaithedral ka itihaas (history of sant chruz chathaidral in hindi)
san 1558 mein saantaakrooj charch ko “kaithedral” ka naam diya gaya, san 1663 mein jab dach ne kochchi ke oopar vijay praapt kee thee tab unhonne sabhee kaitholik imaaraton ko nasht kar diya tha lekin keval sent phraansis charch aur kaithedral bach gaya tha. san 1795 mein britishars ne is kaithedral ko tudava diya tha. takareeban sau saal baad phir bishap dee joao goms pharera jo kocheen pahunche the ne is kaithedral ko dobaara khada karane kee pahal kee aur is ka nirmaan shuroo karavaaya. pop jon pol dviteey ne 1984 mein ise besolika ka darja diya.

Comments

comments