Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Krishna » सारथ्य

सारथ्य

saarathy

saarathy

Mahabharata Lord Krishna

Mahabharata Lord Krishna

भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत – संग्राम में और किसी का सारथ्य न करके अर्जुन ही सारथ्यकार्य क्यों किया, यह भी एक विचारणीय विषय है । जब भगवान अपनी सारी नारायणी सेवा कौरवों को देकर पाण्डवों की ओर से स्वयं अशस्त्र रहकर महायुद्ध में योगदान करने का वचन अर्जुन को दे चुके थे तब उन्हें कोई – न कोई काम करना ही था, और पाण्डवों में अर्जुन के साथ उनकी सबसे अधिक घनिष्ठता होने के कारण उन्होंने उसी का सारथ्यकर्म किया । पर नहीं, केवल यही बात नहीं, इसके पीछे एक विशेष कारण छिपा हुआ है । यह विशेष कारण या रहस्य यह है कि अर्जुन वास्तव में भगवान की प्रकृति था, जो उनके धर्मसंस्थापनार्थ बार बार अवतार धारण करने का कारण रहा करती है । इसलिए यहीं उन्हें अर्जुन का ही सारथ्य करना था, सारा काम उसी के द्वारा करवाना था । अन्य लोग भी इस महत्कार्य में साधनरूप थे, पर इस समररूपी अभिनय का मुख्य पात्र अर्जुन ही था । भगवान की कार्यकारिणी महाशक्ति अर्जुन के रूप में ही वहां प्रत्यक्ष हुई थी । इसलिए भगवान को उसी का संचालन करना था । वास्तव में उन्होंने केवल अर्जुन का ही सारथ्य नहीं किया था, बल्कि सारे संसार का सारथ्य किया था । कौरवों का अनाचार और पाण्डव आदि सज्जनों का सदाचार, ये उनके हाथ की लगाम की डोरियां थीं । भगवान ने इन्हीं दो डोरियों की लगाम लगाकर धर्म अधर्मरूपी दो घोड़ों को मोक्षदायक रथ में जोता ।

अपने इसी सारथ्यकर्म के द्वारा भगवान ने संसार के सम्मुख एक महान आदर्श उपस्थित किया – भक्तों का परित्राण किया और दुष्टों का दलन । भगवान का यह सारथ्य ऐसा था जिसे भगवान ही कर सकते हैं, कोई दूसरा नहीं कर सकता । वह अर्जुन के भक्तों के – पुण्यपुरुषों के – नीतिमानों के और धर्महृदयों के सारथी थे । आप भी चाहें तो भगवान को अपने हृदय का सारथी बना सकते हैं, पर इसके लिए कुछ त्याग औ तपस्या करनी पड़ेगी । वह त्याग तपस्या यहीं कि अपने अंदर आसन जमाएं हुए और षड्रिपुओं को एक – एक करके निकाल बाहर करो, अपने हृदय मंदिर को पूर्ण स्वच्छ और पवित्र बनाओ और फिर भगवान श्रीकृष्ण का आह्वान करो । बस, वह दयानिधान उसमें तुरंत आ विराजेंगे और तुम्हारा सारथ्य करके तुम्हें मोक्षद्वार तक पहुंचा देंगे ।

wish4me in English

bhagavaan shreekrshn ne mahaabhaarat – sangraam mein aur kisee ka saarathy na karake arjun hee saarathyakaary kyon kiya, yah bhee ek vichaaraneey vishay hai . jab bhagavaan apanee saaree naaraayanee seva kauravon ko dekar paandavon kee or se svayan ashastr rahakar mahaayuddh mein yogadaan karane ka vachan arjun ko de chuke the tab unhen koee – na koee kaam karana hee tha, aur paandavon mein arjun ke saath unakee sabase adhik ghanishthata hone ke kaaran unhonne usee ka saarathyakarm kiya . par nahin, keval yahee baat nahin, isake peechhe ek vishesh kaaran chhipa hua hai . yah vishesh kaaran ya rahasy yah hai ki arjun vaastav mein bhagavaan kee prakrti tha, jo unake dharmasansthaapanaarth baar baar avataar dhaaran karane ka kaaran raha karatee hai . isalie yaheen unhen arjun ka hee saarathy karana tha, saara kaam usee ke dvaara karavaana tha . any log bhee is mahatkaary mein saadhanaroop the, par is samararoopee abhinay ka mukhy paatr arjun hee tha . bhagavaan kee kaaryakaarinee mahaashakti arjun ke roop mein hee vahaan pratyaksh huee thee . isalie bhagavaan ko usee ka sanchaalan karana tha . vaastav mein unhonne keval arjun ka hee saarathy nahin kiya tha, balki saare sansaar ka saarathy kiya tha . kauravon ka anaachaar aur paandav aadi sajjanon ka sadaachaar, ye unake haath kee lagaam kee doriyaan theen . bhagavaan ne inheen do doriyon kee lagaam lagaakar dharm adharmaroopee do ghodon ko mokshadaayak rath mein jota .

apane isee saarathyakarm ke dvaara bhagavaan ne sansaar ke sammukh ek mahaan aadarsh upasthit kiya – bhakton ka paritraan kiya aur dushton ka dalan . bhagavaan ka yah saarathy aisa tha jise bhagavaan hee kar sakate hain, koee doosara nahin kar sakata . vah arjun ke bhakton ke – punyapurushon ke – neetimaanon ke aur dharmahrdayon ke saarathee the . aap bhee chaahen to bhagavaan ko apane hrday ka saarathee bana sakate hain, par isake lie kuchh tyaag au tapasya karanee padegee . vah tyaag tapasya yaheen ki apane andar aasan jamaen hue aur shadripuon ko ek – ek karake nikaal baahar karo, apane hrday mandir ko poorn svachchh aur pavitr banao aur phir bhagavaan shreekrshn ka aahvaan karo . bas, vah dayaanidhaan usamen turant aa viraajenge aur tumhaara saarathy karake tumhen mokshadvaar tak pahuncha denge

Comments

comments