Monday , 13 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » सावन के पवित्र महीनें में जानिए शिवजी के पवित्र धामों के बारें में

सावन के पवित्र महीनें में जानिए शिवजी के पवित्र धामों के बारें में

saavan-ke-pavitr-maheene-mein-jaanie-shivajee-ke-pavitr-dhaamon-ke-baaren-mein

saavan-ke-pavitr-maheene-mein-jaanie-shivajee-ke-pavitr-dhaamon-ke-baaren-mein

somnath-web

हिन्दू धर्म में सोमनाथ मंदिर का अपना एक अलग ही स्थान है। सोमनाथ मंदिर को 12 ज्योतिर्लिंगों में पहला स्थान प्राप्त है। गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण स्वयं चन्द्रदेव ने किया था। इतना ही नहीं, कहते हैं महादेव अपने दरबार से किसी भी भक्त को खाली नहीं लौटने देते हैं।
सोमनाथ मंदिर में स्थापित ज्योतिर्लिंग ही द्वादश ज्योतिर्लिंगों में स्थापित सबसे पहला रूद्र ज्योतिर्लिंग है, जहां आकर अपना मन भगवान को अर्पण करने वालों की हर मुराद पूरी होती है।
मंदिर में सबसे पहले भक्तों की भेंट भगवान के प्रिय वाहन नंदी से होती है, मंदिर के अंदर पहुंच कर एक अलग ही दुनिया में होने का एहसास होता है।
मस्तक पर चंद्रमा को धारण किए देवों के देव महादेव का सबसे पंचामृत स्नान कराया जाता है। भगवान सोमनाथ की पूजा के बाद मंदिर के पुजारी भगवान के हर रूप की आराधना करते हैं, जिसे देखना अपने आप में सौभाग्य की बात है।
सोमनाथ मंदिर की बनावट और मंदिर की दीवारों पर की गई शिल्पकारी शिव भक्ति का उत्कृष्ठ नमूना है। सोमनाथ मंदिर का इतिहास बताता है कि समय-समय पर मंदिर पर कई आक्रमण हुए तोड़-फोड़ की गयी, लेकिन मंदिर पर किसी भी कालखंड का कोई प्रभाव देखने को नहीं मिलता। कहते हैं सृष्टि की रचना के समय भी यह शिवलिंग मौजूद था। ऋग्वेद में भी इसके महत्त्व का बखान किया गया है। धर्म ग्रन्थों के अनुसार श्राप से मुक्ति पाने के लिए चंद्रमा ने यहां शिव जी की आराधना की थी इसलिए चंद्रमा यानी सोम के नाम पर ही इस मंदिर का नाम पड़ा सोमनाथ।

पौराणिक कथा‬
शिव पुराण के अनुसार प्रचीन काल में राजा दक्ष की 27 कन्याएं थी, जिनका विवाह राजा दक्ष ने चंद्रमा से कर दिया, लेकिन चंद्रमा ने 27 कन्याओं में से केवल एक रोहिणी को ही पत्नी का दर्जा दिया। दक्ष ने दामाद को बहुत समझाने की कोशिश की, लेकिन जब उन्होंने दक्ष की बात नहीं मानी तो उन्होंने चंद्रमा को क्षय रोगी होने का श्राप दे दिया और चंद्रदेव की कांति धूमिल पड़ने लगनी। परेशान होकर चंद्रमा ब्रह्मदेव के पास पहुंचे। चांद यानी सोम की समस्या सुन ब्रह्मा ने उनसे कहा कि उन्हें कुष्ठ रोग से सिर्फ महादेव ही मुक्ति दिला सकते हैं, लेकिन इसके लिए उन्हें भगवान शिव की उपासना करनी होगी।
निरोग होने के लिए चंद्रमा ने कठोर तपस्या की, जिससे खुश होकर महादेव ने उन्हें श्राप से मुक्त कर दिया। शिवभक्त चंद्रदेव ने यहां शिव जी का स्वर्ण मंदिर बनवाया और उसमें जो ज्योतिर्लिंग स्थापित हुआ उसका नाम चंद्रमा के स्वामी यानी सोमनाथ पड़ गया। चंद्रमा ने इसी स्थान पर अपनी कांति वापस पायी थी, इसलिए इस क्षेत्र को प्रभास पाटन कहा जाने लगा। यह तीर्थ पितृगणों के श्राद्ध कर्मो के लिए भी प्रसिद्ध है। चैत्र, भाद्र, कार्तिक माह में यहां श्राद्ध करने का विशेष महत्व माना गया है। इन तीन महीनों में यहां श्रद्धालुओं की बडी भीड़ लगती है। इसके अलावा यहां तीन नदियों हिरण, कपिला और सरस्वती का महासंगम होता है। इस त्रिवेणी स्नान का विशेष महत्त्व है।

To  English Wish4me

hindoo dharm mein somanaath mandir ka apana ek alag hee sthaan hai. somanaath mandir ko 12 jyotirlingon mein pahala sthaan praapt hai. gujaraat ke sauraashtr kshetr mein sthit is mandir ke baare mein kaha jaata hai ki isaka nirmaan svayan chandradev ne kiya tha. itana hee nahin, kahate hain mahaadev apane darabaar se kisee bhee bhakt ko khaalee nahin lautane dete hain.
somanaath mandir mein sthaapit jyotirling hee dvaadash jyotirlingon mein sthaapit sabase pahala roodr jyotirling hai, jahaan aakar apana man bhagavaan ko arpan karane vaalon kee har muraad pooree hotee hai.
mandir mein sabase pahale bhakton kee bhent bhagavaan ke priy vaahan nandee se hotee hai, mandir ke andar pahunch kar ek alag hee duniya mein hone ka ehasaas hota hai.
mastak par chandrama ko dhaaran kie devon ke dev mahaadev ka sabase panchaamrt snaan karaaya jaata hai. bhagavaan somanaath kee pooja ke baad mandir ke pujaaree bhagavaan ke har roop kee aaraadhana karate hain, jise dekhana apane aap mein saubhaagy kee baat hai.
somanaath mandir kee banaavat aur mandir kee deevaaron par kee gaee shilpakaaree shiv bhakti ka utkrshth namoona hai. somanaath mandir ka itihaas bataata hai ki samay-samay par mandir par kaee aakraman hue tod-phod kee gayee, lekin mandir par kisee bhee kaalakhand ka koee prabhaav dekhane ko nahin milata. kahate hain srshti kee rachana ke samay bhee yah shivaling maujood tha. rgved mein bhee isake mahattv ka bakhaan kiya gaya hai. dharm granthon ke anusaar shraap se mukti paane ke lie chandrama ne yahaan shiv jee kee aaraadhana kee thee isalie chandrama yaanee som ke naam par hee is mandir ka naam pada somanaath.

pauraanik katha‬
shiv puraan ke anusaar pracheen kaal mein raaja daksh kee 27 kanyaen thee, jinaka vivaah raaja daksh ne chandrama se kar diya, lekin chandrama ne 27 kanyaon mein se keval ek rohinee ko hee patnee ka darja diya. daksh ne daamaad ko bahut samajhaane kee koshish kee, lekin jab unhonne daksh kee baat nahin maanee to unhonne chandrama ko kshay rogee hone ka shraap de diya aur chandradev kee kaanti dhoomil padane laganee. pareshaan hokar chandrama brahmadev ke paas pahunche. chaand yaanee som kee samasya sun brahma ne unase kaha ki unhen kushth rog se sirph mahaadev hee mukti dila sakate hain, lekin isake lie unhen bhagavaan shiv kee upaasana karanee hogee.
nirog hone ke lie chandrama ne kathor tapasya kee, jisase khush hokar mahaadev ne unhen shraap se mukt kar diya. shivabhakt chandradev ne yahaan shiv jee ka svarn mandir banavaaya aur usamen jo jyotirling sthaapit hua usaka naam chandrama ke svaamee yaanee somanaath pad gaya. chandrama ne isee sthaan par apanee kaanti vaapas paayee thee, isalie is kshetr ko prabhaas paatan kaha jaane laga. yah teerth pitrganon ke shraaddh karmo ke lie bhee prasiddh hai. chaitr, bhaadr, kaartik maah mein yahaan shraaddh karane ka vishesh mahatv maana gaya hai. in teen maheenon mein yahaan shraddhaaluon kee badee bheed lagatee hai. isake alaava yahaan teen nadiyon hiran, kapila aur sarasvatee ka mahaasangam hota hai. is trivenee snaan ka vishesh mahattv hai.

Comments

comments