Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » सावन में सोमवार का हैं खास महत्त्व

सावन में सोमवार का हैं खास महत्त्व

saavan-mein-somavaar-ka-hain-khaas-mahattv

saavan-mein-somavaar-ka-hain-khaas-mahattv

4

पवित्र सावन माह की शुरुआत हो गई है। शिव पूजा के लिए अत्यंत फलदायी माने जाने वाले इस माह में सोमवार के दिन भगवान भोलेनाथ की विशेष पूजा का महत्त्व है। आज सावन का पहला सोमवार है।
भगवान शिव को सावन यानी श्रावण का महीना बेहद प्रिय है जिसमें वह अपने भक्तों पर अतिशय कृपा बरसाते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस महीने में खासकर सोमवार के दिन व्रत-उपवास और पूजा पाठ (रुद्राभिषेक,कवच पाठ,जाप इत्यादि) का विशेष लाभ होता है। सनातन धर्म में यह महीना बेहद पवित्र माना जाता है।
शास्त्रों के अनुसार सोमवार हिमांशु यानि चंद्रमा का ही दिन है। स्थूल रूप में अभिलक्षणा विधि से भी यदि देखा जाए तो चन्द्रमा की पूजा भी स्वयं भगवान शिव की प्राप्त हो जाती है , क्योंकि चन्द्रमा का निवास भी भुजंग भूषण भगवान शिव का सिर ही है। सोम मतलब साक्षात शिव का दिन है।
भगवान शंकर यूं तो अराधना से प्रसन्न होते हैं लेकिन सावन मास में जलाभिषेक, रुद्राभिषेक का बड़ा महत्व है। वेद मंत्रों के साथ भगवान शंकर को जलधारा अर्पित करना साधक के आध्यात्मिक जीवन के लिए महाऔषधि के सामान है। पांच तत्व में जल तत्व बहुत महत्वपूर्ण है। पुराणों ने शिव के अभिषेक को बहुत पवित्र महत्त्व बताया गया है।
पौराणिक कथाओं में वर्णन आता है कि इसी मास में समुद्र मंथन किया गया था। समुद्र मथने के बाद जो विष निकला उसे भगवान शंकर ने कंठ में समाहित कर सृष्टि की रक्षा की लेकिन विषपान से महादेव का कंठ नीलवर्ण हो गया। इसीसे उनका नाम नीलकंठ महादेव पड़ा। विष के प्रभाव को कम करने के लिए सभी देवी-देवताओं ने उन्हें जल अर्पित किया। इसलिए शिवलिंग पर जल चढ़ाने का खास महत्त्व है। यही वजह है कि श्रावण मास में भोले को जल चढ़ाने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। शिवपुराण में उल्लेख है कि भगवान शिव स्वयं ही जल हैं। इसलिए जल से उनकी अभिषेक के रुप में अराधना का उत्तमोत्तम फल है जिसमें कोई संशय नहीं है।
पुराणों में यह भी कहा गया है कि सावन के महीने में सोमवार के दिन शिवजी को बेलपत्र चढ़ाने से तीन जन्मों के पापों से मुक्ति मिलती है। इसलिए इन दिनों शिव की उपासना का बहुत महत्त्व है।


 

pavitr saavan maah kee shuruaat ho gaee hai. shiv pooja ke lie atyant phaladaayee maane jaane vaale is maah mein somavaar ke din bhagavaan bholenaath kee vishesh pooja ka mahattv hai. aaj saavan ka pahala somavaar hai.
bhagavaan shiv ko saavan yaanee shraavan ka maheena behad priy hai jisamen vah apane bhakton par atishay krpa barasaate hain. aisee maanyata hai ki is maheene mein khaasakar somavaar ke din vrat-upavaas aur pooja paath (rudraabhishek,kavach paath,jaap ityaadi) ka vishesh laabh hota hai. sanaatan dharm mein yah maheena behad pavitr maana jaata hai.
shaastron ke anusaar somavaar himaanshu yaani chandrama ka hee din hai. sthool roop mein abhilakshana vidhi se bhee yadi dekha jae to chandrama kee pooja bhee svayan bhagavaan shiv kee praapt ho jaatee hai , kyonki chandrama ka nivaas bhee bhujang bhooshan bhagavaan shiv ka sir hee hai. som matalab saakshaat shiv ka din hai.
bhagavaan shankar yoon to araadhana se prasann hote hain lekin saavan maas mein jalaabhishek, rudraabhishek ka bada mahatv hai. ved mantron ke saath bhagavaan shankar ko jaladhaara arpit karana saadhak ke aadhyaatmik jeevan ke lie mahaaushadhi ke saamaan hai. paanch tatv mein jal tatv bahut mahatvapoorn hai. puraanon ne shiv ke abhishek ko bahut pavitr mahattv bataaya gaya hai.
pauraanik kathaon mein varnan aata hai ki isee maas mein samudr manthan kiya gaya tha. samudr mathane ke baad jo vish nikala use bhagavaan shankar ne kanth mein samaahit kar srshti kee raksha kee lekin vishapaan se mahaadev ka kanth neelavarn ho gaya. iseese unaka naam neelakanth mahaadev pada. vish ke prabhaav ko kam karane ke lie sabhee devee-devataon ne unhen jal arpit kiya. isalie shivaling par jal chadhaane ka khaas mahattv hai. yahee vajah hai ki shraavan maas mein bhole ko jal chadhaane se vishesh phal kee praapti hotee hai. shivapuraan mein ullekh hai ki bhagavaan shiv svayan hee jal hain. isalie jal se unakee abhishek ke rup mein araadhana ka uttamottam phal hai jisamen koee sanshay nahin hai.
puraanon mein yah bhee kaha gaya hai ki saavan ke maheene mein somavaar ke din shivajee ko belapatr chadhaane se teen janmon ke paapon se mukti milatee hai. isalie in dinon shiv kee upaasana ka bahut mahattv hai.

Comments

comments