Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » संस्कार क्या हैं ?

संस्कार क्या हैं ?

sanskaar-kya-hain

sanskaar-kya-hain

sanskaar kya hain ?

sanskaar kya hain ?

भारतीय संस्कृति में संस्कार का साधारण अर्थ किसी दोषयुक्त वस्तु को दोषरहित करना है । अर्थात् जिस प्रक्रिया से वस्तु को दोषरहित किया जाएं उसमें अतिशय का आदान कर देना ही ‘संस्कार’ है । संस्कार मन:शोधन की प्रक्रिया हैं । गौतम धर्मसूत्र के अनुसार संस्कार उसे कहते हैं, जिससे दोष हटते हैं और गुणों की वृद्धि होती है । हमारे ऋषि मुनि यह मानते थे कि जन्म जन्मांतरों की वासनाओं का लेप जीवात्मा पर रहता है । पूर्व – जन्म के इन्हीं संस्कारों के अनुरूप ही जीव नया शरीर धारण करता है, अर्थात् जन्म लेती है और उन संस्कारों के अनुरूप ही कर्मों के प्रति उसकी आसक्ति होती है । इस प्रकार जीव सर्वथा संस्कारों का दास होता है । मीमंसा दर्शनकार के मतानुसार – कर्मबीज संस्कार: । अर्थात् संस्कार ही कर्म का बीज है तथा ‘तन्न्मित्ता सृष्टि:’ अर्थात् वहीं सृष्टि का आदि कारण है । प्रत्येक मनुष्य का आचरण उसके पूर्वजन्मों के निजी संस्कारों के अतिरिक्त उसके वर्तमान वंश या कुल के संस्कारों से बी प्रभावित रहता है । अत: संस्कारों का उद्देश्य पहले से उपस्थित गुणों, अवगुणों का परिमार्जन करके विद्यमान गुणों एवं योग्यताओं को स्वस्थ रूप से विकार का अवसर है । मानव जीवन के सभी प्रकार के कर्मों का कारण ‘मन’ ही है । वह सभी अच्छे बुरे कर्म मन से ही करता है । बार – बार किसी कर्म को करने से उसकी विशेष प्रकार की आदतें बन जाती हैं ये ही आदतें मन के गहरे तल पर जमा रहती हैं, जो मृत्यु के बाद मन के साथ ही अपने सूक्ष्म शरीर में बनी रहती है और नया शरीर धारण करने पर अगले जन्म में उसी प्रकार के कर्म करने की प्रेरणा बन जाती हैं । इन्हीं को ‘संस्कार’ कहा जाता है । ये संस्कार प्रत्येक जन्म में संग्रहित होते चले जाते हैं, जिससे इनका एक विशाल भंडार बन जाता है, जिसे संचित कर्म कहा जाता है । इन संचित कर्मों का कुछ ही भाग एक योनि (जीवन) में भोगने के लिए उपस्थित रहता है, जो वर्तमान जीवन में प्रेरणा का कार्य करता है । इन कर्मों से पुन: नए संस्कार बनते हैं । इस प्रकार इन संस्कारों की एक अंतहीन श्रृंखला बनती जाती है, जिससे मनुष्य के व्यक्तितत्व का निर्माण होता है । संस्कारों की परंपरा का व्यक्ति पर अद्वितीय प्रभाव माना जाता है । संस्कारों के समय किए जाने वाले विभिन्न कर्मकांडों, यज्ञ, मंत्रोच्चारण आदि की प्रक्रिया विज्ञान के पूरी तरह असंदिग्ध है । कर्मों के साथ साथ अच्छे – बुरे संस्कार भी बनते रहते हैं । अत: संस्कार प्रणाली की अधीन मनुष्य किसी बात को सामान्य उपदेशों, प्रशिक्षणों अथवा परामर्शों द्वारा दिए गए निर्देशों की तुलना में अनुकूल वातावरण में जल्दी सीखता है । संस्कारों की संख्या अलग अलग विद्वानों ने अलग अलग बताई है । गौतस्मृति में 40 संस्कारों का उल्लेख किया गया है । कहीं कहीं 48 संस्कारों का उल्लेख मिलता है । महर्षि अंगिरा ने 25 संस्कार बताए हैं । दस कर्मपद्धति के मतानुसार संस्कारों की संख्या 10 मानी गई है । वेद का कर्म मामांसादर्शन 16 संस्कारों को ही मान्यता प्रदान करता है । आधुनिक विद्वानों ने इन्हें सरल और कम खर्चीला बनाने का प्रयास किया है । जिससे अधिक से अधिक लोग इनसे लाभ उठा सके । इनमें प्रथम 8 संस्कार प्रवृत्ति मार्ग में एवम शेष 8 मुक्तिमार्ग के लिए उपयोगी हैं । प्रत्येक संस्कार का अपना महत्त्व , प्रभाव और परिणाम होता है । यदि विधि विधान से उचित समय और वातावरण में इन संस्कारों को कराया जाएं, तो उनका प्रभाव असाधारण होता है । इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को ये संस्कार अवश्य करने चाहिए ।

wish4me to English

bhaarateey sanskrti mein sanskaar ka saadhaaran arth kisee doshayukt vastu ko dosharahit karana hai . arthaat jis prakriya se vastu ko dosharahit kiya jaen usamen atishay ka aadaan kar dena hee ‘sanskaar’ hai . sanskaar man:shodhan kee prakriya hain . gautam dharmasootr ke anusaar sanskaar use kahate hain, jisase dosh hatate hain aur gunon kee vrddhi hotee hai . hamaare rshi muni yah maanate the ki janm janmaantaron kee vaasanaon ka lep jeevaatma par rahata hai . poorv – janm ke inheen sanskaaron ke anuroop hee jeev naya shareer dhaaran karata hai, arthaat janm letee hai aur un sanskaaron ke anuroop hee karmon ke prati usakee aasakti hotee hai . is prakaar jeev sarvatha sanskaaron ka daas hota hai . meemansa darshanakaar ke mataanusaar – karmabeej sanskaar: . arthaat sanskaar hee karm ka beej hai tatha ‘tannmitta srshti:’ arthaat vaheen srshti ka aadi kaaran hai . pratyek manushy ka aacharan usake poorvajanmon ke nijee sanskaaron ke atirikt usake vartamaan vansh ya kul ke sanskaaron se bee prabhaavit rahata hai . at: sanskaaron ka uddeshy pahale se upasthit gunon, avagunon ka parimaarjan karake vidyamaan gunon evan yogyataon ko svasth roop se vikaar ka avasar hai . maanav jeevan ke sabhee prakaar ke karmon ka kaaran ‘man’ hee hai . vah sabhee achchhe bure karm man se hee karata hai . baar – baar kisee karm ko karane se usakee vishesh prakaar kee aadaten ban jaatee hain ye hee aadaten man ke gahare tal par jama rahatee hain, jo mrtyu ke baad man ke saath hee apane sookshm shareer mein banee rahatee hai aur naya shareer dhaaran karane par agale janm mein usee prakaar ke karm karane kee prerana ban jaatee hain . inheen ko ‘sanskaar’ kaha jaata hai . ye sanskaar pratyek janm mein sangrahit hote chale jaate hain, jisase inaka ek vishaal bhandaar ban jaata hai, jise sanchit karm kaha jaata hai . in sanchit karmon ka kuchh hee bhaag ek yoni (jeevan) mein bhogane ke lie upasthit rahata hai, jo vartamaan jeevan mein prerana ka kaary karata hai . in karmon se pun: nae sanskaar banate hain . is prakaar in sanskaaron kee ek antaheen shrrnkhala banatee jaatee hai, jisase manushy ke vyaktitatv ka nirmaan hota hai . sanskaaron kee parampara ka vyakti par adviteey prabhaav maana jaata hai . sanskaaron ke samay kie jaane vaale vibhinn karmakaandon, yagy, mantrochchaaran aadi kee prakriya vigyaan ke pooree tarah asandigdh hai . karmon ke saath saath achchhe – bure sanskaar bhee banate rahate hain . at: sanskaar pranaalee kee adheen manushy kisee baat ko saamaany upadeshon, prashikshanon athava paraamarshon dvaara die gae nirdeshon kee tulana mein anukool vaataavaran mein jaldee seekhata hai . sanskaaron kee sankhya alag alag vidvaanon ne alag alag bataee hai . gautasmrti mein 40 sanskaaron ka ullekh kiya gaya hai . kaheen kaheen 48 sanskaaron ka ullekh milata hai . maharshi angira ne 25 sanskaar batae hain . das karmapaddhati ke mataanusaar sanskaaron kee sankhya 10 maanee gaee hai . ved ka karm maamaansaadarshan 16 sanskaaron ko hee maanyata pradaan karata hai . aadhunik vidvaanon ne inhen saral aur kam kharcheela banaane ka prayaas kiya hai . jisase adhik se adhik log inase laabh utha sake . inamen pratham 8 sanskaar pravrtti maarg mein evam shesh 8 muktimaarg ke lie upayogee hain . pratyek sanskaar ka apana mahattv , prabhaav aur parinaam hota hai . yadi vidhi vidhaan se uchit samay aur vaataavaran mein in sanskaaron ko karaaya jaen, to unaka prabhaav asaadhaaran hota hai . isalie pratyek vyakti ko ye sanskaar avashy karane chaahie

Comments

comments