Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » संत कबीरदास जंयती पर विशेष- कबीर दास की शिक्षा

संत कबीरदास जंयती पर विशेष- कबीर दास की शिक्षा

sant-kabir-das-jayanti-story

sant-kabir-das-jayanti-story

48

एक ब्राह्मण हमेशा धर्म-कर्म में मग्न रहता था। उसने जीवनभर पूजा पाठ किए बिना कभी भी अन्न ग्रहण नहीं किया था। जब वृद्धावस्था आई तो वह बीमार पड़ गया और अपना अंत समय निकट जानकर विचार करने लगा, काश! प्राण निकलने से पूर्व मुझे गंगाजल की एक बूंद मिल जाती तो मेरे पापों का नाश हो जाता और मुझे मुक्ति मिल जाती।
तभी कबीरदास घूमते घामते उस ब्राह्मण के घर पहुंचे और उसकी कुशल क्षेम पूछकर कुछ सेवा करने की अभिलाषा व्यक्त की। उस ब्राह्मण ने कहा, बेटा, मैं सेवा करवाने का इच्छुक तो नहीं हूं लेकिन तुम्हारी सेवा भावना है तो मुझे एक लोटा गंगाजल लाकर दे दो। मैं मरने से पूर्व गंगाजल का सेवन कर पापों से मुक्ति चाहता हूं।
कबीरदास गंगा किनारे गए और अपने ही लोटे में गंगाजल ले आए। ब्राह्मण ने जब देखा कि कबीरदास अपने लोटे में ही गंगाजल लाए हैं तो वह बोला, तुम्हें अपने लोटे में गंगाजल लाने के लिए किसने कहा था। जुलाह के लोटे से गंगाजल ग्रहण कर मैं पापों से कैसे मुक्त हो सकूंगा। इससे तो मेरा धर्म ही भ्रष्ट हो जायेगा।
कबीरदास बोले, हे ब्राह्मण देवता! जब गंगाजल में इतनी ही शक्ति नहीं है कि वह जुलाहे के लोटे को पवित्र कर सके, तब आपको उस जल से कैसे मुक्ति मिल पाएगी?
कबीरदास का प्रश्न सुनकर वह ब्राह्मण निरूत्तर हो गया और क्षमा भावना से उनकी ओर ही देखने लगा।”माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।”

wish4me in English

ek braahman hamesha dharm-karm mein magn rahata tha. usane jeevanabhar pooja paath kie bina kabhee bhee ann grahan nahin kiya tha. jab vrddhaavastha aaee to vah beemaar pad gaya aur apana ant samay nikat jaanakar vichaar karane laga, kaash! praan nikalane se poorv mujhe gangaajal kee ek boond mil jaatee to mere paapon ka naash ho jaata aur mujhe mukti mil jaatee.
tabhee kabeeradaas ghoomate ghaamate us braahman ke ghar pahunche aur usakee kushal kshem poochhakar kuchh seva karane kee abhilaasha vyakt kee. us braahman ne kaha, beta, main seva karavaane ka ichchhuk to nahin hoon lekin tumhaaree seva bhaavana hai to mujhe ek lota gangaajal laakar de do. main marane se poorv gangaajal ka sevan kar paapon se mukti chaahata hoon.
kabeeradaas ganga kinaare gae aur apane hee lote mein gangaajal le aae. braahman ne jab dekha ki kabeeradaas apane lote mein hee gangaajal lae hain to vah bola, tumhen apane lote mein gangaajal laane ke lie kisane kaha tha. julaah ke lote se gangaajal grahan kar main paapon se kaise mukt ho sakoonga. isase to mera dharm hee bhrasht ho jaayega.
kabeeradaas bole, he braahman devata! jab gangaajal mein itanee hee shakti nahin hai ki vah julaahe ke lote ko pavitr kar sake, tab aapako us jal se kaise mukti mil paegee?
kabeeradaas ka prashn sunakar vah braahman niroottar ho gaya aur kshama bhaavana se unakee or hee dekhane laga.”maala pherat jug bhaya, phira na man ka pher,
kar ka manaka daar de, man ka manaka pher.”

Comments

comments