Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru Parvachan » संवाद संभव न होने पर मौन रहना उचित

संवाद संभव न होने पर मौन रहना उचित

savand-sambhav-na-hone-per-mon-rahna-uchit

savand-sambhav-na-hone-per-mon-rahna-uchit

Savand Sambhav Na Hone Per Mon Rahna Uchit

एक बहरा चरवाहा पहाड़ों पर भेड़ें चरा रहा था। दोपहर हो गई थी लेकिन उसकी पत्नी अभी तक भोजन लेकर नहीं आई थी। जब भूख असहनीय हो गई तो वह अपने स्थान से थोड़ा नीचे उतरा कि तभी उसे एक लकड़हारा पेड़ पर बैठा दिखाई दिया। चरवाहे ने नीचे से ही कहा- जरा मेरी भेड़ों का ख्याल रखना भाई, मै घर जा रहा हूं खाना लेने। लकड़हारा भी बहरा था। उसनें कहा जा जा मेरे पास बातचीत का समय नहीं है। चरवाहे को लकड़हारे के हावभाव देखकर लगा कि उसने उसकी बात मान ली है। वह घर गया और रोटी लेकर तत्काल वापस लौट आया।
आकर उसने भेड़ो की गिनती की। गिनती पूरी निकली। चरवाहे ने सोचा कि लकड़हारे ने उसकी भेड़ों की अच्छी देखभाल की है। उसे भी बदले में कुछ अच्छा करना चाहिए। यह सोचकर उसने भेड़ों के समूह में से एक लंगड़ी भेड़ को निकाला और उस लकड़हारे को भेंट देने के लिए चला। चरवाहे को लंगड़ी भेड़ के साथ आता देख कर लगा कि यह पूछने आया है कि यह मेरी भेड़ लंगड़ी कैसे हुई? उसने गुस्से में कहा- क्या मतलब ? मैने तेरी भेड़ लगड़ी थोड़े ही की है। विवाद बढ़ने लगा। दोनों एक दूसरे की बात सुन नहीं सकते थे। एक कह रहा था मैने तेरी भेड़ देखी ही नहीं? दूसरा कह रहा था इसे ले लो।
एक फकीर वहां से गुजर रहा था। उसे दोनों ने पकड़ लिया। उसने मौन की प्रतिज्ञा ले रखी थी, सो उसने दोनों को घूर कर देखा। लकड़हारा और चरवाहा फकीर से भयभीत हो भाग गए। कुल मिलाकर कोई किसी को अपना पक्ष ना समझ पाया। यह प्रतीकात्मक कथा संकेत करती है कि जहां संवाद संभव न हो, वहां अपने रास्ते पर निकलने में ही समझदारी है।
सार- वैसे तो संवादहीनता कदापि उचित नहीं है, किंतु जहां समझ का योग्य स्तर न हो, वहां मौन रहकर कार्य करना ही श्रेयस्कर है।


ek bahara charavaaha pahaadon par bheden chara raha tha. dopahar ho gaee thee lekin usakee patnee abhee tak bhojan lekar nahin aaee thee. jab bhookh asahaneey ho gaee to vah apane sthaan se thoda neeche utara ki tabhee use ek lakadahaara ped par baitha dikhaee diya. charavaahe ne neeche se hee kaha- jara meree bhedon ka khyaal rakhana bhaee, mai ghar ja raha hoon khaana lene. lakadahaara bhee bahara tha. usanen kaha ja ja mere paas baatacheet ka samay nahin hai. charavaahe ko lakadahaare ke haavabhaav dekhakar laga ki usane usakee baat maan lee hai. vah ghar gaya aur rotee lekar tatkaal vaapas laut aaya.

aakar usane bhedo kee ginatee kee. ginatee pooree nikalee. charavaahe ne socha ki lakadahaare ne usakee bhedon kee achchhee dekhabhaal kee hai. use bhee badale mein kuchh achchha karana chaahie. yah sochakar usane bhedon ke samooh mein se ek langadee bhed ko nikaala aur us lakadahaare ko bhent dene ke lie chala. charavaahe ko langadee bhed ke saath aata dekh kar laga ki yah poochhane aaya hai ki yah meree bhed langadee kaise huee? usane gusse mein kaha- kya matalab? maine teree bhed lagadee thode hee kee hai. vivaad badhane laga. donon ek doosare kee baat sun nahin sakate the. ek kah raha tha maine teree bhed dekhee hee nahin? doosara kah raha tha ise le lo.
ek phakeer vahaan se gujar raha tha. use donon ne pakad liya. usane maun kee pratigya le rakhee thee, so usane donon ko ghoor kar dekha. lakadahaara aur charavaaha phakeer se bhayabheet ho bhaag gae. kul milaakar koee kisee ko apana paksh na samajh paaya. yah prateekaatmak katha sanket karatee hai ki jahaan sanvaad sambhav na ho, vahaan apane raaste par nikalane mein hee samajhadaaree hai.

Comments

comments