Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » सेंट मेरी चर्च

सेंट मेरी चर्च

sent-meree-charch

sent-meree-charch

mairee charch

sent meree charch

सेंट मैरी चर्च चर्च (Saint Mary Church) को चिरथल्ला मुट्टम सेंट मैरी फैरोना चर्च के नाम से भी जाना जाता है। चिरथल्ला एक छोटा शहर है जो केरल के एलापुजा नामक जिले में आता है। प्राचीन समय में यह शहर केरल के मुख्य व्यापारिक केंद्रों में से एक था। माना जाता है कि इस शहर को ज्यूस लोगों ने बसाया था।
चर्च का इतिहास (Brief History of Church)
इस चर्च का स्थापत्य पुर्तगाली शैली में किया गया था। कहते हैं कि सबसे पहले संत थॉमस केरल में यीशु के संदेशों का प्रचार-प्रसार करने आए थे। उन्होंने ही सबसे पहले केरल में सात चर्चों की स्थापना की थी। उसके बाद ईसाई धर्म में विश्वास करने वाले लोगों की संख्या बढ़ने लगी और उन्होंने आसपास के क्षेत्रों में भी चर्च स्थापित कर लिए। चिरथल्ला में बनाया गया मुट्टम चर्च उनमें से ही एक है।
चर्च के बारे में (About the Church in Hindi)
चर्च के अंदर स्थापित मदर मैरी की मूर्ति फ्रांस से मँगवाई गई थी। मूर्ति में मदर मैरी के अद्भुत स्वरूप को उकेरा गया है। सेंट मैरी मुट्टम चर्च मदर मैरी के उन चुनिंदा चर्चों में से एक है, जहाँ हर धर्म के लोग मदर मैरी की पूजा अर्चना करने आते हैं। इस चर्च की मान्यता है कि यहां स्थापित अमलोलभव माता अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी करती हैं और उन्हें दुःख-दर्द से दूर रखती हैं।

wish4me to English

sent mairee charch charch (sent mairee charch) ko chirathalla muttam sent mairee phairona charch ke naam se bhee jaana jaata hai. chirathalla ek chhota shahar hai jo keral ke elaapuja naamak jile mein aata hai. praacheen samay mein yah shahar keral ke mukhy vyaapaarik kendron mein se ek tha. maana jaata hai ki is shahar ko jyoos logon ne basaaya tha.
charch ka itihaas (charch ka sankshipt itihaas)
is charch ka sthaapaty purtagaalee shailee mein kiya gaya tha. kahate hain ki sabase pahale sant thomas keral mein yeeshu ke sandeshon ka prachaar-prasaar karane aae the. unhonne hee sabase pahale keral mein saat charchon kee sthaapana kee thee. eesaee dharm mein vishvaas karane vaale logon baad usake kee sankhya badhane lagee aur unhonne aasapaas ke kshetron mein bhee charch sthaapit kar lie. chirathalla mein banaaya gaya muttam charch unamen se hee ek hai.
charch ke baare mein (hindee mein charch ke baare mein)
charch ke andar sthaapit madar mairee kee moorti phraans se mangavaee gaee thee. moorti mein madar mairee ke adbhut svaroop ko ukera gaya hai. sent mairee muttam charch madar mairee ke un chuninda charchon mein se ek hai, jahaan har dharm ke log madar mairee kee pooja archana karane aate hain. is charch kee maanyata hai ki yahaan sthaapit amalolabhav maata apane bhakton kee har manokaamana pooree karatee hain aur unhen duhkh-dard se door rakhatee hain.

Comments

comments