Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » Shibi, The Compassionate King

Shibi, The Compassionate King

shibi-compassionate-king

shibi-compassionate-king

 

Image result for Shibi, The Compassionate King

अच्छे और बुरे लोगों की पहचान

बहुत समय पहले की बात है। नदी के तट पर एक गांव बसा था और उसी के नजदीक एक संत का आश्रम था। एक बार संत अपने शिष्यों के साथ नदी में स्नान कर रहे थे, तभी एक राहगीर वहां आया और संत से पूछने लगा, ‘‘महाराज, मैं परदेस से आया हूं और इस जगह पर नया हूं। क्या आप बता सकते हैं कि इस गांव में किस तरह
के लोग रहते हैं?’’
यह सुनकर संत ने उससे कहा, ‘‘भाई, मैं तुम्हारे सवाल का जवाब बाद में दूंगा। पहले तुम मुझे यह बताओ कि तुम अभी जहां से आए हो, वहां किस प्रकार के लोग रहते हैं?’’
इस पर वह व्यक्ति बोला, ‘‘उनके बारे में क्या कहूं महाराज! वहां तो एक से एक कपटी, दुष्ट और बुरे लोग बसे हुए हैं।’’
तब संत ने उससे कहा, ‘‘तुम्हें इस गांव में भी बिल्कुल उसी तरह के लोग मिलेंगे-कपटी, दुष्ट और बुरे।’’
इतना सुनकर वह राहगीर आगे बढ़ गया। कुछ समय बाद वहां से एक और राहगीर का गुजरना हुआ। वह भी किसी नई जगह पर बसने की इच्छा रखता था। उसने संत से पूछा, ‘‘महात्मन, मुझे यहां की आबोहवा ठीक लगती है। क्या आप बता सकते हैं कि इस गांव में कैसे लोग रहते हैं?’’
संत ने उससे भी वही सवाल पूछा, जो उन्होंने पहले राहगीर से पूछा था। इस पर राहगीर ने जवाब दिया, ‘‘महात्मन, मैं जहां से आया हूं, वहां तो बहुत ही सभ्य, सुलझे और नेक दिल इंसान रहते हैं।’’
तब संत ने उससे कहा, ‘‘तुम्हें यहां भी उसी तरह के लोग मिलेंगे। सभ्य, सुलझे हुए और नेकदिल। तुम्हें यहां रहने में कोई परेशानी नहीं होगी।’’ इतना सुनते ही वह राहगीर संत को प्रणाम कर आगे बढ़ गया।
शिष्य यह सब देख रहे थे। राहगीर के जाते ही उन्होंने संत से पूछा, ‘‘गुरुदेव, आपने दोनों राहगीरों को एक ही स्थान के बारे में अलग-अलग बातें क्यों बताईं?’’
इस पर संत ने उनसे कहा, ‘‘वत्स, आमतौर पर हम चीजों को वैसे नहीं देखते, जैसी वे हैं। बल्कि उन्हें हम उसी हिसाब से देखते हैं, जैसे कि हम खुद हैं। हर जगह हर प्रकार के लोग होते हैं। अब यह हम पर निर्भर करता है कि हम किस तरह के लोगों को देखना चाहते हैं। अगर हम अच्छाई देखना चाहें तो हमें अच्छे लोग मिलेंगे और बुराई देखना चाहें तो बुरे।’’
यह सुनकर शिष्यों को उनकी बात का मर्म समझ में आ गया और उन्होंने जीवन में सिर्फ अच्छाइयों पर ध्यान केंद्रित करने का निश्चय किया।

achchhe aur bure logon kee pahachaan
bahut samay pahale kee baat hai. nadee ke tat par ek gaanv basa tha aur usee ke najadeek ek sant ka aashram tha. ek baar sant apane shishyon ke saath nadee mein snaan kar rahe the, tabhee ek raahageer vahaan aaya aur sant se poochhane laga, ‘‘mahaaraaj, main parades se aaya hoon aur is jagah par naya hoon. kya aap bata sakate hain ki is gaanv mein kis tarah
ke log rahate hain?’’
yah sunakar sant ne usase kaha, ‘‘bhaee, main tumhaare savaal ka javaab baad mein doonga. pahale tum mujhe yah batao ki tum abhee jahaan se aae ho, vahaan kis prakaar ke log rahate hain?’’
is par vah vyakti bola, ‘‘unake baare mein kya kahoon mahaaraaj! vahaan to ek se ek kapatee, dusht aur bure log base hue hain.’’
tab sant ne usase kaha, ‘‘tumhen is gaanv mein bhee bilkul usee tarah ke log milenge-kapatee, dusht aur bure.’’
itana sunakar vah raahageer aage badh gaya. kuchh samay baad vahaan se ek aur raahageer ka gujarana hua. vah bhee kisee naee jagah par basane kee ichchha rakhata tha. usane sant se poochha, ‘‘mahaatman, mujhe yahaan kee aabohava theek lagatee hai. kya aap bata sakate hain ki is gaanv mein kaise log rahate hain?’’
sant ne usase bhee vahee savaal poochha, jo unhonne pahale raahageer se poochha tha. is par raahageer ne javaab diya, ‘‘mahaatman, main jahaan se aaya hoon, vahaan to bahut hee sabhy, sulajhe aur nek dil insaan rahate hain.’’
tab sant ne usase kaha, ‘‘tumhen yahaan bhee usee tarah ke log milenge. sabhy, sulajhe hue aur nekadil. tumhen yahaan rahane mein koee pareshaanee nahin hogee.’’ itana sunate hee vah raahageer sant ko pranaam kar aage badh gaya.
shishy yah sab dekh rahe the. raahageer ke jaate hee unhonne sant se poochha, ‘‘gurudev, aapane donon raahageeron ko ek hee sthaan ke baare mein alag-alag baaten kyon bataeen?’’
is par sant ne unase kaha, ‘‘vats, aamataur par ham cheejon ko vaise nahin dekhate, jaisee ve hain. balki unhen ham usee hisaab se dekhate hain, jaise ki ham khud hain. har jagah har prakaar ke log hote hain. ab yah ham par nirbhar karata hai ki ham kis tarah ke logon ko dekhana chaahate hain. agar ham achchhaee dekhana chaahen to hamen achchhe log milenge aur buraee dekhana chaahen to bure.’’
yah sunakar shishyon ko unakee baat ka marm samajh mein aa gaya aur unhonne jeevan mein sirph achchhaiyon par dhyaan kendrit karane ka nishchay kiya.

 

 

 

Comments

comments