Friday , 24 November 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » शिक्षाप्रदकहानियां‬- बुरे समय में खुद को रखे शांत !

शिक्षाप्रदकहानियां‬- बुरे समय में खुद को रखे शांत !

shikshaaprad-kahaaniyaan%E2%80%AC-bure-samay-mein-khud-ko-rakhen-shaant

shikshaaprad-kahaaniyaan%E2%80%AC-bure-samay-mein-khud-ko-rakhen-shaant

10

शाम का समय था। महात्मा बुद्ध एक शिला पर बैठे हुए थे। वह डूबते सूर्य को एकटक देख रहे थे। तभी उनका शिष्य आया और गुस्से में बोला, “गुरुजी” “रामजी” नाम के जमींदार ने मेरा अपमान किया है। आप तुरंत चलें, उसे उसकी मूर्खता का सबक सिखाना होगा।
महात्मा बुद्ध मुस्कुराकर बोले, प्रिय तुम बौद्ध हो, सच्चे बौद्ध का अपमान करने की शक्ति किसी में नहीं होती। तुम इस प्रसंग को भुलाने की कोशिश करो। जब प्रसंग को भुला दोगे, तो अपमान कहां बचेगा?
लेकिन तथागत, उस धूर्त ने आपके प्रति भी अपशब्दों का प्रयोग किया है। आपको चलना ही होगा। आपको देखते ही वह अवश्य शर्मिंदा हो जाएगा और अपने किए की क्षमा मांगेगा। बस, मैं संतुष्ट हो जाउंगा।
महात्मा बुद्ध समझ गए कि शिष्य में प्रतिकार की भावना प्रबल हो उठी है। इस पर सदुपदेश का प्रभाव नहीं पड़ेगा। कुछ विचार करते हुए वह बोले, अच्छा वत्स! यदि ऐसी बात है तो मैं अवश्य ही रामजी के पास चलूंगा, और उसे समझाने की पूरी कोशिश करूंगा। बुद्ध ने कहा, हम सुबह चलेंगे।
सुबह हुई, बात आई-गई हो गई। शिष्य अपने काम में लग गया और महात्मा बुद्ध अपनी साधना में। दूसरे दिन जब दोपहर होने पर भी शिष्य ने बुद्ध से कुछ न कहा तो बुद्ध ने स्वयं ही शिष्य से पूछा- प्रियवर! आज रामजी के पास चलोगे न ?
नहीं गुरुवर! मैंने जब घटना पर फिर से विचार किया तो मुझे इस बात का आभास हुआ कि भूल मेरी ही थी। मुझे अपने कृत्य पर भारी पश्चाताप है। अब रामजी के पास चलने की कोई जरूरत नहीं।
उन्होंने ने हंसते हुए कहा, यदि ऐसी बात है तो अब अवश्य ही हमें रामजी महोदय के पास चलना होगा। अपनी भूल की क्षमा याचना नहीं करोगे।


 

shaam ka samay tha. mahaatma buddh ek shila par baithe hue the. vah doobate soory ko ekatak dekh rahe the. tabhee unaka shishy aaya aur gusse mein bola, “gurujee” “raamajee” naam ke jameendaar ne mera apamaan kiya hai. aap turant chalen, use usakee moorkhata ka sabak sikhaana hoga.
mahaatma buddh muskuraakar bole, priy tum bauddh ho, sachche bauddh ka apamaan karane kee shakti kisee mein nahin hotee. tum is prasang ko bhulaane kee koshish karo. jab prasang ko bhula doge, to apamaan kahaan bachega?
lekin tathaagat, us dhoort ne aapake prati bhee apashabdon ka prayog kiya hai. aapako chalana hee hoga. aapako dekhate hee vah avashy sharminda ho jaega aur apane kie kee kshama maangega. bas, main santusht ho jaunga.
mahaatma buddh samajh gae ki shishy mein pratikaar kee bhaavana prabal ho uthee hai. is par sadupadesh ka prabhaav nahin padega. kuchh vichaar karate hue vah bole, achchha vats! yadi aisee baat hai to main avashy hee raamajee ke paas chaloonga, aur use samajhaane kee pooree koshish karoonga. buddh ne kaha, ham subah chalenge.
subah huee, baat aaee-gaee ho gaee. shishy apane kaam mein lag gaya aur mahaatma buddh apanee saadhana mein. doosare din jab dopahar hone par bhee shishy ne buddh se kuchh na kaha to buddh ne svayan hee shishy se poochha- priyavar! aaj raamajee ke paas chaloge na ?
nahin guruvar! mainne jab ghatana par phir se vichaar kiya to mujhe is baat ka aabhaas hua ki bhool meree hee thee. mujhe apane krty par bhaaree pashchaataap hai. ab raamajee ke paas chalane kee koee jaroorat nahin.
unhonne ne hansate hue kaha, yadi aisee baat hai to ab avashy hee hamen raamajee mahoday ke paas chalana hoga. apanee bhool kee kshama yaachana nahin karoge.

Comments

comments